Homeदेशबिहार में हर कोई पड़ोसी की जाति से परिचित,फिर जाति गणना निजता...

बिहार में हर कोई पड़ोसी की जाति से परिचित,फिर जाति गणना निजता का हनन कैसे: सुप्रीम कोर्ट

Published on

 

बीरेंद्र कुमार झा
बिहार में जाति गणना को लेकर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हो रही है। शुक्रवार को मामले में सुनवाई के दौरान शीर्ष अदालत ने सवाल किया कि क्या बिहार में जाति गणना से संविधान के अनुच्छेद 21 के तहत लोगों के निजता का अधिकार प्रभावित होता है? कोर्ट ने यह भी पूछा कि जब बिहार जैसे राज्य में हर कोई अपने पड़ोसियों की जाति जानता है, तो क्या राज्य सरकार द्वारा किए जा रहे जाति सर्वेक्षण से लोगों की निजता का उल्लंघन होगा।

न्यायमूर्ति संजीव खन्ना और एसवीएन भट्टी की पीठ ने बिहार में जातीय गणना जारी रखने के पटना हाई कोर्ट के फैसले के खिलाफ दाखिल अपील पर सुनवाई करते हुए यह टिप्पणी की।इससे पहले बिहार सरकार की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता श्याम दीवान ने पीठ को बताया कि 6 अगस्त को जातीय सर्वेक्षण का काम पूरा हो गया है। इसके बाद पीठ ने कहा कि हम इस मामले में किसी तरह का नोटिस जारी नहीं करेंगे, बल्कि विस्तार से सुनेंगे।

न्यायमूर्ति खन्ना ने कहा कि यदि हम बिहार सरकार को नोटिस जारी करते हैं, तो अंतरिम आदेश पारित करने का सवाल सामने आएगा। जबकि सर्वेक्षण का काम पूरा हो गया है,इसलिए बेहतर होगा कि आप सभी दोनों पक्षों के वकील बहस के लिए तैयार रहे हैं। कोर्ट ने कहा कि नोटिस जारी करने पर अक्टूबर नवंबर में सुनवाई संभव होगा। ऐसे में अंतरिम आदेश पारित करने का दवाब होगा। इसलिए बेहतर होगा कि जल्दी सुनवाई पूरी की जाए।

तब संक्षिप्त आदेश जारी करेंगे

न्यायमूर्ति खन्ना ने कहा कि यदि हमें लगता है कि अपील में कुछ आधार है, तो समुचित आदेश पारित करेंगे ।अगर हमें लगता है कि कोई मामला नहीं बनता है हम स्वीकृति में एक संक्षिप्त आदेश पारित करेंगे। यह टिप्पणी करते हुए पीठ ने मामले की सुनवाई सोमवार तक के लिए स्थगित कर दी। इसके बाद अपीलकर्ता की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता अपराजिता सिंह ने सरकार को सर्वेक्षण का रिपोर्ट प्रकाशित करने पर रोक लगाने की मांग की।पीठ ने इस बारे में किसी तरह का आदेश पारित करने से इंकार कर दिया।

हाईकोर्ट के फैसले में दखल से सुप्रीम कोर्ट कर चुका है इनकार

सुप्रीम कोर्ट सुप्रीम कोर्ट 14 अगस्त को भी बिहार में जातीय गणना को जारी रखने के पटना हाई कोर्ट के फैसले में किसी तरह का दखल देने से इनकार कर दिया था।शीर्ष न्यायालय ने मामले की सुनवाई 18 अगस्त तक के लिए स्थगित करते हुए कहा था कि दूसरा पक्ष को सुने बगैर हम मामले में किसी भी तरह से सर्वेक्षण या इसके रिपोर्ट प्रकाशित करने पर रोक लगाने या यथास्थिति बनाए रखने का आदेश पारित नहीं कर सकते।इससे पहले कोर्ट ने 7 अगस्त को यथास्थिति बनाए रखने या बिहार सरकार को नोटिस जारी करने से इंकार कर दिया था। पीठ ने गैर सरकारी संगठन ‘ एक सोच एक प्रयास की ओर से दाखिल याचिका को पटना हाई कोर्ट के उसी फैसले को चुनौती देने वाली अन्य याचिकाओं के साथ सुनवाई कर रही है।

पटना हाईकोर्ट खारिज कर चुका है याचिका

पटना हाईकोर्ट ने 1 अगस्त को याचिकाकर्ता संगठन ‘ एक सोच एक प्रयास’ एवं अन्य की ओर से दाखिल याचिकाओं को खारिज कर दिया था।और बिहार सरकार को जातीय गणना का काम जारी रखने को कहा था ।हाईकोर्ट ने अपने फैसले में कहा था कि राज्य सरकार योजनाएं तैयार करने के लिए सामाजिक, आर्थिक और शैक्षणिक स्थिति को ध्यान में रखकर जातीय गणना करा सकती है।

इस आधार पर फैसले को दी चुनौती

याचिकाकर्ताओं ने सुप्रीम कोर्ट में कहा कि हाईकोर्ट ने उन तथ्यों पर विचार किए बगैर ही उनकी याचिका को खारिज कर दिया कि बिहार सरकार द्वारा 6 जून 2022 को जारी अधिसूचना के माध्यम से जातीय गणना को अधिसूचित करने की क्षमता नहीं है।

 

Latest articles

जम्मू कश्मीर में पांच सौ पैरा कमांडो तैनात ,पाक आतंकियों का अब होगा खात्मा !

न्यूज़ डेस्क जम्मू कश्मीर में जिस तरह फिर से आतंकवाद सिर उठा रहा है...

बांग्लादेश की हालत ख़राब ,अब तक 900 भारतीय लौटे भारत

न्यूज़ डेस्क बांग्लादेश में लगातार हो रही हिंसा के बीच पूरे देश में कर्फ्यू लगा...

जनसंख्या नियंत्रण को लेकर कांग्रेस और बीजेपी आमने -सामने 

न्यूज़ डेस्क जनसंख्या नियंत्रण को लेकर कांग्रेस और बीजेपी के बीच आरोप -प्रत्यारोप शुरू हो...

दुकानदारका नाम अनिवार्य कर अकेले पड़े योगी,विपक्ष के साथ सत्ता पक्ष से भी उठे आवाज

उत्तर प्रदेश में कावड़ मार्ग पर लगने वाले दुकानों में दुकानदारों के नाम वाले...

More like this

जम्मू कश्मीर में पांच सौ पैरा कमांडो तैनात ,पाक आतंकियों का अब होगा खात्मा !

न्यूज़ डेस्क जम्मू कश्मीर में जिस तरह फिर से आतंकवाद सिर उठा रहा है...

बांग्लादेश की हालत ख़राब ,अब तक 900 भारतीय लौटे भारत

न्यूज़ डेस्क बांग्लादेश में लगातार हो रही हिंसा के बीच पूरे देश में कर्फ्यू लगा...

जनसंख्या नियंत्रण को लेकर कांग्रेस और बीजेपी आमने -सामने 

न्यूज़ डेस्क जनसंख्या नियंत्रण को लेकर कांग्रेस और बीजेपी के बीच आरोप -प्रत्यारोप शुरू हो...