Homeदेशसिद्धरमैया या डीके शिवकुमार, कौन बनेगा कर्नाटक का मुख्यमंत्री,दिल्ली दरबार जल्द लगाएगी...

सिद्धरमैया या डीके शिवकुमार, कौन बनेगा कर्नाटक का मुख्यमंत्री,दिल्ली दरबार जल्द लगाएगी मुहर

Published on

बीरेंद्र कुमार झा

कर्नाटक चुनाव में मिली बड़ी जीत के बाद कांग्रेस पार्टी सरकार दिल्ली से लेकर लगातार बैठकों का दौर जारी है । चुनाव में जीत के बाद के कांग्रेस पार्टी के सामने सबसे बड़ी समस्या यही है कि प्रदेश में मुख्यमंत्री की जिम्मेदारी किसे सौंपी जाए? दरसल मुख्यमंत्री पद के लिए कर्नाटक में दो नेता रेस में हैं।पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धारमैया और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष डीके शिवकुमार दोनों में से किसी मुख्यमंत्री बनाया जाए, पार्टी इसे लेकर बड़ी उलझन में है।

दोनों को बुलाया गया दिल्ली

कांग्रेस नेता सिद्धारमैया और डी के शिवकुमार दोनों को कांग्रेस आलाकमान ने दिल्ली बुलाया है। सिद्धारमैया दिल्ली पहुंच गए हैं,जबकि डीके शिवकुमार ने पहले स्वास्थ्य कारणों से दिल्ली नहीं जा पाने की बात कही थी,लेकिन अब वे भी दिल्ली दरबार में हाजरी लगाने को तैयार हो गए हैं।

सिद्धरमैया पहुंचे दिल्ली

कर्नाटक के मुख्यमंत्री पद के प्रबल दावेदार माने जा रहे कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धारमैया सोमवार को दिल्ली पहुंच गए हैं।यहां वे पार्टी के वरिष्ठ नेताओं से मुलाकात कर रहे हैं। गौरतलब है कि इससे पहले कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और कर्नाटक के लिए पार्टी पर्यवेक्षक सुशील कुमार शिंदे ने कहा था कि अगर जरूरी हुआ तो सिद्धरमैया और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष डीके शिवकुमार को दिल्ली बुलाया जाएगा ।

मल्लिकार्जुन खड़गे को रिपोर्ट सौंपेंगे पर्यवेक्षक

कर्नाटक में जीत के बाद सरकार गठन को लेकर कांग्रेस ने विधायक दल का नेता चुनने को लेकर नवनिर्वाचित विधायकों की राय जानने के बाद तीनों पर्यवेक्षक जल्दी पार्टी अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे को अपनी रिपोर्ट सौंपने वाले हैं। इसके बाद अब सबकी निगाहें पार्टी आलाकमान पर टिक गई है।वहीं विधायकों की राय जानने के लिए बेंगलुरु भेजें गए पार्टी के तीनों पर्यवेक्षक सोमवार को दिल्ली लौट आए और अब वे पार्टी अध्यक्ष मलिकार्जुन खड्गे को जल्दी ही अपना रिपोर्ट सौंपेंगे। सूत्रों का कहना है कि कर्नाटक के मुख्यमंत्री के बारे में जल्दी ही फैसला लेंगे।

राजस्थान में गहलोत के हालात से सीख ले रहे कर्नाटक के सीएम कैंडिडेट

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार कर्नाटक में मुख्यमंत्री के रेस में अभी तक सिद्धरमैया आगे चल रहे हैं। यहां तक की कांग्रेस खेमे ने जब मुख्यमंत्री के दोनों ही उम्मीदवारों सिद्धरमैया और डीके शिवकुमार को बारी-बारी से 2 वर्ष और 3 वर्ष के लिए मुख्यमंत्री बनाने पर चर्चा की तो यहां भी पहले सत्ता सिद्धारमैया को ही सौंपने की बात सामने आई। माना जाता है कि राजस्थान में अशोक गहलोत को मुख्यमंत्री को गद्दी देते वक्त यह शर्त रखा गया था कि बाद में ढाई साल बाद वे मुख्यमंत्री की इस गद्दी को सचिन पायलट के पक्ष में छोड़ देंगे और तब सचिन पायलट वहां के मुख्यमंत्री बनेंगे।लेकिन ऐसा हुआ नहीं अशोक गहलोत ने कुर्सी नहीं सौंपी। सचिन पायलट अभी भी मुख्यमंत्री की कुर्सी पाने के लिए जगह-जगह रैलियां कर रहे हैं,जबकि राजस्थान का चुनाव एकदम से सिर पर आ गया है।इससे सबक लेकर डीके शिवकुमार मुख्यमंत्री पद पर बैठने के लिए किसी भी प्रकार का समझौता करने के मूड में नहीं हैं।

 

Latest articles

अंतिम चरण के लिए चुनाव प्रचार ख़त्म ,57 सीटों पर होगा मुकाबला !

न्यूज़ डेस्क सात राज्यों की कुल 57 सीटों पर 1 जून को मतदान है। इन...

पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान दो मामले में हुए बरी 

न्यूज़ डेस्क पाकिस्तान तहरीके-इन्साफयानि पीटीआई  के संस्थापक इमरान खान को जिला व सत्र न्यायालय ने...

जयराम रमेश ने कहा -इंडिया’ गठबंधन 48 घंटे के भीतर करेगा प्रधानमंत्री का चयन!

न्यूज़ डेस्क कांग्रेस महासचिव जयराम रमेश ने  कहा कि इस लोकसभा चुनाव में ‘इंडिया’ गठबंधन...

पंजाब के मतदाताओं के नाम आखिर मनमोहन सिंह ने क्यों लिखा पत्र ?

न्यूज़ डेस्क पूर्व प्रधानमंत्री डॉक्टर मनमोहन सिंह ने पंजाब के मतदाताओं के नाम एक...

More like this

अंतिम चरण के लिए चुनाव प्रचार ख़त्म ,57 सीटों पर होगा मुकाबला !

न्यूज़ डेस्क सात राज्यों की कुल 57 सीटों पर 1 जून को मतदान है। इन...

पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान दो मामले में हुए बरी 

न्यूज़ डेस्क पाकिस्तान तहरीके-इन्साफयानि पीटीआई  के संस्थापक इमरान खान को जिला व सत्र न्यायालय ने...

जयराम रमेश ने कहा -इंडिया’ गठबंधन 48 घंटे के भीतर करेगा प्रधानमंत्री का चयन!

न्यूज़ डेस्क कांग्रेस महासचिव जयराम रमेश ने  कहा कि इस लोकसभा चुनाव में ‘इंडिया’ गठबंधन...