Homeदेशलोकतंत्र का नर्तन : पहले चरण के 102 सीटों के चुनाव में...

लोकतंत्र का नर्तन : पहले चरण के 102 सीटों के चुनाव में 252 दागी और 450 करोड़पतियों की पैतरेबाजी !

Published on

न्यूज़ डेस्क सबकुछ लोकतंत्र के नाम पर हो रहा है। जिधर देखों उधर ही लोकतंत्र की चर्चा हो रही है। सब कह रहे हैं कि लोकतंत्र बचे इसी लिए बेहतर चुनाव हो। लेकिन जब चुनाव लड़ने वाले ही लोकतंत्र के साथ मजाक उढ़ाये तो उसे क्या कहेंगे ? सच तो यही है। लेकिन मानता कौन कौन है ? लड़ने वाले तो मानेंगे नहीं और जो भगत राम जनता है उनको ऐसे उम्मीदवारों से क्या मतलब जो दिन दहाड़े जनता का खून पीने पर उतारू रहते हैं। और जो बच गए उसकी कमर को तोड़ने के लिए धनधारी लोग ताल ठोकते रहते हैं।

पहले चरण का चुनाव 19 अप्रैल को होना है। इस चरण में 102 सीटों पर मतदान होने हैं। इस चरण के लिए मैदान में कुल 1625 उम्मीदवार खड़े हैं। सभी उम्मीदवार जीत की सास लिए जनता की दरबारी में जुटे हैं। सबकी इच्छा है कि जनता उसे वोट डाले। उसकी जीत हो और फिर बाद में सत्ता सरकार से सात जाए। लोकतंत्र ऐसे नेताओं से कितना मजबूत होता है यह जांच का विषय है लेकिन ऐसे नेता कितने सबल होते हैं यह देश देख रहा है।    

इस बीच, एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स (एडीआर) लोकसभा चुनाव 2024 के पहले चरण में चुनाव लड़ रहे उम्मीदवारों के हलफनामे का विश्लेषण किया है। पहले चरण में कुल 1625 उम्मीदवार मैदान में हैं। इनमें से 1618 उम्मीदवारों के शपथपत्रों का विश्लेषण किया गया है। सात उम्मीदवारों के शपथ पत्र स्पष्ट नहीं होने के कारण उनके हलफनामों को विश्लेषण नहीं हो सका है।एडीआर ने सोमवार को जारी किए एक विश्लेषण में बताया है कि पहले चरण में 1618 उम्मीदवारों से 252 (16%) पर आपराधिक मामले चल दर्ज हैं। वहीं 450 (28%) उम्मीदवार करोड़पति हैं जबकि उम्मीदवारों की औसतन संपत्ति ₹4.51 करोड़ है। आइये जानते हैं कि एडीआर की रिपोर्ट में क्या-क्या है?

1618 में से 252 (16 प्रतिशत) उम्मीदवारों ने अपने ऊपर आपराधिक मामले घोषित किये हैं। 1618 में से 161 (10 प्रतिशत) उम्मीदवारों ने अपने ऊपर गंभीर आपराधिक मामले घोषित किये हैं। 15 उम्मीदवारों ने अपने ऊपर दोषसिद्ध मामले घोषित किये हैं। सात उम्मीदवारों ने अपने ऊपर हत्या (आईपीसी-302) से सम्बन्धित मामले घोषित किये हैं। महिलाओं के ऊपर अत्याचार से जुड़े मामले घोषित करने वाले उम्मीदवार 18 हैं। इन 18 में से एक उम्मीदवार के ऊपर दुष्कर्म (आईपीसी-376) से जुड़ा मामला दर्ज है। इसके अलावा, भड़काऊ भाषण से जुड़े मामले घोषित करने वाले कुल 35 उम्मीदवार हैं।

पहले चरण में बिहार की पार्टी राजद के सभी चार उम्मीदवारों के खिलाफ आपराधिक मामले हैं। वहीं, डीएमके के 22 में से 13, सपा के सात में से तीन, तृणमूल कांग्रेस के पांच में से दो, भाजपा के 77 में से 28, अन्नाद्रमुक के 36 में से 13, कांग्रेस के 56 में से 19 और बसपा के 86 में से 11 उम्मीदवारों के खिलाफ आपराधिक मामले दर्ज हैं।

राजद के चार में से दो, डीएमके के 22 में से छह, सपा के सात में से दो, तृणमूल कांग्रेस के पांच में से एक उम्मीदवार ने अपने ऊपर गंभीर आपराधिक मामले घोषित किये हैं। वहीं भाजपा के 14, अन्नाद्रमुक के छह, कांग्रेस के आठ और बसपा के आठ प्रत्याशियों के खिलाफ गंभीर आपराधिक मामले हैं।

1618 में से 28 प्रतिशत यानी 450 उम्मीदवार करोड़पति हैं। भाजपा के 77 में से 69, कांग्रेस के 56 में से 49, राजद के चार में से चार, अन्नाद्रमुक के 36 में से 35, द्रमुक के 22 में से 21,  तृणमूल कांग्रेस के पांच में से चार और बसपा के 86 में से 18 उम्मीदवार करोड़पति हैं। चुनावी हलफनामों में इन प्रत्याशियों ने एक करोड़ से ज्यादा की संपत्ति घोषित की है।

लोकसभा चुनाव 2024 के पहले चरण में हर उम्मीदवार के पास औसतन 4.51 करोड़ की संपत्ति है। दलवार आंकड़ों पर गौर करें तो अन्नद्रमुक के 36 उम्मीदवारों की सबसे ज्यादा औसतन संपत्ति 35.61 करोड़ की संपत्ति है।

इसके बाद द्रमुक के 22 उम्मीदवारों की औसतन संपत्ति 31. 22 करोड़, कांग्रेस के 56 उम्मीदवारों की औसतन संपत्ति 27.79 करोड़, भाजपा के 77 उम्मीदवारों की औसतन संपत्ति 22.37 करोड़, राजद के चार उम्मीदवारों की औसतन संपत्ति 8.93 करोड़ है। वहीं, सपा के सात उम्मीदवारों की औसत संपत्ति 6.67 करोड़ और तृणमूल कांग्रेस के 5 उम्मीदवारों की औसत संपत्ति 3.72 करोड़ बताई गई है।

पहले चरण में सबसे ज्यादा संपत्ति घोषित करने वाले उम्मीदवार मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ के बेटे नकुल नाथ हैं। छिंदवाड़ा से कांग्रेस प्रत्याशी ने कुल 716 करोड़ की संपत्ति घोषित की है। इस मामले में दूसरे स्थान पर अन्नाद्रमुक के अशोक कुमार हैं। तमिलनाडु की इरोड सीट से चुनाव लड़ रहे कुमार ने अपने हलफनामे में 662 करोड़ की दौलत बताई है। तीसरे सबसे धनी प्रत्याशी भाजपा के देवनाथन यादव हैं। तमिलनाडु की शिवगंगा सीट से चुनाव लड़ रहे देवनाथन की संपत्ति 304 करोड़ की है।

10 उम्मीदवारों ने अपनी संपत्ति शून्य घोषित की है। वहीं तीन उम्मीदवारों ने अपनी संपत्ति 300 से 500 रुपये के बीच की बताई है। 320 रुपये के साथ के. पोनराज सबसे कम संपत्ति घोषित करने वाले उम्मीदवार हैं। वह तमिलनाडु की थूथुकुडी सीट से निर्दलीय चुनाव लड़ रहे हैं। वहीं, दो निर्दलीय उम्मीदवारों- कार्तिक गेंदलालजी डोके और सुरियामुथु ने अपनी संपत्ति महज 500 रुपये की घोषित की है। कार्तिक महाराष्ट्र की रामटेक जबकि सुरियामुथु तमिलनाडु की चेन्नई उत्तर सीट से प्रत्याशी हैं।

तमाम उम्मीदवारों की शैक्षिक योग्यता की बात करें तो 639 (39 प्रतिशत) उम्मीदवार 5वीं और 12वीं के बीच पढ़ाई किए हुए हैं। 836 (52 प्रतिशत) उम्मीदवारों ने अपनी शैक्षिक योग्यता स्नातक और इससे ज्यादा बताई है। 77 उम्मीदवार डिप्लोमा धारक हैं। 36 उम्मीदवार साक्षर जबकि 26 उम्मीदवार अनपढ़ भी हैं। चार उम्मीदवारों ने अपनी शैक्षिक योग्यता घोषित नहीं की है।
उम्मीदवारों की आयु के आंकड़े देखें तो 505 (31 प्रतिशत) उम्मीदवार 25 से 40 वर्ष के बीच के हैं। 849 (52 प्रतिशत) प्रत्याशी 41 से 60 वर्ष के बीच हैं। 260 (16 प्रतिशत) उम्मीदवारों की आयु 61 से 80 वर्ष है। चार उम्मीदवारों की आयु 80 वर्ष से अधिक है। चुनाव में महिला प्रतिनिधित्व देखें तो पहले चरण में 136 यानी महज 8 प्रतिशत महिला उम्मीदवार हैं।

Latest articles

महाराष्ट्र में लोकसभा चुनाव संपन्न लेकिन एनडीए में विधानसभा चुनाव को लेकर विवाद शुरू !

न्यूज़ डेस्क लोकसभा चुनाव का अंतिम चरण एक जून को ख़त्म हो जाएगा। हालांकि महाराष्ट्र...

नौकरानी की जरूरत हुई तो अपने पति की दूसरी शादी करवा सौत को बनाया नौकरानी

आज रिश्ता तेजी से दरक रहा है,और स्वार्थ सब पर भारी पड़ रहा है।इस...

हैदराबाद पुलिस ने बच्चों के बेचने वाले एक अंतरराज्यीय रैकेट का किया भंडाफोड़ ,11 मासूम बचाए गए 

न्यूज़ डेस्क आखिर अब किस पर यकीन किया जाए ! जब बच्चो की जननी कही...

तेजस्वी यादव ने कहा सीएम योगी और किम जोंग उन एक ही टाइप के नेता है !

न्यूज़ डेस्क बिहार में बीजेपी की रणनीति को देखते हुए राजद नेता तेजस्वी यादव...

More like this

महाराष्ट्र में लोकसभा चुनाव संपन्न लेकिन एनडीए में विधानसभा चुनाव को लेकर विवाद शुरू !

न्यूज़ डेस्क लोकसभा चुनाव का अंतिम चरण एक जून को ख़त्म हो जाएगा। हालांकि महाराष्ट्र...

नौकरानी की जरूरत हुई तो अपने पति की दूसरी शादी करवा सौत को बनाया नौकरानी

आज रिश्ता तेजी से दरक रहा है,और स्वार्थ सब पर भारी पड़ रहा है।इस...

हैदराबाद पुलिस ने बच्चों के बेचने वाले एक अंतरराज्यीय रैकेट का किया भंडाफोड़ ,11 मासूम बचाए गए 

न्यूज़ डेस्क आखिर अब किस पर यकीन किया जाए ! जब बच्चो की जननी कही...