Homeदुनियाअमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव : राष्ट्रपति बाइडेन के खिलाफ ताल ठोक रहे अश्वेत मतदाता 

अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव : राष्ट्रपति बाइडेन के खिलाफ ताल ठोक रहे अश्वेत मतदाता 

Published on

न्यूज़ डेस्क 

अगले साल अमेरिका में भी राष्ट्रपति पद के लिए चुनाव है। मौजूद राष्ट्रपति जो बाइडेन के खिलाफ बड़ी ताकत के साथ पूर्व राष्ट्रपति ट्रंप खड़े हैं और ट्रंप जनता के बीच काफी चर्चित भी हो रहे हैं। लेकिन जिस तरह से मौजूदा राष्ट्रपति बाइडेन के खिलाफ अमेरिका के अश्वेत मतदाता एकजुट हो रहे हैं उससे साफ़ लगता है कि आगामी चुनाव में बाइडेन की मुश्किलें बढ़ सकती है।   

जो खबर आ रही है उसके मुताबिक अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन के वोट बैंक को युवा अश्‍वेत मतदाताओं ने हिलाकर रख दिया है, जो देश में रह रहे फिलिस्तीनियों के साथ हो गए हैं और कह रहे हैं कि वे 2024 के राष्ट्रपति चुनाव में उनके लिए तभी वोट करेंगे, जब वह गाजा पट्टी में इजरायल और हमास के बीच चल रहे युद्ध में निर्दोष फिलिस्तीनियों को सुरक्षा की गारंटी देंगे।”डेमोक्रेट्स को लंबे समय से एशिया, मध्य-पूर्व, हिस्पैनिक्स और थोक बहुमत वाले ब्लैक वोट से आने वाले जातीय वोटों का समर्थन प्राप्त है।मीडिया रिपोर्टों से संकेत मिलता है कि डेमोक्रेटिक पार्टी के इन गढ़ों में से किसी को भी 2024 के राष्ट्रपति पद के लिए हल्के में नहीं लिया जा सकता, जिससे जीओपी को फायदा हो सकता है।


            कुछ युवा लोगों और राजनीतिक विशेषज्ञों ने कहा कि युवा अश्‍वेत मतदाताओं के साथ बाइडेन को परेशान करने वाला एक मुद्दा यह है कि क्या उन्होंने फिलिस्तीनियों के लिए अधिक सुरक्षा की मांग करने के लिए पर्याप्त काम किया है।
रिपोर्ट में कहा गया है कि उनका तर्क है कि बाइडेन के रुख, जिसमें तत्काल युद्ध विराम का आह्वान न करना भी शामिल है, के कारण उन्हें अफ्रीकी अमेरिकियों का समर्थन गंवाना पड़ सकता है, जो परंपरागत रूप से डेमोक्रेट के लिए एक वफादार वोटिंग ब्लॉक है।


विशेषज्ञों ने कहा कि एक जगह जहां समर्थन कम होने के शुरुआती संकेत दिख रहे हैं, वह युवा अश्‍वेत लोगों के बीच है।
              न्यू जर्सी में मोंटक्लेयर स्टेट यूनिवर्सिटी में जस्टिस स्टडीज के एसोसिएट प्रोफेसर जेसन विलियम्स ने कहा, “एक नैतिक अनिवार्यता है, जिसे बाइडेन नजरअंदाज करना चाहते हैं और इससे उन्हें और उनके उम्मीदवारों को चुनाव में हार का सामना करना पड़ सकता है।”
बाइडेन ने इस आधार पर युद्धविराम के आह्वान का विरोध किया है कि गाजा पर अभी भी हमास के नियंत्रण के साथ कोई परिणाम अस्वीकार्य है।


            वाशिंगटन में ऐतिहासिक रूप से अश्वेतों के विश्वविद्यालय, हार्वर्ड विश्वविद्यालय में अक्टूबर में एक रैली के दौरान छात्रों ने युद्ध विराम का आह्वान न करने के लिए बाइडेन की आलोचना की और शिकायत की कि उन्होंने फिलिस्तीनियों की मदद के लिए पर्याप्त काम नहीं किया है।दुबई में 2 दिसंबर के भाषण के दौरान, उपराष्ट्रपति कमला हैरिस ने कहा कि “अंतर्राष्ट्रीय मानवीय कानून का सम्मान किया जाना चाहिए” और “बहुत सारे निर्दोष फ़िलिस्तीनी मारे गए हैं”।


 व्हाइट हाउस ने पिछले सप्ताह इजरायल पर गाजा में अपने हवाई और जमीनी आक्रमण को कम करने का रास्ता खोजने के लिए दबाव डाला था, लेकिन इजरायली अधिकारियों ने कहा है कि हमास को हराने और युद्ध खत्म करने में अभी भी “कई महीने” लगेंगे . युद्ध शुरू होने के बाद से बाइडेन की इजरायल की सबसे सीधी आलोचना में उन्होंने इजरायली प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू को चेतावनी दी कि गाजा में “अंधाधुंध बमबारी” के कारण इजरायल हमास के खिलाफ युद्ध में अंतरराष्ट्रीय समर्थन खोना शुरू कर रहा है।

Latest articles

मरियम नवाज बनी पाकिस्तान पंजाब प्रान्त की पहली महिला मुख्यमंत्री 

न्यूज़ डेस्क पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री  नवाज शरीफ की बेटी मरयम नवाज पाकिस्तान के पंजाब...

तमिलनाडु के दो दिवसीय दौरे पर पीएम मोदी , इसरो के दूसरे स्पेसपोर्ट की रखेंगे आधारशिला

न्यूज़ डेस्क पीएम मोदी मंगलवार से तमिलनाडु के दो दिवसीय दौरे पर रहेंगे। जानकारी के...

झारखंड में कांग्रेस को  बड़ा झटका ,सांसद गीता कोड़ा बीजेपी में हुई शामिल 

न्यूज़ डेस्क झारखंड में आज कांग्रेस को बड़ा झटका लगा है। कांग्रेस की सांसद गीता...

आखिर जयंत चौधरी ने क्यों कहा कि अभी एनडीए में शामिल होने की औपचारिक घोषणा नहीं !

न्यूज़ डेस्क रालोद अध्यक्ष जयंत चौधरी क बयान आया है कि अभी एनडीए के...

More like this

मरियम नवाज बनी पाकिस्तान पंजाब प्रान्त की पहली महिला मुख्यमंत्री 

न्यूज़ डेस्क पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री  नवाज शरीफ की बेटी मरयम नवाज पाकिस्तान के पंजाब...

तमिलनाडु के दो दिवसीय दौरे पर पीएम मोदी , इसरो के दूसरे स्पेसपोर्ट की रखेंगे आधारशिला

न्यूज़ डेस्क पीएम मोदी मंगलवार से तमिलनाडु के दो दिवसीय दौरे पर रहेंगे। जानकारी के...

झारखंड में कांग्रेस को  बड़ा झटका ,सांसद गीता कोड़ा बीजेपी में हुई शामिल 

न्यूज़ डेस्क झारखंड में आज कांग्रेस को बड़ा झटका लगा है। कांग्रेस की सांसद गीता...