Homeदेशआलाकमान को पीड़ा सुनाने दिल्ली गए कांग्रेस विधायकों को नहीं मिला है...

आलाकमान को पीड़ा सुनाने दिल्ली गए कांग्रेस विधायकों को नहीं मिला है मिलने का समय

Published on

झारखंड में चंपई सोरेन के मुख्यमंत्रित्व वाले कैबिनेट का हाल में हुआ विस्तार कांग्रेस के लिए एक मुसीबत बन गई है। इस मंत्रिमंडल में कांग्रेस के पूर्व मंत्रियों को ही दुबारा जगह मिलने से 12 कांग्रेसी विधायक नाराज हो गए इन लोगों ने पहले तो प्रदेश झारखंड प्रदेश अध्यक्ष से मिलकर अपनी पीड़ा का समाधान ढूंढने का प्रयास किया,लेकिन जब यहां बात नहीं बनी और कांग्रेस के पूर्व मंत्रियों को ही नए कैबिनेट में भी मंत्री बनाए रखा गया तो फिर कांग्रेस के नाराज 12 विधायकों में से 8 अपनी पीड़ा को लेकर दिल्ली चले गए। रांची से शनिवार को दिल्ली पहुंचे कांग्रेस के इन नेताओं ने सोचा था कि दिल्ली पहुंचकर जब ये पार्टी के आलाकमान से मिलकर अपनी पीड़ा कहेंगे तो आलाकमान इनका मान रखने के लिए कम से कम पूर्व में मंत्री रहे कांग्रेसी नेताओं में से कुछ को चंपई सोरेन के नए मंत्रिमंडल से हटवा कर इन नाराज कांग्रेस विधायकों में से कुछ को शामिल करवाएंगे। लेकिन हुआ इसका उल्टा पिछले तीन दिनों से दिल्ली में डेरा जमाए हुए कांग्रेस के इन नाराज विधायक को अभी तक आलाकमान न से मिलने का वक्त तक नहीं दिया गया है। दिल्ली दरबार झारखंड से आए कांग्रेस के इन नाराज विधायकों को कोई भाव ही नहीं दे रहा है। इधर शनिवार को दिल्ली पहुंच कर इन विधायकों ने एक रिसॉर्ट में डेरा जमाया था।सोमवार को इन विधायकों ने उस रिसॉर्ट को छोड़ दिया है।कांग्रेस के इन नाराज विधायकों ने प्रदेश के नेताओं से भी दूरी बना ली है।इधर प्रदेश नेतृत्व विधायकों के नए ठिकाने का पता लगाने में जुटा है।

झारखंड प्रभारी ने आलाकमान को किया है अपडेट

कांग्रेस के इन नाराज विधायकों से झारखंड के प्रभारी गुलाम अहमद मीर ने बातचीत की है। रांची में शपथ ग्रहण से पूर्व और दिल्ली में भी इन विधायकों से झारखंड के प्रभारी गुलाम अहमद मीर की बातचीत हुई है। प्रभारी गुलाम अहमद मीर ने विधायकों की समस्याएं सुनी और उनकी नाराजगी को दूर करने का प्रयास किया है। उन्होंने विधायकों को आश्वासन दिया कि आपका जो भी कार्य होगा ,संबंधित विभाग के मंत्री उसे गंभीरता से लेकर उसका शीघ्र निदान करेंगे। मंत्रियों के कामों की भी मॉनिटरिंग होगी।झारखंड प्रभारी गुलाम अहमद मीर ने इन विधायकों के साथ हुई बातचीत से कांग्रेस आलाकमान को अवगत करा दिया है।

कांग्रेस के नाराज विधायकों ने बनाया है व्हाट्सएप ऐप ग्रुप

कांग्रेस के नाराज विधायकों ने एक व्हाट्सएप ग्रुप बनाया है। पहले इस ग्रुप में 12 विधायक थे।इसमें चार विधायक दिल्ली नहीं गए ऐसे में उन्हें इस व्हाट्स ऐप से विलोपित कर दिया गया ,जिससे यह व्हाट्सएप ग्रुप छोटा हो गया है।झारखंड कांग्रेस के नाराज विधायक इसी ग्रुप में सूचनाओं का आदान-प्रदान कर रहे हैं। इस पूरे प्रकरण पर झारखंड प्रदेश अध्यक्ष राजेश ठाकुर ने कहा है कि कांग्रेस के सभी विधायक हमारे साथ हैं। पार्टी पूरी तरह से इंटैक्ट है।कुछ विधायकों की कुछ पीड़ा रही होगी जिसे वे केंद्रीय नेतृत्व को बताना चाहते हैं और इसलिए वह दिल्ली गए हुए हैं। केंद्रीय नेतृत्व से मिलने में कोई परेशानी वाली बात नहीं है।

आठ विधायक तो मंत्री नहीं बन सकते

पार्टी के फैसले से नाराज चल रहे कांग्रेस विधायक राजेश कच्छप ने बताया की वे केंद्रीय नेतृत्व से बात करने दिल्ली आए हैं।हम अपनी भावना से केंद्रीय नेतृत्व को अवगत करना चाहते हैं।हमारी इतनी शिकायत है कि मंत्रिमंडल विस्तार से पहले विधायकों की राय ली जानी चाहिए थी।हम सभी मंत्री तो बन नहीं सकते हैं। यहां आठ विधायक हैं, सभी मंत्री बनने तो नहीं आए हैं, लेकिन इनमें से दो या तीन को तो मंत्री बनाया जा सकता था।हमने झारखंड प्रभारी गुलाम मोहम्मद मीर और पूर्व झारखंड प्रभारी उमंग सिंगार से बात की है। वे हमारी बातों को आलाकमान तक पहुंचा देंगे।गौरतलब है कि कांग्रेस के ये नाराज विधायक झारखंड मंत्रिमंडल विस्तार में दोबारा कांग्रेस खेमे से जगह पाने वाले मंत्रियों को हटाकर कांग्रेस के उन विधायकों को मंत्री बनना चाहते हैं जिन्हें अभी तक मंत्री पद नहीं मिला है।

झारखंड कांग्रेस के नाराज विधायकों के तरीके से नाराज हैं केसी वेणुगोपाल

कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव केसी वेणुगोपाल ने झारखंड के कुछ नाराज विधायकों से फोन पर बात की है। उन्होंने विधायकों के विरोध के तरीके पर नाराजगी जताई है।कांग्रेस महासचिव केसी वेणुगोपाल ने प्रदेश नेतृत्व से भी इस मामले में अपडेट लिया है।

Latest articles

राजस्थान में 73 हजार से अधिक बुजुर्ग और दिव्यांग मतदाताओं ने किया घर से मतदान

न्यूज़ डेस्क राजस्थान में लोकसभा आम चुनाव में अब तक 73 हजार से अधिक बुजुर्ग...

  राज्यपाल द्वारा विधेयको को मंजूरी देने मे ढिलाई का आरोप वाली जनहित याचिका पर सुनवाई

राज्यपाल को लेकर अक्सर यह आरोप लगाते रहते हैं कि ये केंद्र सरकार के...

कांग्रेस ने चुनाव आयोग से की आज फिर पीएम मोदी की शिकायत

न्यूज़ डेस्क कांग्रेस ने आज फिर से  निर्वाचन आयोग से प्रधानमंत्री मोदी की शिकायत की...

अरविंद केजरीवाल को बड़ा झटका, इंसुलिन की मांग व डॉक्टर से परामर्श वाली याचिका खारिज

इन दिनों जब से अरविन्द केजरीवाल ईडी के हाथों गिरफ्तार होकर पहले ईडी के...

More like this

राजस्थान में 73 हजार से अधिक बुजुर्ग और दिव्यांग मतदाताओं ने किया घर से मतदान

न्यूज़ डेस्क राजस्थान में लोकसभा आम चुनाव में अब तक 73 हजार से अधिक बुजुर्ग...

  राज्यपाल द्वारा विधेयको को मंजूरी देने मे ढिलाई का आरोप वाली जनहित याचिका पर सुनवाई

राज्यपाल को लेकर अक्सर यह आरोप लगाते रहते हैं कि ये केंद्र सरकार के...

कांग्रेस ने चुनाव आयोग से की आज फिर पीएम मोदी की शिकायत

न्यूज़ डेस्क कांग्रेस ने आज फिर से  निर्वाचन आयोग से प्रधानमंत्री मोदी की शिकायत की...