Homeदेशपीएम की ओबीसी जाति को लेकर राहुल द्वारा दिया गया बयान क्या गलत...

पीएम की ओबीसी जाति को लेकर राहुल द्वारा दिया गया बयान क्या गलत है ?

Published on

न्यूज़ डेस्क

प्रधानमंत्री मौजूदा समय में तो ओबीसी समुदाय से ही आते हैं। लेकिन राहुल गाँधी ने पने बयान में जो तर्क दिया है उसमे कही न कही कोई झोल जरूर है। झोल यही है कि गुजरात में घांची तेली समाज को कब से ओबीसी के भीतर लाया गया ?

लगता है कि राहुल ने जिस तारीख का बखान किया है वह गलत है और तारीख गलत है तो राहुल के बयान भी झूठ और गलत ही लगते हैं। हालांकि यह भी साफ़ है कि प्रधानमंत्री मोदी जन्मजात ओबीसी समाज से नहीं है। उनकी जाति ओबीसी में बाद में ही दर्ज की गई है।राहुल ने कहा था कि , “आपलोगों को भयंकर बेवकूफ बनाया जा रहा है। पीएम मोदी ओबीसी पैदा नहीं हुए थे। वह तो तेली जाति में जन्मे थे।” राहुल के इस बयान को उनकी पार्टी के ही पूर्व नेता ने झूठ बताया है और उनसे इस झूठ को वापस लेने की मांग की है।           

गुजरात से भाजपा के राज्यसभा सांसद और पूर्व में कांग्रेस के नेता रहे नरहरि अमीन ने कहा कि जिस व्यक्ति को अपना गोत्र तक नहीं पता, वो आज एक गरीब परिवार और तेली समाज में जन्मे प्रधानमंत्री को ओबीसी सर्टिफिकेट दे रहा है! यह सामाजिक तौर पर पिछड़े सभी लोगों का अपमान नहीं तो और क्या है?

नरहरि अमीन ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म एक्स पर लिखा कि जब 25 जुलाई 1994 को जीओजी ने मोध-घांची को ओबीसी के रूप में अधिसूचित किया, तब मैं कांग्रेस सरकार में गुजरात के उपमुख्यमंत्री के रूप में कार्यरत था। यह वही जाति है जो हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की है। ऐसे में इसको लेकर बयान देकर राहुल गांधी द्वारा ओबीसी समुदायों का अपमान किया जा रहा है।

अमीन ने आगे लिखा कि इस मुद्दे पर नासमझी भरा झूठ गढ़ा जा रहा है। यह निर्णय और उसके बाद भारत सरकार की अधिसूचना तब आई, जब नरेंद्र मोदी सीएम बनना तो दूर की बात, सांसद या विधायक भी नहीं थे। उन्होंने लिखा, “मैं राहुल गांधी से मांग करता हूं कि तुरंत अपना झूठ वापस लें। उन्हें ओबीसी को बदनाम करना बंद करना चाहिए और हमारे लोकप्रिय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के प्रति नफरत से भरे होने के लिए गुजरात के लोगों से भी माफी मांगनी चाहिए। इससे पहले केंद्र सरकार की तरफ से राहुल गांधी के इस बयान पर पलटवार किया गया है और बताया गया है कि यह सरासर झूठ है।”

मोदी की जाति को उनके गुजरात के मुख्यमंत्री बनने से पूरे 2 साल पहले 27 अक्टूबर 1999 को ओबीसी के रूप में अधिसूचित किया गया था। सरकार की तरफ से ‘राहुल गांधी की स्टेटमेंट पर तथ्य’ शीर्षक से जारी संक्षिप्त नोट में बताया गया है कि नरेंद्र मोदी गुजरात की जिस जाति से आते हैं] वह मोध-घांची जाति सामाजिक और शैक्षिक रूप से पिछड़ा वर्ग ओबीसी कैटेगरी में गुजरात में शामिल है।

भारत सरकार की गुजरात के लिए 105 ओबीसी जातियों की सूची में नरेंद्र मोदी की जाति मोध-घांची भी इसमें शामिल है। मंडल आयोग ने सूचकांक 91 (ए) के तहत ओबीसी की एक सूची तैयार की, जिसमें इस जाति को इस कैटेगरी में शामिल किया गया था।

Latest articles

लोकसभा चुनाव : सीईसी ने कहा ईवीएम की पारदर्शिता हर कीमत पर बरकरार रखी जाएगी

न्यूज़ डेस्क  मुख्य चुनाव आयुक्त राजीव कुमार ने कहा कि निष्पक्ष लोकसभा चुनाव सुनिश्चित कराने...

पंजाब के खनौरी बॉर्डर पर गोलीबारी , दो किसान की मौत !

न्यूज़ डेस्क किसान आंदोलन स्थल से बड़ी खबर आ रही है।पंजाब के खनौरी बॉर्डर से गोलीबारी...

ICC Rankings: यशस्वी जायसवाल का ICC टेस्ट रैंकिंग में भी धमाल, 14 पायदान की लंबी छलांग के साथ अब इस नंबर पर

ICC Rankings:टीम इंडिया के उभरते युवा सलामी बल्लेबाज यशस्वी जायसवाल ने इंग्लैंड के खिलाफ...

RRB Recruitment 2024: रेलवे में टेक्नीशियन के पदों बंपर भर्ती, इस दिन से शुरू होंगे आवेदन

RRB Recruitment 2024: रेलवे भर्ती का इंतजार कर रहे योग्य युवाओं को लिए खुशखबरी...

More like this

लोकसभा चुनाव : सीईसी ने कहा ईवीएम की पारदर्शिता हर कीमत पर बरकरार रखी जाएगी

न्यूज़ डेस्क  मुख्य चुनाव आयुक्त राजीव कुमार ने कहा कि निष्पक्ष लोकसभा चुनाव सुनिश्चित कराने...

पंजाब के खनौरी बॉर्डर पर गोलीबारी , दो किसान की मौत !

न्यूज़ डेस्क किसान आंदोलन स्थल से बड़ी खबर आ रही है।पंजाब के खनौरी बॉर्डर से गोलीबारी...

ICC Rankings: यशस्वी जायसवाल का ICC टेस्ट रैंकिंग में भी धमाल, 14 पायदान की लंबी छलांग के साथ अब इस नंबर पर

ICC Rankings:टीम इंडिया के उभरते युवा सलामी बल्लेबाज यशस्वी जायसवाल ने इंग्लैंड के खिलाफ...