Homeदेशराजस्थान विधानसभा चुनाव से पहले वसुंधरा राजे के तल्ख तेवर

राजस्थान विधानसभा चुनाव से पहले वसुंधरा राजे के तल्ख तेवर

Published on

बीरेंद्र कुमार झा

राजस्थान में पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने बीजेपी की परिवर्तन संकल्प यात्रा से दूरी बनाकर जेपी नड्डा और मोदी- शाह के लिए मुश्किल खड़ी कर दिया हैं। बीजेपी के शीर्ष नेता वसुंधरा राजे को मनाने में जुट गए हैं।पार्टी सूत्रों के अनुसार वसुंधरा राजे को अब न सिर्फ अहम जिम्मेदारी दी जाएगी बल्कि पूरे चुनाव में उनकी भूमिका महत्वपूर्ण होगी। चुनाव प्रबंधन कमेटी और संकल्प पत्र कमेटी की घोषणा की इन दोनों ही कमेटी में पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे का नाम नहीं था वसुंधरा राजे को पूरी तरह से साइड लाइन कर दिया गया था आनन – फानन में प्रदेश प्रभारी अरुण सिंह को बयान देना पड़ा था कि वसुंधरा राजे जल्दी ही परिवर्तन यात्रा में दिखाई देंगी। सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार वसुंधरा राजे अपने समर्थकों पर कारवाई करने से भी नाराज हैं। बीजेपी ने पूर्व विधानसभा अध्यक्ष कैलाश मेघवाल को निलंबित कर दिया है ।

वसुंधरा राजे सबसे लोकप्रिय चेहरा

पिछले दिनों आए सी – वोटर्स के ओपिनियन पोल में बीजेपी की ओर से वसुंधरा राजे को सबसे लोकप्रिय चेहरा बताया गया था।राजस्थान में बीजेपी इन दिनों गहलोत सरकार के खिलाफ परिवर्तन यात्रा निकाल रही है।चारो दिशाओंà से निकाली जा रही परिवर्तन यात्रा के आगाज के समय वसुंधरा राजे मौजूद रहीं,लेकिन इसके बाद वसुंधरा राजे ने इससे दूरी बना ली है। चर्चा है कि विरोधी धड़े ने वसुंधरा खेमे को पूरी तरह से हासिये पर डाल दिया है। इसलिए वसुंधरा राजे ने उससे दूरी बना ली है।परिवर्तन यात्रा पूरे प्रदेश में विभिन्न विधानसभा क्षेत्र से निकल रही है। 25 सितंबर को जयपुर में परिवर्तन यात्रा का समापन होगा। इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जनसभा को संबोधित करेंगे।परिवर्तन यात्रा में बीजेपी के बड़े नेता शामिल हो रहे हैं।केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत परिवर्तन यात्रा में न सिर्फ बढ़चढ़कर भाग ले रहे हैं,बल्कि अपने बयानों से जमकर सुर्खियां भी बटोर रहे हैं। सियासी जानकारों का कहना है कि गजेन्द्र सिंह शेखावत परिवर्तन यात्रा में पूरी तरह से छाए हुए हैं ।

सतर्क हुई बीजेपी

राजस्थान में इस साल के अंत में चुनाव होना है। चुनाव से पहले कांग्रेस और बीजेपी दोनों ही प्रत्याशियों के चयन के लिए खूब माथापच्ची माता कर रहे हैं। ऐसे में चुनाव से पहले वसुंधरा राजे की नाराजगी बीजेपी को कहीं भारी न पड़ जाए वसुंधरा राजे समर्थक फिलहाल शांत हैं,लेकिन टिकट वितरण में अनदेखी होने पर इनके असंतोष का ज्वाला का फूट सकता है। सियासी जानकारों का यह भी कहना है कि बीजेपी आगामी चुनाव में 30 से 40 विधायकों का टिकट काटना चाहती है ।ये सभी विधायक वसुंधरा राजे के समर्थक माने जाते हैं।सियासी जानकारों का कहना है कि कर्नाटक विधानसभा चुनाव में मिली हार के बाद बीजेपी वसुंधरा राजे जैसे सीनियर और जमीन पर पकड़ वाले नेताओं को नजर अंदाज नहीं कर सकती है।कर्नाटक में येदियुरप्पा को नजरंदाज करने का आरोप बीजीपी के एक वर्ग ने लगाया जिस कारण पार्टी को वहां हाल के दिनों की सबसे बड़ी हार का सामना करना पड़ा।

 

Latest articles

बांग्लादेश की हालत ख़राब ,अब तक 900 भारतीय लौटे भारत

न्यूज़ डेस्क बांग्लादेश में लगातार हो रही हिंसा के बीच पूरे देश में कर्फ्यू लगा...

जनसंख्या नियंत्रण को लेकर कांग्रेस और बीजेपी आमने -सामने 

न्यूज़ डेस्क जनसंख्या नियंत्रण को लेकर कांग्रेस और बीजेपी के बीच आरोप -प्रत्यारोप शुरू हो...

दुकानदारका नाम अनिवार्य कर अकेले पड़े योगी,विपक्ष के साथ सत्ता पक्ष से भी उठे आवाज

उत्तर प्रदेश में कावड़ मार्ग पर लगने वाले दुकानों में दुकानदारों के नाम वाले...

बांग्लादेश में आरक्षण के विरोध में हिंसा जारी, 105 की मौत, सेना ने संभाली कमान

भारत के पड़ोसी देश बांग्लादेश में आरक्षण के खिलाफ सड़कों पर उतरे विद्यार्थियों और...

More like this

बांग्लादेश की हालत ख़राब ,अब तक 900 भारतीय लौटे भारत

न्यूज़ डेस्क बांग्लादेश में लगातार हो रही हिंसा के बीच पूरे देश में कर्फ्यू लगा...

जनसंख्या नियंत्रण को लेकर कांग्रेस और बीजेपी आमने -सामने 

न्यूज़ डेस्क जनसंख्या नियंत्रण को लेकर कांग्रेस और बीजेपी के बीच आरोप -प्रत्यारोप शुरू हो...

दुकानदारका नाम अनिवार्य कर अकेले पड़े योगी,विपक्ष के साथ सत्ता पक्ष से भी उठे आवाज

उत्तर प्रदेश में कावड़ मार्ग पर लगने वाले दुकानों में दुकानदारों के नाम वाले...