Homeदेशराहुल ने कहा अभी रोजगार क्रांति का वक्त है ,युवा पीछे मुड़कर...

राहुल ने कहा अभी रोजगार क्रांति का वक्त है ,युवा पीछे मुड़कर नहीं देखें 

Published on

न्यूज़ डेस्क 
भारत जोड़ो न्याय यात्रा पर निकले राहुल गाँधी ने युवाओं को आह्वान करते हुये कहा है देश के युवाओं को अब पीछे मुकदाकर देखने का वक्त नहीं है। वे अपना और अपने देश का भविष्य बनाने के लिए तैयार रहें। राहुल ने कहा कि अभी रोजगार क्रांति का समय है और इसमें सभी युवाओं को आगे बढ़ने की जरूरत है।

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने कहा कि क्या आप जानते हैं कि इस वक्त भारत की सबसे बड़ी ताकत क्या है? हमारी ताकत है 25 साल से कम उम्र की युवा आबादी, जिसकी संख्या इस समय पूरी दुनिया में सबसे अधिक भारत में है।
उन्होंने कहा कि ये वक्त है युवाओं की इस अपार ऊर्जा से भारत की अर्थव्यवस्था को ट्रांसफॉर्म करने का और इसी उद्देश्य से हमने ‘थ्री डाइमेन्शनल स्ट्रेटेजी’ बनाई है।

राहुल ने कहा कि भर्ती भरोसा कानून 30 लाख नियुक्तियों से सिर्फ रोज़गार ही नहीं देगा, बल्कि सरकारी ढांचे की कार्यकुशलता भी बढ़ा देगा।

उन्होंने कहा कि ‘पहली नौकरी पक्की’ योजना सिर्फ एक लाख रू सालाना की नौकरी भर नहीं है, यह भारत की मौजूदा स्किल्ड वर्कफोर्स की संख्या कई गुना बढ़ा देगी।और ‘युवा रोशनी’ 5 हज़ार करोड़ के बजट से ज़िले-ज़िले में एंटरप्रेन्योर तैयार करेगी।युवा ऊर्जा का सकारात्मक उपयोग भारतीय उद्योगों की रीढ़ छोटे उद्योगों  को मज़बूती और अर्थव्यवस्था को रफ्तार देगा।

उन्होंने कहा कि भारत के अवसर काल का एक महत्वपूर्ण दशक ज़ीरो इकोनॉमिक विज़न वाली सरकार के ‘प्रयोगों’ की भेंट चढ़ चुका है। इसलिए अब पीछे मुड़ कर देखने का नहीं, अपना और अपने देश का भविष्य बदलने का वक्त है। अब ‘रोज़गार क्रांति’ का वक्त है।

Latest articles

दूसरे चरण में महाराष्ट्र की आठ सीटों पर होंगे चुनाव ,शिंदे और शरद पवार की प्रतिष्ठा दाव पर 

न्यूज़ डेस्क वैसे तो देश की सभी सीटों पर चुनाव लड़ रहे हर उम्मीदवार की...

चार वर्षीय डिग्री लेने वाले छात्र अब सीधे पीएचडी और नेट की परीक्षा में बैठ सकते हैं 

न्यूज़ डेस्क यूजीसी ने शिक्षा में बड़ा बदलाव करते हुए चार साल की स्नातक डिग्री...

चुनाव के दौरान बयानों गरमाई सियासत ,पीएम मोदी पर खड़गे हुए हमलावर !

न्यूज़ डेस्क चुनाव के दौरान बयानों की राजनीति कब सुर्खियां बन जाए यह कोई नहीं...

बिल गेट्स वित्तपोषक, लेखक, संपादक, सलाहकार के रूप में? डेटा साम्राज्यवाद: मेट्रिक्स में हेरफेर

महामारी विज्ञान में पोस्टडॉक्टरल, जो भारतीय सशस्त्र बलों में दो दशकों से अधिक समय...

More like this

दूसरे चरण में महाराष्ट्र की आठ सीटों पर होंगे चुनाव ,शिंदे और शरद पवार की प्रतिष्ठा दाव पर 

न्यूज़ डेस्क वैसे तो देश की सभी सीटों पर चुनाव लड़ रहे हर उम्मीदवार की...

चार वर्षीय डिग्री लेने वाले छात्र अब सीधे पीएचडी और नेट की परीक्षा में बैठ सकते हैं 

न्यूज़ डेस्क यूजीसी ने शिक्षा में बड़ा बदलाव करते हुए चार साल की स्नातक डिग्री...

चुनाव के दौरान बयानों गरमाई सियासत ,पीएम मोदी पर खड़गे हुए हमलावर !

न्यूज़ डेस्क चुनाव के दौरान बयानों की राजनीति कब सुर्खियां बन जाए यह कोई नहीं...