Homeदेशखुलासा : पाकिस्तानी कंपनी ने भी ख़रीदे चुनावी बांड !

खुलासा : पाकिस्तानी कंपनी ने भी ख़रीदे चुनावी बांड !

Published on

न्यूज़ डेस्क 
चुनावी बांड की पूरी जानकारी चुनाव आयोग के वेव साइट पर लोड होने के बाद अब उन तमाम कंपनियों की जांच शुरू हो गई है जिसने चुनावी बांड को ख़रीदे और राजनीतिक पार्टियों को चंदे के रूप में दिए हैं। अभी तक कुछ कुछ कंपनियों की जानकारी सामने है। जो जानकारी है वह चौंकाने वाले हैं। जानकारी के मुताबिक पाकिस्तानी कंपनियों ने भी चुनावी बांड को ख़रीदे हैं।  

पाकिस्तान की एक पावर कंपनी ने भी भारतीय राजनीतिक दलों को चंदा दिया है। भारतीय राजनीतिक दलों को चुनावी चंदा देने वाली यह पाकिस्तानी कंपनी बिजली उत्पादक यानी पावर प्रोड्यूसर के तौर पर काम करती है। कंपनी का नाम ‘हब पावर कंपनी लिमिडेट’ है, जो पाकिस्तान की सबसे बड़ी पावर उत्पादन कंपनी है। चुनाव आयोग के जरिए जो जानकारी अपलोड की गई है, उसमें हब पावर का नाम सामने आ रहा है। इस पाकिस्तानी कंपनी ने 18 अप्रैल 2019 को करीब 95 लाख रुपये का चंदा राजनीतिक दलों को दिया था।   

डेटा के मुताबिक, एसबीआई  ने 2018 में शुरू हुई योजना के बाद से अब तक 30 किश्तों में 16,518 करोड़ रुपये के इलेक्टोरल बॉन्ड की जानकारी सार्वजनिक की है। इसमें बताया गया है कि 1 अप्रैल, 2019 से 15 फरवरी, 2024 के बीच 22,217 बॉन्ड खरीदे गए, जोकि इस तीन मूल्यवर्ग यानी ₹1 लाख, ₹10 लाख और ₹1 करोड़ के हैं। इस दौरान भुनाए गए बॉन्ड्स की कुल संख्या 22,030 है।     
 

चुनाव आयोग द्वारा अपनी वेबसाइट पर अपलोड की गई जानकारी के मुताबिक, फ्यूचर गेमिंग एंड होटल सर्विसेज और मेघा इंजीनियरिंग इंफ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड अप्रैल 2019 से जनवरी 2024 तक इस लिस्ट में टॉप पर हैं। इस कंपनी ने 1,368 करोड़ रुपये के चुनावी बॉन्ड खरीदे हैं। वहीं 966 करोड़ रुपये के फंड के साथ मेघा इंजीनियरिंग एंड इंफ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड दूसरी सबसे बड़ी कंपनी है, जिनसे चुनावी बॉन्ड खरीदे हैं।

किसकी कंपनी है फ्यूचर गेमिंग एंड होटल सर्विसेज?

1,368 करोड़ रुपये के चुनावी बॉन्ड खरीदे वाले कथित तौर पर फ्यूचर गेमिंग के मालिक दक्षिण भारत के लॉटरी किंग सैंटियागो मार्टिन हैं। फ्यूचर की वेबसाइट के अनुसार, मार्टिन ने 13 साल की उम्र में लॉटरी व्यवसाय शुरू किया था। इसके बाद वह पूरे देश में लॉटरी के खरीदारों और विक्रेताओं के एक विशाल नेटवर्क को विकसित करने में कामयाबी हासिल की। दक्षिण में यह फर्म मार्टिन कर्नाटक के तहत चलती है। वहीं, उत्तर-पूर्व में इसे मार्टिन सिक्किम लॉटरी के नाम से लोग जानते हैं।

मेघा इंजीनियरिंग चुनावी बॉन्ड खरीदने में दूसरे नंबर पर

बांध और बिजली प्रोजेक्ट्स बनाने वाली कंपनी मेघा इंजीनियरिंग इंफ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड के मालिक स्वामित्व पीवी कृष्णा रेड्डी और पीपी रेड्डी हैं। हैदराबाद में इसका मुख्यालय है। यह कंपनी सिंचाई, जल प्रबंधन, बिजली, हाइड्रोकार्बन, परिवहन, भवन और औद्योगिक बुनियादी ढांचे के क्षेत्र में काम करती है। यह केंद्र और राज्य सरकारों के साथ पीपीपी (सार्वजनिक-निजी भागीदारी) में अग्रणी रही है। फिलहाल देशभर के 18 से ज्यादा प्रदेशों में कंपनी के प्रोजेक्ट्स चल रहे हैं।

चुनाव आयोग ने अपनी वेबसाइट पर अपलोड की जानकारी

चुनाव आयोग द्वारा अपनी वेबसाइट पर दो अलग-अलग डिटेल को अपलोड किया गया है। पहली पीडीएफ में 337 पेज हैं, जिसमें चुनावी बॉन्ड खरीदने वाली कंपनियों और संस्थाओं के नाम हैं। साथ ही इसमें खरीद की तारीख और पैसे की सूचना शामिल है। वहीं, दूसरी पीडीएफ में 426 पेज हैं, जिसमें राजनीतिक दलों के नाम, तारीख और राशि की डिटेल दी गई है। हालांकि इससे यह स्पष्ट नहीं है कि किस कंपनी या संस्थान ने कौन-सा इलेक्टोरल बॉन्ड खरीदा है। दरअसल क्योंकि उपलब्ध कराई गई जानकारी में बॉन्ड संख्या शामिल का विवरण नहीं दिया गया है। इसके साथ ही यह भी नहीं बताया गया है कि किस कंपनी ने किस पार्टी को फंड दिया।

Latest articles

दूसरे चरण में महाराष्ट्र की आठ सीटों पर होंगे चुनाव ,शिंदे और शरद पवार की प्रतिष्ठा दाव पर 

न्यूज़ डेस्क वैसे तो देश की सभी सीटों पर चुनाव लड़ रहे हर उम्मीदवार की...

चार वर्षीय डिग्री लेने वाले छात्र अब सीधे पीएचडी और नेट की परीक्षा में बैठ सकते हैं 

न्यूज़ डेस्क यूजीसी ने शिक्षा में बड़ा बदलाव करते हुए चार साल की स्नातक डिग्री...

चुनाव के दौरान बयानों गरमाई सियासत ,पीएम मोदी पर खड़गे हुए हमलावर !

न्यूज़ डेस्क चुनाव के दौरान बयानों की राजनीति कब सुर्खियां बन जाए यह कोई नहीं...

बिल गेट्स वित्तपोषक, लेखक, संपादक, सलाहकार के रूप में? डेटा साम्राज्यवाद: मेट्रिक्स में हेरफेर

महामारी विज्ञान में पोस्टडॉक्टरल, जो भारतीय सशस्त्र बलों में दो दशकों से अधिक समय...

More like this

दूसरे चरण में महाराष्ट्र की आठ सीटों पर होंगे चुनाव ,शिंदे और शरद पवार की प्रतिष्ठा दाव पर 

न्यूज़ डेस्क वैसे तो देश की सभी सीटों पर चुनाव लड़ रहे हर उम्मीदवार की...

चार वर्षीय डिग्री लेने वाले छात्र अब सीधे पीएचडी और नेट की परीक्षा में बैठ सकते हैं 

न्यूज़ डेस्क यूजीसी ने शिक्षा में बड़ा बदलाव करते हुए चार साल की स्नातक डिग्री...

चुनाव के दौरान बयानों गरमाई सियासत ,पीएम मोदी पर खड़गे हुए हमलावर !

न्यूज़ डेस्क चुनाव के दौरान बयानों की राजनीति कब सुर्खियां बन जाए यह कोई नहीं...