Homeदुनियाक्या खाड़ी देश क़तर हमास के आतंकवाद को बढ़ावा देता है ?

क्या खाड़ी देश क़तर हमास के आतंकवाद को बढ़ावा देता है ?

Published on


न्यूज़ डेस्क 

एक तरफ जहाँ हमास और इजरायल के बीच घमासान युद्ध चल रहा है वही दूसरी तरह दुनिया भर में हमास आतंकी समूह को लेकर भी चर्चा चल रही है। दुनिया भर में इस बात को लेकर बहस तेज है कि आखिर इस खतरनाक आतंकी समूह को पनाह कौन दे रहा है और इसके लिए पैसे कहाँ से आ रहे हैं। अभी हाल में ही हमास इजरायल युद्ध के दौरान ही मध्य पूर्व फोरम के निदेशक और इजरायली विदेश व रक्षा मंत्रालयों के पूर्व सदस्य ग्रेग रोमन ने कहा है कि हमास के शासन को काफी हद तक फारस की खाड़ी में छोटे व तेल से समृद्ध कतर द्वारा नियंत्रित किया जाता है। उन्होंने कहा है कि 2018 की शुरुआत में, कतर ने गाजा को प्रति माह 30 मिलियन डॉलर की नकद धनराशि पहुंचाई।       
          रोमन ने वाशिंगटन एग्जामिनर के लिए एक लेख में कहा, मई 2021 में हुई एक व्यवस्था के अनुसार, इज़राइल और हमास के बीच संघर्ष के बाद, कतर ने मिस्र के माध्यम से गाजा को ईंधन (प्रति माह 7-10 मिलियन डॉलर के बीच) भेजना शुरू कर दिया, इससे पुनर्विक्रय की आय से हमास के लिए धन मुक्त हो गया। इनका उपयोग हमास सरकार को वेतन देने के साथ-साथ गरीब गजा वासियों की सहायता के लिए किया जाता था।कतर ने गाजा के पुनर्निर्माण में मदद के लिए 500 मिलियन डॉलर देने का भी वादा किया।
                    उन्होंने कहा कि हमास के नेता इस्माइल हानियेह कतर की राजधानी दोहा में रहते हैं। खालिद मशाल भी ऐसा ही करता है, जो हनियेह से पहले आतंकवादी संगठन का नेता था और अब उसके दूसरे नंबर के कमांडर के रूप में कार्य करता है।खलील अल-हय्या, जिसने याह्या सिनवार (गाजा में हमास के नेता) के डिप्टी के रूप में काम किया था, भी दोहा चला गया। रोमन ने कहा, हमास के अन्य प्रमुख अधिकारी भी कतर में रहते हैं।
                      इस्लामिक स्टेट द्वारा मारे गए अमेरिकी पत्रकार स्टीवन सोटलॉफ के परिवार ने 2022 में एक संघीय मुकदमे में आरोप लगाया था कि कतर चैरिटी और कतर नेशनल बैंक ने आईएस अधिकारी को 8 लाख डॉलर दिए थे, जिन्होंने एक अन्य अमेरिकी पत्रकार सोटलॉफ और जेम्स फोले का सिर काटने का आदेश दिया था।
                   ंबता दें कि ईरान की तरह, कतर ने भी हमास के हमले के लिए पूरी तरह से इज़राइल को दोषी ठहराया।कतर के विदेश मंत्रालय ने कहा, “विदेश मंत्रालय फिलिस्तीनी लोगों के अधिकारों के लगातार उल्लंघन के कारण जारी वृद्धि के लिए इजरायल को पूरी तरह से जिम्मेदार मानता है, इनमें से नवीनतम अल-अक्सा मस्जिद के संरक्षण में बार-बार इजरायल पुलिस की गई घुसपैठ है।”

Latest articles

Full finger mehndi design: फिंगर मेहंदी के ये डिजाइन हैं कमाल,हाथों की खूबसूरती को बढ़ा देंगे चार गुना

महिलाओं की सुन्दरता बढ़ाने में मेहंदी का विशेष स्थान है। अच्छी और लाजवाब मेहंदी...

संसद भवन पहुंची महुआ मोइत्रा, आज नहीं हुई उन पर कार्रवाई

बीरेंद्र कुमार झा संसद का शीतकालीन सत्र आज 4 दिसंबर से शुरू हुआ। आज के दिन को...

मिजोरम में जोरम नेशनलिस्ट पार्टी बनाएगी सरकार, लालदुहोमा बनेंगे  मुख्यमंत्री

बीरेंद्र कुमार झा मिजोरम विधानसभा के रुझानों में जोरम पीपल्स मूवमेंट (जेडपीएम) को बहुमत मिलता नजर...

विदर्भ, अभी नहीं तो कभी नहीं..!

  भाऊ जाम्बुवंतराव धोटे, श्रीहरि अणे, ब्रजलालजी बियानी और कई विदर्भवादी नेताओं द्वारा खड़े किए...

More like this

Full finger mehndi design: फिंगर मेहंदी के ये डिजाइन हैं कमाल,हाथों की खूबसूरती को बढ़ा देंगे चार गुना

महिलाओं की सुन्दरता बढ़ाने में मेहंदी का विशेष स्थान है। अच्छी और लाजवाब मेहंदी...

संसद भवन पहुंची महुआ मोइत्रा, आज नहीं हुई उन पर कार्रवाई

बीरेंद्र कुमार झा संसद का शीतकालीन सत्र आज 4 दिसंबर से शुरू हुआ। आज के दिन को...

मिजोरम में जोरम नेशनलिस्ट पार्टी बनाएगी सरकार, लालदुहोमा बनेंगे  मुख्यमंत्री

बीरेंद्र कुमार झा मिजोरम विधानसभा के रुझानों में जोरम पीपल्स मूवमेंट (जेडपीएम) को बहुमत मिलता नजर...