Homeदेशजानिए उस कौशल विकास घोटाला को जिसमे चंद्रबाबू नायडू गिरफ्तार हो गए...

जानिए उस कौशल विकास घोटाला को जिसमे चंद्रबाबू नायडू गिरफ्तार हो गए !

Published on


न्यूज़ डेस्क 
जब सारी दुनिया सो रही थी तब आज तड़के आंध्रा प्रदेश की सीआईडी के लोग टीडीपी नेता चन्द्रबाबू नायडू को गिरफ्तार करने का जाल बिछ रही थी। समय रात रात के तीन बजा रहे थे और सीआईडी के लोग चंद्रबाबू को घेरे हुए गिरफ्तारी के दाव पेंच समझ रहे थे। कुछ साल पहले तक जो सीआईडी चन्द्रबाबौ के एक इशारे का इन्तजार करती थी आज वही चन्द्रबाबौ को गिरफ्तार कर रही थी। अंत में वही हां और पूर्व मुख्यमंत्री की गिरफ्तारी हुई। सीआईडी और चंद्रबाबू में काफी नोकझोंक भी हुई लेकिन  सामने इकबाल की क्या औकात !   
 तो कहानी यही है कि तेलुगु देशम पार्टी के अध्यक्ष और आंध्र प्रदेश के पूर्व सीएम एन.चंद्रबाबू नायडू को सीआईडी द्वारा कौशल विकास घोटाले के मामले में गिरफ्तार किया गया है। यह गिरफ्तारी आज शनिवार के  सुबह नंद्याल से हुई। कौशल विकास घोटाला 350 करोड़ रुपये का है और इस मामले में चंद्रबाबू नायडू के खिलाफ साल 2021 में एफआईआर दर्ज की गई थी। सीआरपीसी की धारा 50(1)(2) के तहत चंद्रबाबू नायडू की गिरफ्तारी की गई है।
                    आंध्र प्रदेश में चंद्रबाबू नायडू की सरकार में युवाओं को कौशल विकास प्रशिक्षण देने के लिए योजना की शुरुआत की गई थी। इस योजना के हैदराबाद और इसके आसपास के इलाकों में स्थित भारी उद्योगों में काम करने के लिए युवाओं को जरूरी कौशल विकास प्रशिक्षण दिया जाना था। सरकार ने योजना के तहत इसकी जिम्मेदारी एक कंपनी सीमेंस को दी थी। योजना के तहत छह क्लस्टर्स बनाए गए और इन पर कुल 3300 करोड़ रुपये खर्च होने थे। जिसमें हर क्लस्टर पर 560 करोड़ रुपये खर्च होने थे।
                    तत्कालीन चंद्रबाबू नायडू की सरकार ने कैबिनेट में बताया कि योजना के तहत राज्य सरकार कुल खर्च का 10 प्रतिशत यानी कि 370 करोड़ रुपये खर्च करेगी। वहीं बाकी का 90 प्रतिशत खर्च कौशल विकास प्रशिक्षण देने वाली कंपनी सीमेन्स द्वारा दिया जाएगा। आरोप है कि चंद्रबाबू नायडू की सरकार ने योजना के तहत खर्च किए जाने वाले 371 करोड़ रुपये शैल कंपनियों को ट्रांसफर कर दिए। पूर्व सीएम पर ये भी आरोप है कि शैल कंपनियां बनाकर उन्हें पैसे ट्रांसफर करने से संबंधित दस्तावेज भी नष्ट कर दिए गए।
                    आंध्र प्रदेश के कौशल विकास घोटाले की जांच ईडी द्वारा भी की जा रही है। कुछ माह पहले ईडी ने इस घोटाले की आरोपी कंपनी डिजाइनटेक सिस्टम्स प्राइवेट लिमिटेड की 31 करोड़ रुपये कीमत की संपत्ति भी अटैच की थी। आरोप है कि इसी कंपनी के जरिए सरकारी योजना का पैसा शैल कंपनियों को ट्रांसफर किया गया, साथ ही फर्जी इनवॉइस तैयार की गईं। ईडी मनी लॉन्ड्रिंग के एंगल से मामले की जांच कर रही है। ईडी ने इस मामले में सीमेन्स कंपनी के पूर्व एमडी सोम्याद्री शेखर बोस, डिजाइनटेक  कंपनी के एमडी  विकास विनायक खानवेलकर, पीवीएसपी आईटी स्किल्स प्रोजेक्ट प्राइवेट लिमिटेड और स्किलर एंटरप्राइजेज प्राइवेट लिमिटेड के सीईओ मुकुल चंद्र अग्रवाल, सीए सुरेश गोयल के खिलाफ मामला दर्ज किया था।

Latest articles

मुफ्त की योजनाएं या ‘जीवंत’ जीवन…!

पिछले सप्ताह यानी 14 जुलाई 2024 को मैंने इसी 'प्रहार' कॉलम में ये -...

महबूबा मुफ़्ती ने क्यों कहा कि बीजेपी सरकार उड़ा रही है संविधान की धज्जियां ?

न्यूज़ डेस्क यूपी की योगी सरकार की तरफ से जैसे ही कावड़ यात्रा के...

जम्मू कश्मीर में पांच सौ पैरा कमांडो तैनात ,पाक आतंकियों का अब होगा खात्मा !

न्यूज़ डेस्क जम्मू कश्मीर में जिस तरह फिर से आतंकवाद सिर उठा रहा है...

बांग्लादेश की हालत ख़राब ,अब तक 900 भारतीय लौटे भारत

न्यूज़ डेस्क बांग्लादेश में लगातार हो रही हिंसा के बीच पूरे देश में कर्फ्यू लगा...

More like this

मुफ्त की योजनाएं या ‘जीवंत’ जीवन…!

पिछले सप्ताह यानी 14 जुलाई 2024 को मैंने इसी 'प्रहार' कॉलम में ये -...

महबूबा मुफ़्ती ने क्यों कहा कि बीजेपी सरकार उड़ा रही है संविधान की धज्जियां ?

न्यूज़ डेस्क यूपी की योगी सरकार की तरफ से जैसे ही कावड़ यात्रा के...

जम्मू कश्मीर में पांच सौ पैरा कमांडो तैनात ,पाक आतंकियों का अब होगा खात्मा !

न्यूज़ डेस्क जम्मू कश्मीर में जिस तरह फिर से आतंकवाद सिर उठा रहा है...