Homeदेशचीन और वियतनाम से आयातित कपड़ो से भीलवाड़ा की कपडा मंडी हो रही...

चीन और वियतनाम से आयातित कपड़ो से भीलवाड़ा की कपडा मंडी हो रही बर्बाद

Published on


न्यूज़ डेस्क
एक तरफ चीन से तनातनी की बाते सामने आती है लेकिन सच यही है कि चीन के साथ  व्यापार भी जारी है। चीन का खेल भी निराला है। चीन सीधा भारत से कपडे का व्यपार नहीं कर रही है। वह बांग्लादेश के मार्फ़त भारत में कपड़ा भेज रहा है और परिणाम यह हो रहा है कि देश और भीलवाड़ा का कपड़ा मंडी तबाही के कगार पर पहुँच।  चीन और वियतनाम से जो कपडे बांग्लादेश के हरिये भारत में पहुँच रहे हैं वह देश के टेक्सटाइल उद्योग को बड़ा झटका दिया है।   

भीलवाड़ा व देश का टेक्सटाइल उद्योग मंदी से गुजर रहा है। आने वाला सीजन शादियों व स्कूल ड्रेस का है। कपड़े का घरेलू बाजार मंदी का सामना करना पड़ रहा है। वहीं चीन और वियतनाम जैसे देशों से आयात कपडे ने देश के के साथ भीलवाड़ा की कपड़ा मंडी पर भी असर डाला। दोनों देश अपने तैयार कपड़े को वाया बांग्लादेश होकर भारत भेज रहे हैं। इसका सीधा असर टेक्सटाइल उद्योग पर पड़ रहा है। यहां के कपड़े महंगे होने के कारण उद्योगों को काम नहीं मिल रहा है।

भारत में चीन, बांग्लादेश, वियतनाम, सहित कई देशों से भारत में धागे, कपड़े तथा फेब्रिक्स का आयात किया जा रहा है। यह कपड़ा कम कीमत के होने के कारण भारत का घरेलू कपड़ा उद्योग मंदी के दौर से गुजर रहा है। भीलवाड़ा में पीवी व डेनिम कपड़ों का उत्पादन होता है। इनका उपयोग रेडीमेड गारमेंट्स में किया जाता है। देश के अन्य राज्यों के रेडीमेड गारमेंट्स उद्यमी बड़े पैमाने पर भीलवाड़ा के कपड़ों की खरीद करते थे, लेकिन पिछले कुछ समय से उन पर चीन और बांग्लादेश ने ग्रहण लगा दिया है।

भीलवाड़ा से अफगानिस्तान व दुबई में हर माह लगभग 60 से 70 लाख मीटर कपड़े का निर्यात हो रहा था, लेकिन दोनों देशों ने भीलवाड़ा से कपड़ा मंगवाना बंद कर दिया है। अफगानिस्तान व दुबई अब चीन का कपड़ा बांग्लादेश के रास्ते से मंगवा रहे हैं। इसका असर भीलवाड़ा की टेक्सटाइल मंडी पर पड़ा है।

कपड़ा तैयार करने वाले विविंग उद्योग से जुड़े व्यापारियों का कहना है कि 15 जनवरी के बाद हर उद्योग में कपड़ा बनाने की रफ्तार तेज होती है, लेकिन स्थिति इसके उलट है। कपड़े की मांग नहीं होने से विविंग उद्योग में 8.50 से 9 पैसा प्रति पीक की दर से सल्जर मशीनें चल रही है। इनकी दर 14 से 17 पैसा प्रति पीक होना चाहिए।

बांग्लादेश से भारत में आने वाले कपड़ो पर इम्पोर्ट ड्यूटी नहीं होने से वह निशुल्क भारत आता है। इस तरह चीन के कपड़े भारत में सस्ती कीमत में उपलब्ध हैं। भारत में बनने वाले कपड़ों की उत्पादन कीमत अधिक होने से भारतीय कपड़ा उत्पादकों को कड़ी प्रतिस्पर्धा का सामना करना पड़ रहा है।
              

Latest articles

जम्मू कश्मीर में पांच सौ पैरा कमांडो तैनात ,पाक आतंकियों का अब होगा खात्मा !

न्यूज़ डेस्क जम्मू कश्मीर में जिस तरह फिर से आतंकवाद सिर उठा रहा है...

बांग्लादेश की हालत ख़राब ,अब तक 900 भारतीय लौटे भारत

न्यूज़ डेस्क बांग्लादेश में लगातार हो रही हिंसा के बीच पूरे देश में कर्फ्यू लगा...

जनसंख्या नियंत्रण को लेकर कांग्रेस और बीजेपी आमने -सामने 

न्यूज़ डेस्क जनसंख्या नियंत्रण को लेकर कांग्रेस और बीजेपी के बीच आरोप -प्रत्यारोप शुरू हो...

दुकानदारका नाम अनिवार्य कर अकेले पड़े योगी,विपक्ष के साथ सत्ता पक्ष से भी उठे आवाज

उत्तर प्रदेश में कावड़ मार्ग पर लगने वाले दुकानों में दुकानदारों के नाम वाले...

More like this

जम्मू कश्मीर में पांच सौ पैरा कमांडो तैनात ,पाक आतंकियों का अब होगा खात्मा !

न्यूज़ डेस्क जम्मू कश्मीर में जिस तरह फिर से आतंकवाद सिर उठा रहा है...

बांग्लादेश की हालत ख़राब ,अब तक 900 भारतीय लौटे भारत

न्यूज़ डेस्क बांग्लादेश में लगातार हो रही हिंसा के बीच पूरे देश में कर्फ्यू लगा...

जनसंख्या नियंत्रण को लेकर कांग्रेस और बीजेपी आमने -सामने 

न्यूज़ डेस्क जनसंख्या नियंत्रण को लेकर कांग्रेस और बीजेपी के बीच आरोप -प्रत्यारोप शुरू हो...