Homeदुनियाअगले महामारी के लिए तात्कालिक उपाय? मिस्टर हेल्थ सेक्रेटरी, आप गलत तरीके...

अगले महामारी के लिए तात्कालिक उपाय? मिस्टर हेल्थ सेक्रेटरी, आप गलत तरीके से भौंक रहे हैं

Published on

(द्वारा डॉ. अमिताभ बनर्जी,एमडी)
केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव,मिस्टर राजेश भूषण ने 05 जून 2023 को हैदराबाद में जी20 इंडिया के हेल्थ वर्किंग ग्रुप को संबोधित करते हुए आगाह किया कि अगली महामारी वैश्विक संधियों के लिए हमारा इंतजार नहीं करेगी और उन्होंने देशों से मिलकर काम करने का आह्वान किया।

उन्होंने यह कहते हुए अलार्म स्तर बढ़ा दिया है कि अरबों लोगों की जिंदगी और आजीविका दांव पर लगेगी, इसलिए हमें अर्जेंसी की भावना के साथ कार्य करना चाहिए। डब्ल्यूएचओ के प्रवक्ता माइकल रेयान ने उनका समर्थन करते हुए कहा कि यह समय है कि देश यह सुनिश्चित करने के लिए एक साथ आएं कि दवाएं, टीके और डायग्नोस्टिक्स उन लोगों तक पहुंचे जिन्हें उनकी सबसे ज्यादा जरूरत थी।

कौन सी दवाएं? कौन से टीके? कौन सा निदान? कौनसी बीमारी? न तो उन्होंने और न ही हमारे माननीय स्वास्थ्य सचिव ने ये बताया। किसी विशिष्ट बीमारी का नाम लिए बिना, जिसमें महामारी की संभावना भी हो सकती है,मिस्टर रयान ने भारत के फार्मास्यूटिकल्स विनिर्माण आधार और डिजिटल प्रौद्योगिकी में इनोवेशन पर विस्तार से बात की। इस बीच हमारे स्वास्थ्य सचिव उस “महामारी संधि” को बढ़ावा देने के लिए उत्सुक दिखते हैं जिसमें अज्ञात “घातक महामारियों” से लड़ने के लिए गलत सूचना और सेंसरशिप के नियंत्रण का प्रावधान है।

ड्रग्स, टीके, डायग्नोस्टिक्स, फार्मा उद्योग और डिजिटल तकनीक। यह युद्ध स्तर पर महामारी के सेनापतियों की रणनीति है! सैन्य जनरलों की तरह गोला-बारूद, बंदूकें, तोपखाने, युद्धक टैंक, हथियार उद्योग और रडार सिस्टम पर जोर देकर आसन्न युद्ध के लिए सशस्त्र बलों के आधुनिकीकरण की मांग करना इनकी रणनीति का हिस्सा है। निश्चित रूप से अफवाह नियंत्रण और सेंसरशिप – सैन्य मामलों जैसे ही शीर्ष रहस्य हैं। अभी तक अज्ञात दुश्मन के खिलाफ भविष्य के युद्ध लड़ने के लिए इस जुझारू दर्शन ने हथियारों की बढ़ती दौड़ को जन्म दिया। “अभी तक घातक अज्ञात महामारियों” के खिलाफ एक समान जुझारू दर्शन हमें कभी न खत्म होने वाली और महंगी फार्मा दौड़ में ले जा सकता है।

आम नागरिक इस तरह के तांडव के अनुपालन में चकित है, चाहे वह “घातक महामारियों” के लिए हो या चाहे “घातक युद्धों” के खिलाफ हो। और युद्ध की कीमत चाहे वह नश्वर दुश्मन के खिलाफ हो या महामारी के खिलाफ, मनुष्यों द्वारा भारी क्षति के जरिए चुकाई जाती है। महामारी की प्रतिक्रिया में लगाए गए कठोर लॉकडाउन की वजह से गरीब नागरिकों को कोई लाभ नहीं हुआ उल्टे उन्हें बहुत अधिक नुकसान उठाना पड़ा।

द लांसेट में एक टिप्पणी में कहा गया है कि ड्रैकियन युद्ध जैसे उपाय अमीरों को बचाने के लिए गरीबों के जीवन को खतरे में डालते हैं। लॉकडाउन ने लोगों को घोर गरीबी और बदहाली की ओर धकेल दिया। ओवररेटेड विदेशी विश्वविद्यालयों के किसी भी फैंसी मॉडल के बिना बाल कुपोषण और बच्चों की मृत्यु में तेजी से वृद्धि होने की भविष्यवाणी की गई है।

नहीं मिस्टर भूषण, हमें किसी अज्ञात महामारी के खिलाफ इस तरह के युद्ध जैसे उपाय नहीं करने चाहिए। ऐसा लगता है कि डब्ल्यूएचओ यह भूल गया है कि इसके नाम में “एच” का अर्थ “हेल्थ है, जो “…पूर्ण, शारीरिक, मानसिक और सामाजिक भलाई है और ना कि केवल दुर्बलता की बीमारी का अभाव” जो कि इसी संगठन द्वारा परिभाषित किया गया है! अज्ञात रोग स्वास्थ्य का केवल एक आयाम है। यदि शारीरिक, मानसिक और सामाजिक आयामों को देखा जाए तो भविष्य की महामारियों का आबादी पर बहुत कम प्रभाव पड़ेगा। यह अटकलबाजी नहीं है बल्कि हालिया महामारी के कठिन आंकड़ों से पता चलता है।

कोविड-19 महामारी के दौरान, एशियाई और अफ्रीकी देशों की तुलना में पश्चिमी देशों में मृत्यु दर 5-10 गुना अधिक रही। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि मोटापा मृत्यु दर का सबसे बड़ा कारण था, जनसंख्या स्तर के टीकाकरण कवर से कहीं अधिक। पश्चिम के मोटापे की दर अफ्रीकी और एशियाई देशों की तुलना में लगभग तीन गुना अधिक है।

कम से कम टीकाकरण कवरेज के बावजूद एशियाई और विशेष रूप से अफ्रीकी देशों में मृत्यु दर सबसे कम थी। इस अवलोकन को 68 देशों और 2947 अमेरिकी काउंटियों में किए गए एक अध्ययन से भी समर्थन मिला है।यह अध्ययन जनसंख्या स्तर के टीकाकरण और कोविड-19 की घटनाओं के साथ कोई संबंध खोजने में विफल रहा।

जापान दुनिया में सबसे अधिक वृद्ध आबादी वाले देशों में से एक है, फिर भी वहां पश्चिमी देशों की तुलना में कोविड-19 से होने वाली मौतों का आंकड़ा महज 1/10 था। पश्चिमी देशों में मोटापे का स्तर जापानियों की तुलना में लगभग 2 से 3 गुना अधिक है।

‘कोई भी नया संक्रमण यदि यह मोटे लोगों को प्रभावित करता है तो इसका प्रभाव अधिक होगा। टीके और दवाई हमें नहीं बचाएंगे’ ब्राजील मोटापे के खतरों को लेकर जागरूक है। एक युवा आबादी होने के बावजूद, इसके मोटापे का प्रसार विकसित देशों के बराबर है और महामारी से इसकी मृत्यु दर भी पश्चिम के समान थी। ब्राजील की तरह भारत भी तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्था है। जबकि इसका मोटापा अभी तक पश्चिम के साथ पकड़ में नहीं आया है, भारतीय मध्यम वर्ग मोटापे के रास्ते पर है और जल्द ही यह पश्चिमी देशों के स्तर तक पहुंच सकता है।

श्रीमान भूषण, मोटापे की मूक महामारी जल्द ही हम पर हमला करने के लिए तैयार है, विशेष रूप से बाजार की ताकतों द्वारा सहायता प्राप्त हमारे पश्चिमीकृत मध्यम वर्ग के बीच। जबकि कुल मिलाकर गरीब लोगों के बड़े पूल के कारण हमारी मोटापे वाले लोगों की आबादी कम है, हाल ही में संपन्न हुए लोगों में गतिहीन जीवन शैली, फास्ट फूड, शराब और धूम्रपान अपनाने की प्रवृत्ति है। इसके अलावा जेनेटिक हैंडीकैप के कारण भारतीय अपने कोकेशियान समकक्ष की तुलना में एक या दो दशक पहले मधुमेह और कोरोनरी हृदय रोगों के रोगों के प्रति अधिक संवेदनशील होते हैं। इसलिए हमारे मोटापे के मानदंड को और सख्त करना होगा।

मोटापे की महामारी को हमारी सीमाओं में आने से रोकने के लिए हमें हवाईअड्डों पर यात्रियों की जांच करने की आवश्यकता नहीं है, बल्कि अपने लोगों को गतिहीन जीवन शैली और फास्ट फूड के खतरों के बारे में शिक्षित करना है और अधिक वाहनों को शुरू करने के बजाय साइकिल चालकों और पैदल चलने वालों के लिए एक सक्षम वातावरण बनाना है। हमारे यहां दुनिया में सबसे ज्यादा सड़क दुर्घटनाएं होती हैं, जिनमें 400 से अधिक भारतीय युवा रोजाना सड़कों पर मरते हैं। क्या आप इसे महामारी नहीं कहेंगे?
बाल कुपोषण की उच्चतम दर की वजह से भारत में हर दिन 5000 से अधिक बच्चे मर जाते हैं। भारत में प्रतिदिन 1300 से अधिक लोग टीबी की वजह से मरते हैं। क्या आप इन्हें महामारी नहीं कहेंगे?

हमारे अपने देश में अन्य अज्ञात “महामारियां” हैं जैसे डेंगू, टाइफाइड, जापानी एन्सेफलाइटिस। हम इन “सांसारिक” बीमारियों के डेटा पर ध्यान नहीं दे रहे हैं क्योंकि ये ग्लैमरस काम नहीं है। जबकि विदेशों से आयात की गई “नई और घातक महामारी” को लेकर ज्यादा उत्साह नजर आता है।

मिस्टर भूषण, हमारे पास अपनी प्लेटें भरी हुई हैं। कोई भी नया संक्रमण यदि यह मोटे लोगों को प्रभावित करता है तो इसका प्रभाव अधिक होगा। टीके और इलाज हमें नहीं बचाएंगे। हमारे देश में पश्चिम की तरह मोटापे को जड़ें जमाने से रोकने के लिए हमारे पास एक अवसर है। यदि हमें मोटापे को अपनी सीमाओं में प्रवेश पर रोक लगानी है तो यह लोगों को प्रतिबंधित करने के माध्यम से नहीं बल्कि फास्ट फूड चेन को प्रतिबंधित करने के माध्यम से हो पाएगा।

एक अज्ञात घातक महामारी की तैयारी क्यों करें जब हमारे अपने देश में इससे कहीं अधिक घातक बीमारियां हैं। आप गलत, बल्कि अस्तित्वहीन समस्या को देख कर भौंक रहे हैं!

(इस आलेख के लेखक महामारी विज्ञान में पोस्ट डॉक्टरेट हैं। उन्होंने भारतीय सशस्त्र बलों में दो दशकों से अधिक समय तक फील्ड महामारी विज्ञानी थे। उन्हें जनजातीय मलेरिया और वायरल हेपेटाइटिस ई पर उनके काम के लिए सम्मानित किया गया है। लेखक वर्तमान में डीवाई पाटिल मेडिकल कॉलेज, पुणे में प्रोफेसर हैं)

Latest articles

चरित्रहीन राजनीति में सब कुछ जायज ,अब बीजेपी के साथ हाथ मिलाने को बेकरार केसीआर !

अखिलेश अखिल नेताओं और राजनीति पर वैसे भी कोई यकीन नहीं करता क्योंकि राजनीति तो...

मोदी सरकार का बड़ा ऐलान, पूर्व अग्निवीरों को सीआईएसएफ और बीएसएफ में छूट मिलेगी

18 वीं लोकसभा चुनाव में जिस आधार पर कांग्रेस और इंडिया गठबंधन के अन्य...

बहुत कहता है समुद्री पारिस्थितिकी पर चीन का श्वेत पत्र !

न्यूज़ डेस्क चीनी राज्य परिषद के सूचना कार्यालय ने संवाददाता सम्मेलन आयोजित कर चीनी समुद्री...

केजरीवाल की याचिका पर आज सुप्रीम कोर्ट सुनाएगा फैसला !

न्यूज़ डेस्क दिल्ली में कथित आबकारी नीति घोटाले से जुड़े धनशोधन मामले में प्रवर्तन निदेशालय...

More like this

चरित्रहीन राजनीति में सब कुछ जायज ,अब बीजेपी के साथ हाथ मिलाने को बेकरार केसीआर !

अखिलेश अखिल नेताओं और राजनीति पर वैसे भी कोई यकीन नहीं करता क्योंकि राजनीति तो...

मोदी सरकार का बड़ा ऐलान, पूर्व अग्निवीरों को सीआईएसएफ और बीएसएफ में छूट मिलेगी

18 वीं लोकसभा चुनाव में जिस आधार पर कांग्रेस और इंडिया गठबंधन के अन्य...

बहुत कहता है समुद्री पारिस्थितिकी पर चीन का श्वेत पत्र !

न्यूज़ डेस्क चीनी राज्य परिषद के सूचना कार्यालय ने संवाददाता सम्मेलन आयोजित कर चीनी समुद्री...