Homeदेशक्या दागी नेताओं की फाइल फिर से खोलेगी सुप्रीम अदालत ?

क्या दागी नेताओं की फाइल फिर से खोलेगी सुप्रीम अदालत ?

Published on

न्यूज डेस्क 
एक याचिका पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि दागी विधायक और सांसदों की आपराधिक पन्नो को फिर से खोला जाएगा। उनके खिलाफ दर्ज मामलों की फिर से जांच होगी। अदालत का बस इतना भर कहाँ था कि देश के दागी नेताओं की नींद उड़ गई है। कालांतर में देश के कई दागी विधायक,सांसद राज्य सरकार द्वार राहत पा गए थे अब उनकी परेशानी भी बढ़ सकती है। अदालत ने साफ किया है कि कोई भी राज्य सरकार दागी नेताओं के खिलाफ दर्ज मामलो को अब वापस नहीं ले सकती है। अदालत का यह फरमान राज्य सरकार के अधिकारों पर भी लगाम लगाने जैसा है। लेकिन पूरी कहानी में एक बात साफ हो गई है कि दागी नेताओं की फाइल अगर खुलती है तो देश की राजनीति का मिजाज भी बदल सकता है। याद रहे देश के कई मुख्यमंत्रियों पर भी आपराधिक मामले दर्ज थे और कइयों ने केस खुद की सरकार में ही वापस ले लिए हैं। ऐसे में अब कोर्ट आगे की कोई कार्रवाई करती है तो एक नयी राजनीति शुरू हो सकती है।

सुप्रीम कोर्ट ने एक याचिका पर सुनवाई करते हुए कहा कि सांसद व विधायक के पुराने केस खोलने पड़ेंगे। कोर्ट ने सितंबर 2020 से सांसदों-विधायकों के वापस लिए केस दोबारा खोलने को भी कहा है। अब राज्य सरकारें सांसदों और विधायकों क्रिमिनल केस वापस नहीं ले सकेंगी। इसके लिए राज्य सरकारों को संबंधित राज्य के हाईकोर्ट से आवश्यक रुप से मंजूरी होगी।

सर्वोच्च न्यायालय ने आपराधिक मामलों में सजा पाने वाले सांसद और विधायकों को हमेशा के लिए चुनाव लड़ने से वैन लगाने संबंधी दायर याचिका पर सुनवाई के दौरान कोर्ट ने यह बात कही। कोर्ट को बताया गया कि यूपी के मुजफ्फरनगर दंगा में जनप्रतिनिधियों के खिलाफ दर्ज आपराधिक केस योगी सरकार ने वापस लिए थे। इस पर कोर्ट ने यह कड़ी टिप्पणी की।

बता दें कि पिछले साल 2022 के फरवरी के मुताबिक सुप्रीम कोर्ट ने बताया था कि देश के सांसदों, विधायकों और विधान परिषद सदस्यों के खिलाफ अब तक कुल 4984 केसेज पेंडिंग हैं। वहीं ऐसे मामले में पिछले तीन सालों में 862 वृद्धि हुई है। जबकि 1,899 मामले ऐसे हैं जो करीब पांच साल से ज्यादा पुराने हैं। सीनियर वकील विजय हंसारिया ने अपने एक ताजा रिपोर्ट में बताया कि दिसंबर 2018 तक सांसदों, विधायकों और विधान परिषद सदस्यों के खिलाफ कुल लंबित मामले 4,110 थे और अक्टूबर 2020 तक ये 4,859 थे।

बता दें कि साल 2016 के एक मामले में वकील अश्विनी कुमार उपाध्याय द्वारा दायर एक याचिका में रिपोर्ट प्रस्तुत की गई थी, जिसमें कानून निर्माताओं के खिलाफ आपराधिक मामलों की सुनवाई के लिए विशेष अदालतों की स्थापना और दोषी व्यक्तियों को विधायिका और कार्यपालिका से हटाने की मांग की गई थी।

Latest articles

पूर्वी दिल्ली के सांसद गौतम गंभीर  ने किया ठगिनी राजनीति से तौबा ,क्रिकेट में लौटेंगे 

न्यूज़ डेस्क  ठगिनी राजनीति से किसे मोहभंग नहीं होता ! जो लोग झूठ और ठगी...

बंगलुरु रामेश्वरम कैफे में विस्फोट ,कई लोग घायल 

न्यूज़ डेस्क बंगलुरु रामेश्वरम कैफे आईईडी विस्फोट मामले में बड़ी बात सामने आ रही है।...

चुनाव आयोग ने स्टार प्रचारकों और उम्मीदवारों की जारी की एडवाइजरी!

न्यूज़ डेस्क  भारतीय निर्वाचन आयोग ने लोकसभा चुनावों से पहले स्टार प्रचारकों और उम्मीदवारों को...

More like this

पूर्वी दिल्ली के सांसद गौतम गंभीर  ने किया ठगिनी राजनीति से तौबा ,क्रिकेट में लौटेंगे 

न्यूज़ डेस्क  ठगिनी राजनीति से किसे मोहभंग नहीं होता ! जो लोग झूठ और ठगी...

बंगलुरु रामेश्वरम कैफे में विस्फोट ,कई लोग घायल 

न्यूज़ डेस्क बंगलुरु रामेश्वरम कैफे आईईडी विस्फोट मामले में बड़ी बात सामने आ रही है।...

चुनाव आयोग ने स्टार प्रचारकों और उम्मीदवारों की जारी की एडवाइजरी!

न्यूज़ डेस्क  भारतीय निर्वाचन आयोग ने लोकसभा चुनावों से पहले स्टार प्रचारकों और उम्मीदवारों को...