Homeदेशयेचुरी ने कहा चुनावी बांड योजना देश का बड़ा घोटाला ,पीएम केयर्स...

येचुरी ने कहा चुनावी बांड योजना देश का बड़ा घोटाला ,पीएम केयर्स फंड पर उठे सवाल !

Published on


न्यूज़ डेस्क 
सीपीएम नेता सीताराम येचुरी ने कहा है कि चुनावी बॉण्ड योजना स्वतंत्र भारत में ‘‘सबसे बड़ा घोटाला’’ है जिसमें ‘‘माफिया की तरह उगाही’’ हुई है।उच्चतम न्यायालय चुनावी बॉण्ड योजना को रद्द कर चुका है। बॉण्ड को न्यायालय में चुनौती देने वाले याचिकाकर्ताओं में सीपीएम भी शामिल थी। येचुरी ने कहा कि इस योजना को लेकर उनका विरोध सिद्धांतों पर आधारित है और चुनावों के लिए सरकार के वित्त पोषण से पारदर्शिता आ सकती है।

येचुरी ने कहा, “चुनावी बॉण्ड स्वतंत्र भारत में सबसे बड़ा घोटाला बन गया है। इन चुनावी बॉण्ड को लेकर हमने जो अनुमान लगाया था, वही अब सामने आ रहा है। मैंने कहा था कि यह माफिया की तरह जबरन वसूली जैसा होगा। इसे अब हो रहे खुलासों से देखा जा सकता है।’’

सीपीएम नेता ने कहा कि जब योजना की पहली बार घोषणा की गई थी तो उन्होंने आगाह किया था कि ‘इससे साठगांठ के सौदे’ होंगे।उन्होंने कहा, ‘‘काले धन से निपटने या उस पर नियंत्रण लगाने के बजाय, आप वास्तव में धन शोधन की अनुमति दे रहे थे। आप काले धन को सफेद में बदलने और वैध बनाने की अनुमति दे रहे थे। कंपनियों ने अपने सालाना मुनाफे से कई गुना ज्यादा कीमत के चुनावी बॉन्ड खरीदे।’’

उन्होंने विभिन्न जांच एजेंसियों की जांच के घेरे में आई कंपनियों द्वारा खरीदे गए बॉण्ड का हवाला देते हुए कहा कि फर्जी कंपनियों का इस्तेमाल धन शोधन के लिए किया गया। येचुरी ने कहा, ‘‘एक नयी बात जो सामने आई है कि ऐसी दवा कंपनियों ने चुनावी बॉण्ड खरीदे जो उत्पादन के लिए गुणवत्ता नियंत्रण और मानदंडों का उल्लंघन करने को लेकर जांच के दायरे में हैं। यह खतरनाक है।’’

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने ईडी समेत जांच एजेंसियों की कार्यप्रणाली और सत्तारूढ़ दल को चुनावी वित्तपोषण के बीच किसी भी तरह के संबंध से इनकार करते हुए कहा है कि ये आरोप सिर्फ धारणा पर आधारित हैं।
 शीर्ष अदालत ने 15 फरवरी को अपने ऐतिहासिक फैसले में केंद्र की चुनावी बॉण्ड योजना को असंवैधानिक करार देते हुए रद्द कर दिया था और बॉण्ड संबंधी विवरण के खुलासे का आदेश दिया था।

यह पूछे जाने पर कि चुनावी वित्तपोषण में पारदर्शिता सुनिश्चित करने का क्या तरीका हो सकता है, उन्होंने कहा, ‘‘यदि आप राजनीतिक चंदे को पारदर्शी बनाना चाहते हैं, तो कॉरपोरेट घरानों को चंदा देना चाहिए, लेकिन सीधे राजनीतिक दलों को नहीं।’’

येचुरी ने कहा, ‘‘तो यह हमारे चुनावों को वित्तपोषित करने वाले, हमारे लोकतंत्र को वित्तपोषित करने वाले कारोबारी घरानों का सवाल है, लेकिन इसे सरकारी कोष में जाना चाहिए। चुनावों के लिए सरकार द्वारा वित्त पोषण की व्यवस्था होनी चाहिए।’’

उन्होंने कहा कि कॉरपोरेट सामाजिक उत्तरदायित्व कानून की तर्ज पर लोकतंत्र में कॉरपोरेट फंडिंग पर कानून बनाया जा सकता है और वे एक कोष में दान कर सकते हैं।

सीपीएम नेता ने कहा, ‘‘निगमों को उस कोष में दान करने की अनुमति दें। उस कोष की निगरानी एक सरकारी एजेंसी द्वारा की जाए। पारदर्शिता होनी चाहिए और मानदंड तय किए जाने चाहिए। नियम बनाए जाने चाहिए, जिनके द्वारा पार्टियों को वह कोष प्राप्त होगा।’’

येचुरी ने बीजेपी पर बॉण्ड दान करने वालों की सूची उपलब्ध नहीं कराने का भी आरोप लगाते हुए कहा कि भ्रष्टाचार के खिलाफ होने का उसका दावा सिर्फ बयानबाजी है। उन्होंने कहा, ‘‘बीजेपी उन लोगों की सूची प्रदान करने से इनकार कर रही है जिन्होंने उसे ये बॉण्ड दान किए हैं। डीएमके जैसे क्षेत्रीय दलों ने सारी जानकारी दी है।’

 येचुरी ने कहा, ‘‘इसके साथ ही, निजी निगमों द्वारा स्थापित चुनावी फंड का एक बड़ा हिस्सा सत्तारूढ़ पार्टी बीजेपी के पास चला गया है। आपके पास पीएम-केयर्स है, जहां सरकारी आदेशों का इस्तेमाल सार्वजनिक क्षेत्र से, सरकारी कर्मचारियों से, मेरे जैसे सांसदों और पूर्व सांसदों से भी, आपकी पेंशन से पैसा इकट्ठा करने के लिए किया गया था। ’’
 

उन्होंने कहा, ‘‘फिर सरकारी आदेशों के माध्यम से, कोष से पैसे निकाल लिए गए। अब वे कहते हैं कि यह (पीएम-केयर्स) एक निजी कोष है। इसलिए वे जवाबदेह नहीं हैं या उन्हें पारदर्शिता की आवश्यकता नहीं है।’’

Latest articles

दूसरे चरण में महाराष्ट्र की आठ सीटों पर होंगे चुनाव ,शिंदे और शरद पवार की प्रतिष्ठा दाव पर 

न्यूज़ डेस्क वैसे तो देश की सभी सीटों पर चुनाव लड़ रहे हर उम्मीदवार की...

चार वर्षीय डिग्री लेने वाले छात्र अब सीधे पीएचडी और नेट की परीक्षा में बैठ सकते हैं 

न्यूज़ डेस्क यूजीसी ने शिक्षा में बड़ा बदलाव करते हुए चार साल की स्नातक डिग्री...

चुनाव के दौरान बयानों गरमाई सियासत ,पीएम मोदी पर खड़गे हुए हमलावर !

न्यूज़ डेस्क चुनाव के दौरान बयानों की राजनीति कब सुर्खियां बन जाए यह कोई नहीं...

बिल गेट्स वित्तपोषक, लेखक, संपादक, सलाहकार के रूप में? डेटा साम्राज्यवाद: मेट्रिक्स में हेरफेर

महामारी विज्ञान में पोस्टडॉक्टरल, जो भारतीय सशस्त्र बलों में दो दशकों से अधिक समय...

More like this

दूसरे चरण में महाराष्ट्र की आठ सीटों पर होंगे चुनाव ,शिंदे और शरद पवार की प्रतिष्ठा दाव पर 

न्यूज़ डेस्क वैसे तो देश की सभी सीटों पर चुनाव लड़ रहे हर उम्मीदवार की...

चार वर्षीय डिग्री लेने वाले छात्र अब सीधे पीएचडी और नेट की परीक्षा में बैठ सकते हैं 

न्यूज़ डेस्क यूजीसी ने शिक्षा में बड़ा बदलाव करते हुए चार साल की स्नातक डिग्री...

चुनाव के दौरान बयानों गरमाई सियासत ,पीएम मोदी पर खड़गे हुए हमलावर !

न्यूज़ डेस्क चुनाव के दौरान बयानों की राजनीति कब सुर्खियां बन जाए यह कोई नहीं...