Homeदेशराष्ट्रपति मुर्मू ने सुधा मूर्ति को राज्य सभा के लिए नामित किया

राष्ट्रपति मुर्मू ने सुधा मूर्ति को राज्य सभा के लिए नामित किया

Published on

न्यूज़ डेस्क 
सुधा मूर्ति को आज राष्ट्रपति मुर्मू ने राज्यसभा के लिए नामित किया है। सुधा मूर्ति इनफ़ोसिस के संस्थापक नरायन मूर्ति की पत्नी हैं और सुधा मूर्ति की पहचान एक सामाजिक कार्यों के लिए भी प्रसिद्ध है। 
 

सुधा मूर्ति को लेकर प्रधानमंत्री मोदी ने ट्वीट करते हुए कहा है कि “मुझे खुशी है कि भारत के राष्ट्रपति ने सुधा मूर्ति को राज्यसभा के लिए नामित किया है। सामाजिक कार्य, परोपकार और शिक्षा सहित विविध क्षेत्रों में सुधा जी का योगदान असीम और प्रेरणादायक रहा है। राज्यसभा में उनकी उपस्थिति हमारी ‘नारी शक्ति’ का एक शक्तिशाली प्रमाण है, जो हमारे राष्ट्र की नियति को आकार देने में महिलाओं की ताकत और क्षमता का उदाहरण है। उनके फलदायी संसदीय कार्यकाल की कामना करता हूं।”

सुधा मूर्ति एक प्रसिद्ध लेखिका भी हैं। उन्होंने कह है कि राज्यसभा के लिए उनके नामांकन की घोषणा महिला दिवस के दिन होना उनके लिए दोहरी खुशी की बात है। इन्फोसिस फाउंडेशन की पूर्व चेयरपर्सन ने कहा कि उन्होंने कभी इस पद की मांग नहीं की और उन्हें इस बात का बिल्कुल भी अंदाजा नहीं है कि सरकार ने उन्हें उम्मीदवार क्यों बनाया है। उन्होंने कहा, “यह जानकारी महिला दिवस सामने आई और यह दोहरी खुशी की बात है। मैं बहुत ख़ुश हूँ। मैं अपने प्रधानमंत्री का आभारी हूं।” मूर्ति फिलहाल थाईलैंड की यात्रा पर हैं।

सुधा मूर्ति के पति नारायण मूर्ति ने कहा है कि  “मुझे देखना होगा कि चीजें क्या हैं… मैं क्या कर सकती हूं। यह मेरे लिए एक नया क्षेत्र है। इसलिए, मुझे पहले बैठकर अध्ययन करना होगा और फिर मैं इसे कर पाऊंगर। उन्होंने कहा कि वह घोषणा से सुखद रूप से आश्चर्यचकित थीं।

बता दें की सुधा मूर्ति इंफोसिस फाउंडेशन के संस्थापक नारायण मूर्ति की पत्नी हैं। सुधा मूर्ति के दो बच्चे हैं, बेटी अक्षता मूर्ति और बेटा रोहन मूर्ति। अक्षता नारायण मूर्ति ब्रिटेन में रहने वाली भारतीय फैशन डिजाइनर हैं और यूके के प्रधानमंत्री की पत्नी हैं। ब्रिटिश प्रधानमंत्री ऋषि सुनक सुधा मूर्ति के दामाद हैं। रोहन मूर्ति, मूर्ति क्लासिकल लाइब्रेरी ऑफ इंडिया के साथ ही एक डिजिटल ट्रांसफॉर्मेशन स्टार्ट अप सोरोको के संस्थापक हैं।

सुधा मूर्ति का जन्म उत्तरी कर्नाटक में शिगांव में 19 अगस्त 1950 को हुआ था। सुधा के पिता का नाम आर.एच कुलकर्णी और माता विमला कुलकर्णी है। उन्होंने बीवीबी कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी, हुबली से इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग में स्नातक किया। सुधा इंजीनियरिंग कॉलेज में 150 स्टूडेंट्स के बीच दाखिला पाने वाली पहली महिला थीं। जब वह क्लास में प्रथम आईं तो कर्नाटक के मुख्यमंत्री ने उन्हें पदक से सम्मानित किया। बाद में इंडियन इंस्टीट्यूट आफ साइंस से कंप्यूटर साइंस में मास्टर्स की डिग्री ग्रहण की थी। 

Latest articles

  राज्यपाल द्वारा विधेयको को मंजूरी देने मे ढिलाई का आरोप वाली जनहित याचिका पर सुनवाई

राज्यपाल को लेकर अक्सर यह आरोप लगाते रहते हैं कि ये केंद्र सरकार के...

कांग्रेस ने चुनाव आयोग से की आज फिर पीएम मोदी की शिकायत

न्यूज़ डेस्क कांग्रेस ने आज फिर से  निर्वाचन आयोग से प्रधानमंत्री मोदी की शिकायत की...

अरविंद केजरीवाल को बड़ा झटका, इंसुलिन की मांग व डॉक्टर से परामर्श वाली याचिका खारिज

इन दिनों जब से अरविन्द केजरीवाल ईडी के हाथों गिरफ्तार होकर पहले ईडी के...

रामलला का दर्शन कर निहाल हुए 30 देशों के रामभक्त

न्यूज़ डेस्क  अयोध्या में राम लला का दर्शन कर आज दुनिया के 30 देशों के लोग...

More like this

  राज्यपाल द्वारा विधेयको को मंजूरी देने मे ढिलाई का आरोप वाली जनहित याचिका पर सुनवाई

राज्यपाल को लेकर अक्सर यह आरोप लगाते रहते हैं कि ये केंद्र सरकार के...

कांग्रेस ने चुनाव आयोग से की आज फिर पीएम मोदी की शिकायत

न्यूज़ डेस्क कांग्रेस ने आज फिर से  निर्वाचन आयोग से प्रधानमंत्री मोदी की शिकायत की...

अरविंद केजरीवाल को बड़ा झटका, इंसुलिन की मांग व डॉक्टर से परामर्श वाली याचिका खारिज

इन दिनों जब से अरविन्द केजरीवाल ईडी के हाथों गिरफ्तार होकर पहले ईडी के...