Homeदेशजी 20 समिट में नहीं आएंगे चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग

जी 20 समिट में नहीं आएंगे चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग

Published on

बीरेंद्र कुमार झा

चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग इस सप्ताह नई दिल्ली में होने जा रहे जी- 20 शिखर सम्मेलन में भाग नहीं लेंगे।चीन सरकार ने इसकी पुष्टि कर दी है ।शी जिनपिंग की जगह चीन के प्रधानमंत्री ली क्विंग प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व करेंगे। चीनी विदेश मंत्रालय ने सोमवार को यह घोषणा की।चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता माओ निंग ने एक संक्षिप्त बयान दर्ज में कहा कि भारत गणराज की सरकार के निमंत्रण पर राज्य परिषद के प्रधानमंत्री ली क्विंग 9 और 10 सितंबर को नई दिल्ली में आयोजित होने वाले 18 वें जी – 20 शिखर सम्मेलन में भाग लेंगे।

राष्ट्रपति शी जिनपिंग की जगह प्रधानमंत्री ली क्विंग लेंगे जी -20 में भाग

हालांकि चीनी प्रवक्ता माओ ने भारत की मेजबानी में पहली बार आयोजित हो रही इस उच्च स्तरीय शिखर सम्मेलन में शी जिनपिंग की अनुपस्थिति का कोई कारण नहीं बताया है। इसके साथ ही उन्होंने स्पष्ट किया कि राष्ट्रपति शी जिनपिंग इस सप्ताह जकार्ता में आसियान और पूर्वी एशिया शिखर सम्मेलन में भी शामिल नहीं होंगे। चीनी प्रधानमंत्री ली क्विंग इंडोनेशिया में आसियान शिखर सम्मेलन में भी चीन का प्रतिनिधित्व करेंगे।

चीनी विदेश मंत्रालय के एक अन्य प्रवक्ता वांग वेनबिन ने 1 सितंबर को घोषणा की थी कि इंडोनेशिया के राष्ट्रपति जोको विडोडो कि निमंत्रण पर वर्तमान आसियान अध्यक्ष राज्य परिषद के प्रधानमंत्री ली क्विंग 5 से 8 सितंबर तक इंडोनेशिया की जकार्ता में होने वाले 26 वें चीन आसियान शिखर सम्मेलन,26 वें आसियान प्लस 3 (एपीटी)शिखर सम्मेलन और 18 में पूर्वी एशिया शिखर सम्मेलन में भाग लेंगे और इंडोनेशिया की आधिकारिक यात्रा करेंगे।

2021 में भी जी -20 के सम्मेलन में शी जिनपिंग ने नहीं लिया था भाग

प्रधानमंत्री ली के जकार्ता में पूर्वी एशिया शिखर सम्मेलन में भाग लेने के बाद भारत की यात्रा करने की उम्मीद है। 2021 में चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने चीन के कोविड-19 प्रतिबंधों के कारण इटली में आयोजित जी – 20 शिखर सम्मेलन में हिस्सा नहीं लिया था।

रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने पहले ही बता दिया है नहीं आने का वजह

रूस के राष्ट्रपति ब्लादिमीर पुतिन पहले ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को शिखर सम्मेलन में व्यक्तिगत रूप से शामिल नहीं होने के अपने फैसले से अवगत करा चुके हैं क्योंकि उन्हें यूक्रेन में विशेष सैन्य अभियान पर ध्यान केंद्रित करना है। रूसी राष्ट्रपति पिछले साल नवंबर में भी जी – 20 के बाली शिखर सम्मेलन में शामिल नहीं हुए थे।

दुनियां के पैमाने पर बहुत ही मजबूत संगठन है जी-20

जी – 20 के सदस्य देश वैश्विक सकल घरेलू उत्पाद का लगभग 85%, वैश्विक व्यापार का 75% से अधिक और वैश्विक जनसंख्या के लगभग दो तिहाई हिस्से का प्रतिनिधित्व करते हैं।इस समूह में अर्जेंटीना,ऑस्ट्रेलिया, ब्राजील, कनाडा, चीन, फ्रांस, जर्मनी,भारत, इंडोनेशिया, इटली, जापान, कोरिया गणराज,मेक्सिको, रूस, सऊदी अरब, दक्षिण अफ्रीका ,तुर्की, ब्रिटेन, अमेरिका और यूरोपीय संघ शामिल है।

 

Latest articles

जम्मू कश्मीर में पांच सौ पैरा कमांडो तैनात ,पाक आतंकियों का अब होगा खात्मा !

न्यूज़ डेस्क जम्मू कश्मीर में जिस तरह फिर से आतंकवाद सिर उठा रहा है...

बांग्लादेश की हालत ख़राब ,अब तक 900 भारतीय लौटे भारत

न्यूज़ डेस्क बांग्लादेश में लगातार हो रही हिंसा के बीच पूरे देश में कर्फ्यू लगा...

जनसंख्या नियंत्रण को लेकर कांग्रेस और बीजेपी आमने -सामने 

न्यूज़ डेस्क जनसंख्या नियंत्रण को लेकर कांग्रेस और बीजेपी के बीच आरोप -प्रत्यारोप शुरू हो...

दुकानदारका नाम अनिवार्य कर अकेले पड़े योगी,विपक्ष के साथ सत्ता पक्ष से भी उठे आवाज

उत्तर प्रदेश में कावड़ मार्ग पर लगने वाले दुकानों में दुकानदारों के नाम वाले...

More like this

जम्मू कश्मीर में पांच सौ पैरा कमांडो तैनात ,पाक आतंकियों का अब होगा खात्मा !

न्यूज़ डेस्क जम्मू कश्मीर में जिस तरह फिर से आतंकवाद सिर उठा रहा है...

बांग्लादेश की हालत ख़राब ,अब तक 900 भारतीय लौटे भारत

न्यूज़ डेस्क बांग्लादेश में लगातार हो रही हिंसा के बीच पूरे देश में कर्फ्यू लगा...

जनसंख्या नियंत्रण को लेकर कांग्रेस और बीजेपी आमने -सामने 

न्यूज़ डेस्क जनसंख्या नियंत्रण को लेकर कांग्रेस और बीजेपी के बीच आरोप -प्रत्यारोप शुरू हो...