Homeदेशआनंद मोहन की बढ़ी मुश्किल, जी कृष्णैया की पत्नी ने सुप्रीम कोर्ट...

आनंद मोहन की बढ़ी मुश्किल, जी कृष्णैया की पत्नी ने सुप्रीम कोर्ट का खटखटाया दरवाजा

Published on

बीरेंद्र कुमार झा

बिहार के बाहुबली पूर्व सांसद आनंद मोहन की परेशानी अब कम होती नहीं दिख रही है। मृतक डीएम जी कृष्णैया की पत्नी टी उमा देवी ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। याचिका में बिहार सरकार के उस आदेश को रद्द करने की मांग की है, जिसके माध्यम से उनके पति की हत्या के आरोप में उम्रकैद की सजा काट रहे आनंद मोहन जेल से बाहर आ गए हैं।गौरतलब है कि जी कृष्णैया की हत्या 5 दिसंबर 1994 ईस्वी को एक भीड़ के द्वारा कर दी गई थी जिसका नेतृत्व आनंद मोहन कर रहे थे।

क्या है याचिका में

पूर्व डीएम स्वoजी कृष्णैया की पत्नी टी उमा देवी के द्वारा दायर याचिका में कहा गया है कि कानूनी तौर पर यह स्पष्ट है कि आजीवन कारावास का मतलब है कि दोषी को पूरे जीवन जेल के अंदर बिताना होगा। इसे 14 वर्ष की सजा के रूप में नहीं देखा जा सकता है। कानून के अनुसार आजीवन कारावास का अर्थ आखरी सांस तक जेल में रहना होता है। किसी हत्या के दोषी को अगर मौत की सजा दी गई है तो उसे अलग से देखा जाना चाहिए। वह सामान्य आजीवन कारावश नहीं है। उसे सख्ती से लागू किया जाना चाहिए न कि किसी तरह की छूट दिया जाना चाहिए।

दोषी को छूट देने का किया विरोध

स्वर्गीय जी कृष्णैया की पत्नी के एडवोकेट ऑन रिकॉर्ड तान्या श्री ने बताया कि उन्होंने उमा देवी की तरफ से याचिका दायर की है। याचिका में स्वर्गीय जी कृष्णैया की पत्नी ने अपने पति की हत्या के दोषी आनंद मोहन को छूट देने के आदेश का विरोध करते हुए अदालत का दरवाजा खटखटाया है ।आनंद मोहन की रिहाई सुप्रीम कोर्ट के फैसलों के खिलाफ है और रिहाई का फैसला गलत तथ्यों के आधार पर लिया गया है।

 

Latest articles

कर्नाटक सरकार ने सारे मुसलमानों को आरक्षण देने के लिए ओबीसी लिस्ट में किया शामिल,

लोकसभा चुनाव जैसे - जैसे अगले चरण के चुनाव की तरफ बढ़ रहा है...

ईवीएम वीवीपीएटी वोट वेरिफिकेशन मामले पर सुप्रीम कोर्ट ने फिर फैसला रखा सुरक्षित

कुछ प्रश्नों पर चुनाव आयोग के अधिकारी से स्पष्टीकरण मांगने के बाद, सुप्रीम कोर्ट...

हेमंत सोरेन ने अपनी गिरफ्तारी और ईडी की कार्रवाई के खिलाफ शीर्ष अदालत में दाखिल की एसएलपी

न्यूज़ डेस्क अपनी गिरफ्तारी के खिलाफ झारखंड के पूर्व सीएम हेमंत सोरेन ने सुप्रीम...

पीएम मोदी का वज्र प्रहार,कांग्रेस का पंजा आपसे आरक्षण और मेहनत की कमाई छीन लेगा

देश में प्रथम चरण के मतदान के बाद इंडिया गंठबंधन के नेताओं खासकर कांग्रेस...

More like this

कर्नाटक सरकार ने सारे मुसलमानों को आरक्षण देने के लिए ओबीसी लिस्ट में किया शामिल,

लोकसभा चुनाव जैसे - जैसे अगले चरण के चुनाव की तरफ बढ़ रहा है...

ईवीएम वीवीपीएटी वोट वेरिफिकेशन मामले पर सुप्रीम कोर्ट ने फिर फैसला रखा सुरक्षित

कुछ प्रश्नों पर चुनाव आयोग के अधिकारी से स्पष्टीकरण मांगने के बाद, सुप्रीम कोर्ट...

हेमंत सोरेन ने अपनी गिरफ्तारी और ईडी की कार्रवाई के खिलाफ शीर्ष अदालत में दाखिल की एसएलपी

न्यूज़ डेस्क अपनी गिरफ्तारी के खिलाफ झारखंड के पूर्व सीएम हेमंत सोरेन ने सुप्रीम...