Homeदेशआखिर गोवा में आदिवास समूहों ने क्यों किया लोकसभा चुनाव के बहिष्कार...

आखिर गोवा में आदिवास समूहों ने क्यों किया लोकसभा चुनाव के बहिष्कार का ऐलान ?

Published on

- Advertisement -


न्यूज़ डेस्क 

सामने लोकसभा चुनाव है लेकिन गोवा में जनजातीय राजनीति कुलांचे मार रही है। गोवा की राजधानी पणजी में मिशन पॉलिटिकल रिजर्वेशन फॉर शेड्यूल ट्राइब्स यानी एमपीआरएसटी के बैनर तले कुल 16 अनुसूचित जनजातीय संगठनों ने विधानसभा में जनजातीय समूहों के लिए सीटें आरक्षित नहीं किए जाने पर अगले साल होने वाले लोकसभा चुनाव का बहिष्कार करने का प्रस्ताव पारित किया है।
इस समूह ने साफ़ तौर अपर ऐलान किया है कि लम्बे समय से एसटी सीटों की मांग विधानसभा में की जा रही है लेकिन अभी तक ऐसा नहीं हो पाया है। सभी पार्टियां आदिवासी समाज का वोट तो लेती है लेकिन उसका मौलिक अधिकार देना नहीं चाहती। ऐसे में अब जब तक विधान सभा में एसटी के लिए सीटें आरक्षित नहीं कर दी जाती हम अब अगले लोकसभा चुनाव में वोट नहीं डालेंगे और चुनाव   का बहिष्कार ही करेंगे।        
              एमपीआरएसटी के सचिव रूपेश वेलिप ने बताया कि संगठन के सदस्य केंद्रीय कानून एवं न्याय मंत्रालय से मिले जवाब से निराश हैं और शनिवार को हुई बैठक में चुनाव का बहिष्कार करने का संकल्प लिया है। मंत्रालय के विधायी विभाग ने कहा कि राज्य विधानसभा में अनुसूचित जनजातियों  के लिए सीटें आरक्षित करने की कवायद 2026 के बाद परिसीमन आयोग के माध्यम से ही होगी।
               पत्र मिलने के बाद गोवा में एसटी समुदाय ने फिर से 2024 में लोकसभा चुनाव का बहिष्कार करने की चेतावनी दी है। हाल ही में संपन्न मानसून सत्र में गोवा विधानसभा ने राज्य में एसटी के सदस्यों के लिए विधानसभा में आरक्षण का प्रावधान करने के लिए सर्वसम्मति से एक निजी सदस्य प्रस्ताव अपनाया था।                 
       वेलिप ने कहा, “समुदाय के कई सदस्यों ने इस मुद्दे को गंभीरता से नहीं लेने और इस मसले पर केंद्र सरकार के साथ बातचीत करने में टालमटोल को लेकर राज्य सरकार की आलोचना की है। सदन में आश्वासन देने के बावजूद मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत ने इस दिशा में कोई कदम क्यों नहीं उठाया, केंद्र से बात करने के लिए सर्वदलीय प्रतिनिधिमंडल क्‍यों नहीं भेजा।“
                       उन्होंने कहा कि एसटी संगठनों ने प्रत्येक ग्राम पंचायत स्तर पर ‘बहिष्कार’ जागरूकता बैठकें आयोजित करने का निर्णय लिया है। पहली सभा मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत के विधानसभा क्षेत्र सांक्वेलिम में होगी। वेलिप ने कहा, “अगर केंद्र सरकार 2024 के लोकसभा चुनावों की घोषणा से पहले गोवा विधानसभा में अनुसूचित जनजातियों के लिए सीटों के आरक्षण के संबंध में अधिसूचना जारी नहीं करती है, तो आगामी लोकसभा चुनावों का बहिष्कार करने का संकल्प लिया गया है।”
                 एमपीआरएसटी के नेताओं के अनुसार, यदि राजनीतिक आरक्षण दिया जाता है, तो विधानसभा में डिफ़ॉल्ट रूप से चार विधायक होंगे। इस समय विधानसभा में अध्यक्ष रमेश तवाडकर सहित चार एसटी सदस्य हैं।

Latest articles

सामने लोकसभा चुनाव और मुकदमों से कराहते विपक्षी दल क्या चुनाव जीतने लायक बचेंगे ?

न्यूज़ डेस्क इसमें कोई शक नहीं कि मौजूदा समय में बीजेपी से या एनडीए की...

रावण ने कुंभकरण,अहिरावण, मेघनाथ सबको उतार दिया था, बीजेपी की लिस्ट पर कांग्रेस

  बीरेंद्र कुमार झा मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए भारतीय जनता पार्टी की दूसरी लिस्ट...

जानिए सुप्रीम कोर्ट में आज कितने महत्वपूर्ण केस पर होगी सुनवाई ?

न्यूज़ डेस्क सुप्रीम कोर्ट में आज कई महत्वपूर्ण केसों पर सुनवाई होने वाली है। इसमें...

एमपी में बीजेपी ने जारी किए उम्मीदवारों की दूसरी लिस्ट, केंद्रीय मंत्री और सांसद शामिल

बीरेंद्र कुमार झा मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए भारतीय जनता पार्टी ने सोमवार रात...

More like this

सामने लोकसभा चुनाव और मुकदमों से कराहते विपक्षी दल क्या चुनाव जीतने लायक बचेंगे ?

न्यूज़ डेस्क इसमें कोई शक नहीं कि मौजूदा समय में बीजेपी से या एनडीए की...

रावण ने कुंभकरण,अहिरावण, मेघनाथ सबको उतार दिया था, बीजेपी की लिस्ट पर कांग्रेस

  बीरेंद्र कुमार झा मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए भारतीय जनता पार्टी की दूसरी लिस्ट...

जानिए सुप्रीम कोर्ट में आज कितने महत्वपूर्ण केस पर होगी सुनवाई ?

न्यूज़ डेस्क सुप्रीम कोर्ट में आज कई महत्वपूर्ण केसों पर सुनवाई होने वाली है। इसमें...