Homeदेशलोकसभा चुनाव से पहले पीएम मोदी ने की सस्ती दवाओं का ऐलान 

लोकसभा चुनाव से पहले पीएम मोदी ने की सस्ती दवाओं का ऐलान 

Published on

न्यूज़ डेस्क 

पीएम मोदी लोकसभा चुनाव से पहले जनता को बहुत कुछ देते जा रहे हैं। राज्यों में घूम -घूम कर वाे विकास परियोजनाओं की घोषणा तो कर ही रहे अब सौ से ज्यादा दवाओं को काम कीमत पर बेचने क भी ऐलान कर गए हैं।

जानकारी के मुताबिक मोदी सरकार ने सौ से ज्यादा दवाओं की कीमत को काम कर दिया है। ये सभी दवाइयां रोजमर्रा की है।  पहले मोदी सरकार ने रोजमर्रा की 100 दवाओं की कीमत कम कर दी है। इससे देश लाखों लोगों को फायदा होने जा रहा है। कोलेस्ट्रॉल हो या शुगर। ब्लीडिंग हो फिर इन्फेक्शन इनका इलाज कराना सस्ता होगा। रसायन और उर्वरक मंत्रालय यानी मिनिस्ट्री ऑफ कैमिकल एंड फर्टिलाइजर्स अंतर्गत आने वाले डिपार्टमेंट ऑफ फार्मास्यूटिकल्स के नेशनल फार्मास्यूटिकल प्राइसिंग अथॉरिटी ने इसकी अधिसूचना भी जारी कर दी है।

एनपीपीए ने 69 नए फॉर्मुलेशन के रिटेल दाम और 31 की सीलिंग प्राइस तय कर दी है। इसकी अधिसूचना भी जारी कर दी गई है। इसके कारण कोलेस्ट्रॉल, इन्फेक्शन, ब्लीडिंग, कैल्शियम, विटामिन डी3, शुगर, दर्द, बुखार, बच्चों के एंटीबायोटिक्स समेत 100 दवाएं सस्ती हो गई हैं। बच्चों की एंटीबायोटिक्स दवाएं सस्ती होने से बाल स्वास्थ्य सेवाओं पर सरकार के फोकस को जाना जा सकता है।     

एनपीपीए के नई अधिसूचना के साथ ही एंटीवेनम यानी प्रतिविष दवाएं भी सस्ती हो गई हैं। एंटीवेनम का इस्तेमाल सांप के काटने का इलाज करने के लिए होता है। मानसून की बारिश में बड़ी संख्या में किसानों की मौत सांप काटने के कारण हो जाती है। किसानों का ख्याल रखते हुए मोदी सरकार ने इस लिस्ट में इसे भी शामिल किया है। अब इससे हजारों किसानों की जान बच सकेगी।

राष्ट्रीय औषधि मूल्य निर्धारण प्राधिकरण देश में दवाओं की कीमत निर्धारित और नियंत्रित करने का काम देखता है। यह भारत सरकार का एक संगठन है। इसे औषधि (मूल्य नियंत्रण) आदेश के तहत बनाया गय है। दवा नीति में बदलाव और संशोधन के साथ दवाओं के मूल्य को नियंत्रित करना इसका काम है।

Latest articles

दूसरे चरण में महाराष्ट्र की आठ सीटों पर होंगे चुनाव ,शिंदे और शरद पवार की प्रतिष्ठा दाव पर 

न्यूज़ डेस्क वैसे तो देश की सभी सीटों पर चुनाव लड़ रहे हर उम्मीदवार की...

चार वर्षीय डिग्री लेने वाले छात्र अब सीधे पीएचडी और नेट की परीक्षा में बैठ सकते हैं 

न्यूज़ डेस्क यूजीसी ने शिक्षा में बड़ा बदलाव करते हुए चार साल की स्नातक डिग्री...

चुनाव के दौरान बयानों गरमाई सियासत ,पीएम मोदी पर खड़गे हुए हमलावर !

न्यूज़ डेस्क चुनाव के दौरान बयानों की राजनीति कब सुर्खियां बन जाए यह कोई नहीं...

बिल गेट्स वित्तपोषक, लेखक, संपादक, सलाहकार के रूप में? डेटा साम्राज्यवाद: मेट्रिक्स में हेरफेर

महामारी विज्ञान में पोस्टडॉक्टरल, जो भारतीय सशस्त्र बलों में दो दशकों से अधिक समय...

More like this

दूसरे चरण में महाराष्ट्र की आठ सीटों पर होंगे चुनाव ,शिंदे और शरद पवार की प्रतिष्ठा दाव पर 

न्यूज़ डेस्क वैसे तो देश की सभी सीटों पर चुनाव लड़ रहे हर उम्मीदवार की...

चार वर्षीय डिग्री लेने वाले छात्र अब सीधे पीएचडी और नेट की परीक्षा में बैठ सकते हैं 

न्यूज़ डेस्क यूजीसी ने शिक्षा में बड़ा बदलाव करते हुए चार साल की स्नातक डिग्री...

चुनाव के दौरान बयानों गरमाई सियासत ,पीएम मोदी पर खड़गे हुए हमलावर !

न्यूज़ डेस्क चुनाव के दौरान बयानों की राजनीति कब सुर्खियां बन जाए यह कोई नहीं...