Homeदेशकांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक : दक्षिण से दिल्ली साधने की कोशिश...

कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक : दक्षिण से दिल्ली साधने की कोशिश !

Published on


 अखिलेश अखिल 

हैदराबाद में आज से कांग्रेस वर्किंग कमिटी की दो दिवसीय बैठक शुरू हो गई है। इस बैठक में कांग्रेस कार्य समिति के सभी नेता तो पहुंचे ही है इसके साथ ही चुनावी राज्यों के भी प्रमुख नेताओं को बुलाया गया है। बता दें कि पार्टी अध्यक्ष खड़गे ने 20 अगस्त को ही वर्किंग कमिटी का ऐलान किया था। इस कमेटी में सोनिया गाँधी ,राहुल गाँधी और प्रियंका गाँधी समेत कुल 39 सदस्य है। आज की बैठक में शामिल होने के लिए सोनिया गाँधी ,राहुल गांधी और प्रियंका गाँधी भी हैदराबाद पहुँच गए।
                    माना जा रहा है कि इस दो दिवसीय बैठक में पांच राज्यों में होने वाले चुनाव पर गहन चर्चा होगी और साथ ही अगले साल के लोक सभा चुनाव को लेकर भी रणनीति तैयार की जाएगी। जानकार मान रहे हैं कि हैदराबाद से ही कांग्रेस दिल्ली को साधने की कोशिश करेगी। इस बैठक में इंडिया गठबंधन के भीतर सीटों के बंटवारे को लेकर भी आपसी बातचीत हो सकती है। जिन राज्यों में कांग्रेस और बीजेपी के बीच सीधा मुकाबला है वहाँ कैसे चुनाव में बीजेपी को मात दी जाए इस पर भी बात होगी।                      
                   दरअसल, तमिलनाडु, केरल, कर्नाटक, आंध्र, तेलंगाना में लोकसभा की 129 सीटें हैं। 2019 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस ने 28 सीट जीती थी, जबकि भाजपा ने 29 सीटों पर जीत हासिल की थी। इन 29 सीटों में 25 सीटें अकेले कर्नाटक से भाजपा को मिली थीं। कांग्रेस का मानना है कि यदि रणनीति बनाकर भाजपा को घेरा जाए तो बाजी पलट जाएगी। सूत्रों से यह भी जानकारी मिल रही है कि इस बार के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस दक्षिण भारत  बेहतर जीत चाहती है और उम्मीद की जा रही है कि कांग्रेस की नजर कर्नाटक के साथ ही केरल ,आंध्रा और तेलंगाना पर भी है। सूत्र बता रहे हैं कि कांग्रेस अगले लोकसभा चुनाव में दक्षिण के राज्यों से कम से कम 60 सीटों का लक्ष्य लेकर चल रही है। 
                      राहुल गांधी ने दक्षिण से ही अपनी भारत जोड़ो यात्रा की शुरुआत की थी। यह यात्रा कन्याकुमारी से कश्मीर तक गई थी। कांग्रेस को उम्मीद है कि भारत जोड़ो यात्रा से कांग्रेस का जनाधार बढ़ा है। कांग्रेस का यह भी मानना है कि अगर दक्षिण में जीत मिली तो 2024 में बड़ा फायदा होगा।             
      बता दें कि वर्किंग कमेटी कांग्रेस की सबसे उच्च कमिटी  है। जो पार्टी में अहम फैसले ले सकती है। पार्टी संविधान से जुड़े हर फैसले का अधिकार है। पार्टी अध्यक्ष को नियुक्त करने/हटाने का भी अधिकार है। कांग्रेस वर्किंग कमेटी का गठन दिसंबर 1920 में हुआ था।
                       

Latest articles

चरित्रहीन राजनीति में सब कुछ जायज ,अब बीजेपी के साथ हाथ मिलाने को बेकरार केसीआर !

अखिलेश अखिल नेताओं और राजनीति पर वैसे भी कोई यकीन नहीं करता क्योंकि राजनीति तो...

मोदी सरकार का बड़ा ऐलान, पूर्व अग्निवीरों को सीआईएसएफ और बीएसएफ में छूट मिलेगी

18 वीं लोकसभा चुनाव में जिस आधार पर कांग्रेस और इंडिया गठबंधन के अन्य...

बहुत कहता है समुद्री पारिस्थितिकी पर चीन का श्वेत पत्र !

न्यूज़ डेस्क चीनी राज्य परिषद के सूचना कार्यालय ने संवाददाता सम्मेलन आयोजित कर चीनी समुद्री...

केजरीवाल की याचिका पर आज सुप्रीम कोर्ट सुनाएगा फैसला !

न्यूज़ डेस्क दिल्ली में कथित आबकारी नीति घोटाले से जुड़े धनशोधन मामले में प्रवर्तन निदेशालय...

More like this

चरित्रहीन राजनीति में सब कुछ जायज ,अब बीजेपी के साथ हाथ मिलाने को बेकरार केसीआर !

अखिलेश अखिल नेताओं और राजनीति पर वैसे भी कोई यकीन नहीं करता क्योंकि राजनीति तो...

मोदी सरकार का बड़ा ऐलान, पूर्व अग्निवीरों को सीआईएसएफ और बीएसएफ में छूट मिलेगी

18 वीं लोकसभा चुनाव में जिस आधार पर कांग्रेस और इंडिया गठबंधन के अन्य...

बहुत कहता है समुद्री पारिस्थितिकी पर चीन का श्वेत पत्र !

न्यूज़ डेस्क चीनी राज्य परिषद के सूचना कार्यालय ने संवाददाता सम्मेलन आयोजित कर चीनी समुद्री...