Homeदेशगुरमीत राम रहीम को हाई कोर्ट से बड़ी राहत, डेरा मैनेजर रंजीत...

गुरमीत राम रहीम को हाई कोर्ट से बड़ी राहत, डेरा मैनेजर रंजीत सिंह हत्याकांड में हुआ बरी

Published on

अपने अलग अलग पोजों और विलासिता पूर्ण लाइफ स्टाइल के लिए जाने जाने वाले डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम सिंह को डेरा मैनेजर रंजीत सिंह की हत्या मामले में पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट ने मंगलवार को बरी कर दिया। कोर्ट ने राम रहीम के साथ चार अन्य दोषियों को भी बरी कर दिया।

डेरा मैनेजर रंजीत सिंह के हत्या मामले में हाईकोर्ट से बरी हुए गुरमीत राम रहीम

2021 में पंचकूला में स्पेशल सीबीआई अदालत ने राम रहीम और चार अन्य को उम्रकैद की सजा सुनाई थी।10 जुलाई 2002 को डेरा मैनेजर रंजीत सिंह का कुरुक्षेत्र के खानपुर कोलियां में गोली मारकर हत्या कर दी गई थी।डेरा प्रमुख गुरमीत राम रहीम ने सीबीआई कोर्ट के फैसले को हाई कोर्ट में चुनौती दी थी। आज हाईकोर्ट के जस्टिस सुरेश्वर ठाकुर और जस्टिस ललित बत्रा की खंडपीठ ने उन्हें इस मामले में बरी कर दिया।

जेल से बाहर नहीं आ पाएगा राम रहीम

राम रहीम पत्रकार रामचंद्र छत्रपति हत्याकांड और रेप के मामले में दोषी हैं।इसके अलावा भी कई और केस उसके खिलाफ लंबित हैं। रेप और छत्रपति हत्याकांड पर निचली अदालत के फैसले को भी राम रहीम ने हाई कोर्ट में चुनौती दी है और मामला हाई कोर्ट में लंबित है। ऐसे में साफ है कि वे रंजीत सिंह हत्या मामला में बरी होने के बावजूद जेल से बाहर नहीं आ सकते हैं। राम रहीम फिलहाल रोहतक की सुनारिया जेल में बंद है।

गुमनाम पत्र के सहारे डेरा के अंदर यौन शोषण को उजागर करने के संदेह में डेरा मैनेजर की हत्या का था आरोप

18 अक्टूबर 2021 को पंचकूला की विशेष सीबीआई अदालत ने डेरा प्रमुख गुरमीत राम रहीम और चार अन्य को आजीवन कारावास की सजा सुनाई थी।इस मामले में अन्य आरोपी अवतार सिंह, कृष्ण लाल, जसबीर सिंह और सबदिल सिंह थे। केस की सुनवाई के दौरान एक आरोपी की मौत हो गई थी। सीबीआई जज ने राम रहीम पर 31 लाख रुपये, सबदिल पर 1.50 लाख रुपये, जसबीर और कृष्ण पर 1.25-1.25 लाख रुपये का जुर्माना लगाया था।पंचकूला की सीबीआई अदालत ने कहा था कि इस तथ्य पर कोई संदेह नहीं है कि गुमनाम पत्र के प्रसार से गुरमीत राम रहीम व्यथित महसूस कर रहे थे, जिसमें डेरा की साध्वियों के यौन शोषण के गंभीर आरोप थे।रणजीत सिंह को गुमनाम पत्र को सार्वजनिक करने में उनकी संदिग्ध भूमिका के बाद डेरा से हटा दिया गया था, इस पत्र में कहा गया था कि कैसे डेरा प्रमुख महिलाओं से यौन शोषण करते थे।

Latest articles

बीजेपी से हितों की उम्मीद – दिवास्वप्न!

ऐसा देखा गया है कि भाजपा ने लगातार अन्य राजनीतिक दलों को विभाजित करने,...

आईएनएस सुनयना का एमसीजी डोर्नियर और मॉरीशस पुलिस बल ने किया जोरदार स्वागत !

न्यूज़ डेस्क भारत का आईएनएस सुनयना इन दिनों मॉरीशस पहुंचा हुआ है। समुद्र में लम्बी...

केन्द्रीय बजट 2024-25 के लिए सुझाव लेने हेतु वित्त मंत्रियों के साथ सीतारमण ने की बैठक 

न्यूज़ डेस्क केन्द्रीय वित्त एवं कॉरपोरेट कार्य मंत्री निर्मला सीतारमण ने आज नई दिल्ली में...

जोधपुर में साम्प्रदायिक हिंसा ,हिरासत में लिए गए 40 लोग 

न्यूज़ डेस्क राजस्थान का जोधपुर अचानक हिंसाग्रस्त हो गया। दो समुदायों के बीच हिंसक झड़पे...

More like this

बीजेपी से हितों की उम्मीद – दिवास्वप्न!

ऐसा देखा गया है कि भाजपा ने लगातार अन्य राजनीतिक दलों को विभाजित करने,...

आईएनएस सुनयना का एमसीजी डोर्नियर और मॉरीशस पुलिस बल ने किया जोरदार स्वागत !

न्यूज़ डेस्क भारत का आईएनएस सुनयना इन दिनों मॉरीशस पहुंचा हुआ है। समुद्र में लम्बी...

केन्द्रीय बजट 2024-25 के लिए सुझाव लेने हेतु वित्त मंत्रियों के साथ सीतारमण ने की बैठक 

न्यूज़ डेस्क केन्द्रीय वित्त एवं कॉरपोरेट कार्य मंत्री निर्मला सीतारमण ने आज नई दिल्ली में...