Homeदेशचीन और वियतनाम से आयातित कपड़ो से भीलवाड़ा की कपडा मंडी हो रही...

चीन और वियतनाम से आयातित कपड़ो से भीलवाड़ा की कपडा मंडी हो रही बर्बाद

Published on


न्यूज़ डेस्क
एक तरफ चीन से तनातनी की बाते सामने आती है लेकिन सच यही है कि चीन के साथ  व्यापार भी जारी है। चीन का खेल भी निराला है। चीन सीधा भारत से कपडे का व्यपार नहीं कर रही है। वह बांग्लादेश के मार्फ़त भारत में कपड़ा भेज रहा है और परिणाम यह हो रहा है कि देश और भीलवाड़ा का कपड़ा मंडी तबाही के कगार पर पहुँच।  चीन और वियतनाम से जो कपडे बांग्लादेश के हरिये भारत में पहुँच रहे हैं वह देश के टेक्सटाइल उद्योग को बड़ा झटका दिया है।   

भीलवाड़ा व देश का टेक्सटाइल उद्योग मंदी से गुजर रहा है। आने वाला सीजन शादियों व स्कूल ड्रेस का है। कपड़े का घरेलू बाजार मंदी का सामना करना पड़ रहा है। वहीं चीन और वियतनाम जैसे देशों से आयात कपडे ने देश के के साथ भीलवाड़ा की कपड़ा मंडी पर भी असर डाला। दोनों देश अपने तैयार कपड़े को वाया बांग्लादेश होकर भारत भेज रहे हैं। इसका सीधा असर टेक्सटाइल उद्योग पर पड़ रहा है। यहां के कपड़े महंगे होने के कारण उद्योगों को काम नहीं मिल रहा है।

भारत में चीन, बांग्लादेश, वियतनाम, सहित कई देशों से भारत में धागे, कपड़े तथा फेब्रिक्स का आयात किया जा रहा है। यह कपड़ा कम कीमत के होने के कारण भारत का घरेलू कपड़ा उद्योग मंदी के दौर से गुजर रहा है। भीलवाड़ा में पीवी व डेनिम कपड़ों का उत्पादन होता है। इनका उपयोग रेडीमेड गारमेंट्स में किया जाता है। देश के अन्य राज्यों के रेडीमेड गारमेंट्स उद्यमी बड़े पैमाने पर भीलवाड़ा के कपड़ों की खरीद करते थे, लेकिन पिछले कुछ समय से उन पर चीन और बांग्लादेश ने ग्रहण लगा दिया है।

भीलवाड़ा से अफगानिस्तान व दुबई में हर माह लगभग 60 से 70 लाख मीटर कपड़े का निर्यात हो रहा था, लेकिन दोनों देशों ने भीलवाड़ा से कपड़ा मंगवाना बंद कर दिया है। अफगानिस्तान व दुबई अब चीन का कपड़ा बांग्लादेश के रास्ते से मंगवा रहे हैं। इसका असर भीलवाड़ा की टेक्सटाइल मंडी पर पड़ा है।

कपड़ा तैयार करने वाले विविंग उद्योग से जुड़े व्यापारियों का कहना है कि 15 जनवरी के बाद हर उद्योग में कपड़ा बनाने की रफ्तार तेज होती है, लेकिन स्थिति इसके उलट है। कपड़े की मांग नहीं होने से विविंग उद्योग में 8.50 से 9 पैसा प्रति पीक की दर से सल्जर मशीनें चल रही है। इनकी दर 14 से 17 पैसा प्रति पीक होना चाहिए।

बांग्लादेश से भारत में आने वाले कपड़ो पर इम्पोर्ट ड्यूटी नहीं होने से वह निशुल्क भारत आता है। इस तरह चीन के कपड़े भारत में सस्ती कीमत में उपलब्ध हैं। भारत में बनने वाले कपड़ों की उत्पादन कीमत अधिक होने से भारतीय कपड़ा उत्पादकों को कड़ी प्रतिस्पर्धा का सामना करना पड़ रहा है।
              

Latest articles

लोकसभा चुनाव : सीईसी ने कहा ईवीएम की पारदर्शिता हर कीमत पर बरकरार रखी जाएगी

न्यूज़ डेस्क  मुख्य चुनाव आयुक्त राजीव कुमार ने कहा कि निष्पक्ष लोकसभा चुनाव सुनिश्चित कराने...

पंजाब के खनौरी बॉर्डर पर गोलीबारी , दो किसान की मौत !

न्यूज़ डेस्क किसान आंदोलन स्थल से बड़ी खबर आ रही है।पंजाब के खनौरी बॉर्डर से गोलीबारी...

ICC Rankings: यशस्वी जायसवाल का ICC टेस्ट रैंकिंग में भी धमाल, 14 पायदान की लंबी छलांग के साथ अब इस नंबर पर

ICC Rankings:टीम इंडिया के उभरते युवा सलामी बल्लेबाज यशस्वी जायसवाल ने इंग्लैंड के खिलाफ...

RRB Recruitment 2024: रेलवे में टेक्नीशियन के पदों बंपर भर्ती, इस दिन से शुरू होंगे आवेदन

RRB Recruitment 2024: रेलवे भर्ती का इंतजार कर रहे योग्य युवाओं को लिए खुशखबरी...

More like this

लोकसभा चुनाव : सीईसी ने कहा ईवीएम की पारदर्शिता हर कीमत पर बरकरार रखी जाएगी

न्यूज़ डेस्क  मुख्य चुनाव आयुक्त राजीव कुमार ने कहा कि निष्पक्ष लोकसभा चुनाव सुनिश्चित कराने...

पंजाब के खनौरी बॉर्डर पर गोलीबारी , दो किसान की मौत !

न्यूज़ डेस्क किसान आंदोलन स्थल से बड़ी खबर आ रही है।पंजाब के खनौरी बॉर्डर से गोलीबारी...

ICC Rankings: यशस्वी जायसवाल का ICC टेस्ट रैंकिंग में भी धमाल, 14 पायदान की लंबी छलांग के साथ अब इस नंबर पर

ICC Rankings:टीम इंडिया के उभरते युवा सलामी बल्लेबाज यशस्वी जायसवाल ने इंग्लैंड के खिलाफ...