Homeदेशएमपी से न्याय यात्रा की विदाई के साथ ही कांग्रेस को लगा...

एमपी से न्याय यात्रा की विदाई के साथ ही कांग्रेस को लगा झटका ,पचौरी समेत कई नेता हुए भाजपाई 

Published on

न्यूज़ डेस्क
  राहुल गाँधी भारत जोड़ो न्याय यात्रा के जरिये लोगों को पार्टी से जोड़ने का प्रयास कर रहे हैं तो दूसरी तरफ कांग्रेस के लोग कांग्रेस को छोड़ते जा रहे हैं। तीन दिन पहले मध्यप्रदेश में राहुल की न्याय यात्रा चल रही थी तो कांग्रेस  नेता उसमे शामिल थे। लेकिन जैसे ही मध्यप्रदेश से कांग्रेस की विदाई हुई कांग्रेस को झटका लगना शुरू हो गया है। 

जिस बीजेपी के खिलाफ मध्यप्रदेश के कई दिग्गज नेता हुंकार भरते नजर आते थे अब वे बीजेपी के साथ जा रहे हैं। आज कांग्रेस को बड़ा झटका लगा है। मध्यप्रदेश के कई दिग्गज कोंग्रेसी नेता आज बीजेपी में शामी हो गए। शामिल होने वाले नेताओं में सबसे बड़ा नाम सुरेश पचौरी का है इसके साथ ही प्रदेश कांग्रेस उपाध्यक्ष और धार के पूर्व सांसद गजेंद्र सिंह राजूखेड़ी भी बीजेपी में शामिल हुए हैं।

इंदौर से कांग्रेस के इकलोते विधयक रहे संजय शुक्ल भी बीजेपी में चले गए हैं।इसके साथ ही पूर्व विधायक विशाल पटेल, अर्जुन पलिया, सतपाल पलिया और भोपाल जिला कांग्रेस अध्यक्ष कैलाश मिश्रा ने भी भाजपा की सदस्यता ग्रहण कर ली। सुरेश पचौरी के नजदीकी लोगों का कहना है कि कांग्रेस पार्टी में लंबे समय से हो रही उपेक्षा से पचौरी नाराज चल रहे थे। यही कारण था कि वे हाल ही में राहुल गांधी की भारत न्याय यात्रा जब मध्यप्रदेश में आई, तो वे उसमें शामिल होने नहीं गए। इस दौरान भी उनकी नाराजगी दूर करने कोई वरिष्ठ नेता उनसे मिलने और बात करने तक नहीं गया।

इसके अलावा विधानसभा चुनाव के दौरान उनके समर्थकों को नजरअंदाज किया गया। इससे भी वे नाराज चल रहे थे। जबकि 2023 में विधानसभा चुनाव हारने के बाद कांग्रेस नेता संजय शुक्ला दवाब में थे। हाल ही में जिला प्रशासन ने शुक्ला के खिलाफ पुराने मामले में अवैध खनन को लेकर 140 करोड़ रुपये की रिकवरी की फाइल बनाई थी। हालांकि इसका नोटिस जारी हुआ या नहीं ये अभी साफ नहीं है। इसके बाद से ही संजय शुक्ला परेशानी बढ़ गई थी।

मध्यप्रदेश कांग्रेस में कमलनाथ, दिग्विजय सिंह के बाद कोई बड़ा चेहरा था तो वह केवल सुरेश पचौरी थे। प्रदेश में पार्टी एक बड़े ब्राह्मण चेहरे के तौर पर उनकी एक पहचान थी। पचौरी हर पद पर काम करने वाले नेता हैं। वे 24 साल राज्यसभा में रहे। लोकसभा और विधानसभा चुनाव लड़े। करीब 40 साल से वे एमपी की राजनीति में सक्रिय हैं। हर जिले में उनका गुट है। लंबे समय से पार्टी में उनकी उपेक्षा हो रही थी। इससे वे नाराज चल रहे थे।

धार क्षेत्र से आने गजेंद्र सिंह राजूखेड़ी का पार्टी छोड़ना कांग्रेस के लिए बड़ा झटका माना जा सकता है। धार जिले की 8 विधानसभा में छह पर कांग्रेस काबिज है। लोकसभा चुनाव के लिहाज से यह सीट बहुत ही महत्वपूर्ण है। भाजपा इन क्षेत्रों में अंदरुनी कलह से परेशान है। ऐसे में भाजपा गजेंद्र सिंह राजूखेड़ी को अपना उम्मीदवार बना सकती है। आदिवासी नेता राज खूड़ी दो बार इसी सीट से सांसद रह चुके हैं। वे पहली बार 1990 में भाजपा के टिकट पर ही विधायक बने थे।

उन्होंने कांग्रेस के कद्दावर नेता शिव भानु सिंह सोलंकी को हराया था। इंदौर से संजय शुक्ला और विशाल पटेल जैसे युवा नेताओं के पार्टी छोड़ने से इंदौर में कांग्रेस खत्म सी हो जाएगी। क्योंकि ये दोनों नेताओं को कांग्रेस के भविष्य के तौर पर देखा जा रहा था। दोनों पूर्व विधायक हर तरह से समृद्ध थे। इनमें संजय शुक्ला ने तो अपने विधायक कार्यकाल में पूरे पांच साल अपने क्षेत्रों के लोगों को कई बार धार्मिक यात्राएं भी करवाई है।

कांग्रेस नेता सुरेश पचौरी ने 1972 में एक युवा कांग्रेस कार्यकर्ता के रूप में अपना राजनीतिक जीवन शुरू किया और 1984 में राज्य युवा कांग्रेस अध्यक्ष बने। वह 1984 में राज्यसभा के लिए चुने गए और 1990, 1996 और 2002 में फिर से चुने गए। एक केंद्रीय राज्य मंत्री के रूप में उन्होंने रक्षा, कार्मिक, सार्वजनिक शिकायत और पेंशन, और संसदीय मामले और पार्टी के जमीनी स्तर के संगठन कांग्रेस सेवा दल के अध्यक्ष भी रहे।         

पचौरी ने अपने राजनीतिक करियर में केवल दो बार चुनाव लड़ा। साल 1999 में, उन्होंने भोपाल लोकसभा सीट से भाजपा की उमा भारती को चुनौती दी और 1.6 लाख से ज्यादा वोटों से हार गए। इसके अलावा उन्होंने 2013 के विधानसभा चुनाव में भोजपुर से शिवराज सिंह चौहान सरकार में मंत्री और दिवंगत सीएम सुंदरलाल पटवा के भतीजे सुरेंद्र पटवा के खिलाफ चुनाव लड़ा, लेकिन हार गए।
         

Latest articles

अरविंद केजरीवाल के लिए राहत मांगने वाले शख्स पर हाईकोर्ट ने लगा दिया 75000 का जुर्माना

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल का ईडी के द्वारा गिरफ्तार होना और फिर ईडी...

नीतीश ने किया लालू के परिवार पर हमला तो तेजस्वी ने विपक्षी नेताओं के परिवार की कहानी कह दी 

अखिलेश अखिल वैसे तो लोकसभा चुनाव के दौरान हर राज्य की अपनी कहानी है और...

यूपी की कन्नौज सीट से अखिलेश यादव की जगह तेज प्रताप लड़ेंगे चुनाव !

न्यूज़ डेस्क यूपी में महा चुनावी घमासान मचा हुआ है। बीजेपी जहाँ सूबे की...

छत्तीसगढ़ नक्सल टेरर : नक्सलियों ने दी चार बीजेपी नेताओं को जान से मारने की धमकी 

न्यूज़ डेस्क छत्तीसगढ़ के नारायणपुर में नक्सलियों ने पर्चा फेंककर भाजपा के चार वरिष्ठ नेताओं...

More like this

अरविंद केजरीवाल के लिए राहत मांगने वाले शख्स पर हाईकोर्ट ने लगा दिया 75000 का जुर्माना

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल का ईडी के द्वारा गिरफ्तार होना और फिर ईडी...

नीतीश ने किया लालू के परिवार पर हमला तो तेजस्वी ने विपक्षी नेताओं के परिवार की कहानी कह दी 

अखिलेश अखिल वैसे तो लोकसभा चुनाव के दौरान हर राज्य की अपनी कहानी है और...

यूपी की कन्नौज सीट से अखिलेश यादव की जगह तेज प्रताप लड़ेंगे चुनाव !

न्यूज़ डेस्क यूपी में महा चुनावी घमासान मचा हुआ है। बीजेपी जहाँ सूबे की...