Homeदेशयूपी पॉलिटिक्स : क्या यादव समाज के लोग अब खूंटे से बंधे...

यूपी पॉलिटिक्स : क्या यादव समाज के लोग अब खूंटे से बंधे रहना नहीं चाहते ?

Published on

न्यूज़ डेस्क 
आसन्न लोकसभा चुनाव में सभी दलों की नजर जातीय समीकरण पर टिकी हुई है। यूपी में चुकी सबसे ज्यादा 80 लोकसभा की सीटें है इसलिए सभी दलों  को लग रहा है  जो दल यादव समुदाय को साध लेगा  उसकी जीत पक्की हो सकती  है। यूपी में यादव अभी सपा के साथ है लेकिन अब यादव समाज के लोग  भी दूसरी पार्टियों के साथ जाने को तैयार हैं. वे अब एक खूंटे से बंधे रहना नहीं चाहते।

प्रदेश के सियासी इतिहास पर गौर करें तो यादव वोटबैंक पहले कांग्रेस और फिर जनसंघ के साथ रहा। फिर चौधरी चरण सिंह के साथ गोलबंद हुआ। इनके बाद मुलायम सिंह यादव का आधार वोटबैंक बन गए। सियासी अखाड़े के पहलवान मुलायम सिंह यादव ने अपनी सियासी ताकत बढ़ाने के लिए हर जिले में अपने आधार वोट बैंक का एक बड़ा नेता तैयार किया।

आधार वोटबैंक को सहेजने के साथ ही उन्होंने अन्य प्रयोग शुरू किए। पहले मुस्लिमों को जोड़ा। समाजवादी पार्टी ने एम-वाई (मुस्लिम-यादव) के गठजोड़ से सियासत चमकाई। मुलायम यहीं नहीं रुके। उन्होंने अन्य पिछड़ी जातियों की गोलबंदी भी बढ़ानी शुरू कर दी। पर, सामान्य वर्ग के नेताओं की अनदेखी नहीं होने दी। इस रणनीति के जरिए वह किसी न किसी रूप में या तो सत्ता में बने रहे अथवा मजबूत विपक्ष की भूमिका निभाई।


वर्ष 2001 की सामाजिक न्याय समिति की रिपोर्ट के मुताबिक प्रदेश में पिछड़े वर्ग के बीच यादव आबादी करीब 19.40 फीसदी है। इनकी एकजुटता सत्ता के समीकरणों को साधने के लिए मजबूत जमीन जैसा है। पर, चुनावी नतीजे खुद-ब-खुद बता देते हैं कि अब हालात बदल गए हैं।

विधानसभा चुनाव के बाद 10 अक्तूबर 2022 को मुलायम सिंह यादव का निधन हो गया। भाजपा ने यादव वोट बैंक को साधने और पैठ बढ़ाने के लिए मुलायम सिंह को पद्मविभूषण से नवाजा, तो उत्तर प्रदेश से ताल्लुक रखने वाले मोहन यादव को मध्य प्रदेश का मुख्यमंत्री बना दिया। मोहन यादव तीन बार यूपी आ चुके हैं।
 

इन दौरों के दौरान उन्होंने खुद को आजमगढ़ निवासी बताया। यही नहीं सुल्तानपुर में ससुराल होना भी बताना नहीं भूले। तीसरी बार 4 मार्च को अयोध्या आए तो कहा कि सैफई परिवार ने पूरे यादव समाज का शोषण किया है। यह सब अनायास ही नहीं है, बल्कि इसके सियासी मायने हैं। भाजपा बखूबी जानती है कि यादव वोटबैंक को तोड़ कर ही वह 50 फीसदी के अधिक वोट का लक्ष्य हासिल कर सकती है। यही वजह है कि वह येनकेन प्रकारेण इस वोटबैंक को भगवा खेमे में लाने में जुटी हुई है।
 

दूसरी तरफ यादव बिरादरी अब सपा के खूंटे से बंधी नहीं रहना चाहती है। इसकी झलक भी दिखती है। फर्रुखाबाद जिले का मोहम्मदाबाद क्षेत्र यादवों का गढ़ है। दो पीढ़ी से सपा की राजनीति करने वाले पूर्व मंत्री नरेंद्र सिंह यादव अब भाजपा में हैं। इसी क्षेत्र के कारोबारी राजेश यादव कहते हैं कि नेताजी का हम सब पर एहसान था। अब वे नहीं रहे। हमें जहां फायदा मिलेगा, वहां जाएंगे।

कुछ ऐसी ही बातें कन्नौज निवासी सीपी यादव भी कहते हैं। वे कहते हैं, हम हमेशा सपा का झंडा उठाते रहे हैं, लेकिन अब विचार बदल रहा है। विचार बदलने की बात करने वाले सिर्फ मध्य यूपी में ही नहीं हैं, बल्कि अन्य क्षेत्रों में भी ऐसा दिखता है। यादव बहुल जौनपुर के मल्हनी विधानसभा क्षेत्र के अवधेश नारायण यादव भी विचार बदलने की बातें कहते हैं। ऐसे में बड़ा सवाल यह उठ रहा है कि विचार बदलने वाले आखिर किस राह पर निकलेंगे?

प्रदेश के 12 जिलों में यादवों की आबादी 20 फीसदी से अधिक मानी जाती है। आजमगढ़, देवरिया, गोरखपुर, बलिया, गाजीपुर, वाराणसी, जौनपुर, बदायूं, मैनपुरी, एटा, इटावा, कन्नौज और फर्रुखाबाद में यादव मतदाताओं का दबदबा है। वहीं 10 जिलों में करीब 15 फीसदी आबादी है।

सेंटर फॉर द स्टडी ऑफ डवलपिंग सोसाइटीज की एक चुनावी अध्ययन रिपोर्ट बताती है कि 2022 के विधानसभा चुनावों में 83 फीसदी यादवों ने सपा को वोट दिया। लोकनीति-सीएसडीएस की रिपोर्ट के मुताबिक 2019 में 60 फीसदी यादवों ने सपा-बसपा को और 23 फीसदी ने भाजपा को, पांच फीसदी ने कांग्रेस को वोट दिया था। इस बार भाजपा करीब 30 से 35 फीसदी यादवों का वोट हासिल करने का लक्ष्य बनाकर कार्य कर रही है।

प्रदेश की सियासत में यादव समाज से पहली बार रघुवीर सिंह यादव आगरा पूर्वी सीट से कांग्रेस के टिकट पर 1952 में सांसद चुने गए थे।फिर 1957 में बाराबंकी से रामसेवक यादव सोशलिस्ट पार्टी से सांसद बने। फिर राम नरेश यादव और मुलायम सिंह यादव जैसे नेता निकले। 1967 में यूपी में गैर-कांग्रेसी सरकार बनी तो मुलायम सिंह कैबिनेट मंत्री बने। 1977 में राम नरेश यादव प्रदेश के पहले यादव मुख्यमंत्री बने।

मंडल आंदोलन के दौरान मुलायम सिंह उभरे और 1989 में जनता दल से मुख्यमंत्री बने। यादव वोटों के दम पर मुलायम सिंह यादव तीन बार मुख्यमंत्री बने तो अखिलेश यादव एक बार। अब स्थिति यह है कि मुलायम सिंह यादव के साथ कंधे से कंधा मिलाकर चलने वाले पूर्व मंत्री नरेंद्र सिंह यादव, पूर्व सांसद सुखराम सिंह यादव, पूर्व देवेंद्र सिंह यादव, पूर्व सभापति रमेश यादव, पूर्व विधायक हरिओम यादव भाजपा में हैं। पूर्व सांसद डीपी यादव अपनी पार्टी बना चुके हैं।

Latest articles

कांग्रेस ने चुनाव आयोग से की आज फिर पीएम मोदी की शिकायत

न्यूज़ डेस्क कांग्रेस ने आज फिर से  निर्वाचन आयोग से प्रधानमंत्री मोदी की शिकायत की...

अरविंद केजरीवाल को बड़ा झटका, इंसुलिन की मांग व डॉक्टर से परामर्श वाली याचिका खारिज

इन दिनों जब से अरविन्द केजरीवाल ईडी के हाथों गिरफ्तार होकर पहले ईडी के...

रामलला का दर्शन कर निहाल हुए 30 देशों के रामभक्त

न्यूज़ डेस्क  अयोध्या में राम लला का दर्शन कर आज दुनिया के 30 देशों के लोग...

कांग्रेस आपके मंगल सूत्र को भी नहीं छोड़ेंगे,अलीगढ़ में गरजे पीएम मोदी

प्रथम चरण के मतदान की समाप्ति के बाद अब द्वितीय चरण के मतदान के...

More like this

कांग्रेस ने चुनाव आयोग से की आज फिर पीएम मोदी की शिकायत

न्यूज़ डेस्क कांग्रेस ने आज फिर से  निर्वाचन आयोग से प्रधानमंत्री मोदी की शिकायत की...

अरविंद केजरीवाल को बड़ा झटका, इंसुलिन की मांग व डॉक्टर से परामर्श वाली याचिका खारिज

इन दिनों जब से अरविन्द केजरीवाल ईडी के हाथों गिरफ्तार होकर पहले ईडी के...

रामलला का दर्शन कर निहाल हुए 30 देशों के रामभक्त

न्यूज़ डेस्क  अयोध्या में राम लला का दर्शन कर आज दुनिया के 30 देशों के लोग...