Homeदेशमणिपुर में तनावपूर्ण शांति ,अब तक 54 लोगों की मौत

मणिपुर में तनावपूर्ण शांति ,अब तक 54 लोगों की मौत

Published on

न्यूज डेस्क
हिंसाग्रस्त मणिपुर में अभी भी भारी तनाव है लेकिन सेना और अर्धसैनिक बलों की वजह से शांति का माहौल है ।खबर के मुताबिक इंफाल घाटी में जनजीवन सामान्य हुआ है । दुकानें खुली हैं और लोग घर से बाहर देखे जा रहे हैं। यातायात चालू होने की खबर भी आ रही है । लेकिन इन सबके बीच 54 लोगों के मारे जाने की पुष्ट खबरे सामने आई है।

अधिकारियों ने बताया कि 54 मृतकों में से 16 शव चुराचंदपुर जिला अस्पताल के मुर्दाघर में रखे गए हैं, जबकि 15 शव इम्फाल पूर्वी जिले के जवाहरलाल नेहरू आयुर्विज्ञान संस्थान में हैं। इम्फाल पश्चिम जिले के लाम्फेल में क्षेत्रीय चिकित्सा विज्ञान संस्थान ने 23 लोगों के मौत की सूचना दी है। वहीं, चुराचांदपुर जिले में शुक्रवार रात दो अलग-अलग मुठभेड़ों में कुल पांच आतंकवादी मारे गए। इस दौरान इंडिया रिजर्व बटालियन के दो जवान भी घायल हो गए।

इसमें कोई दोराय नहीं कि हिंसा भड़कने के बाद ही केंद्र और राज्य सरकार ने कुछ महत्वपूर्ण निर्णय लेते हुए सभी प्रमुख क्षेत्रों और सड़कों पर सेना की अधिक टुकड़ियों और रैपिड एक्शन फोर्स और केंद्रीय पुलिस बलों को भेजकर सुरक्षा की स्थिति को मजबूत किया था। इसी बीच शनिवार सुबह इम्फाल शहर और अन्य जगहों पर ज्यादातर दुकानें और बाजार खुले मिले। लोग भी घरों से बाहर देखे गए। हालांकि, बड़ी संख्या में सुरक्षा बल तैनात अब भी हैं।

जानकारी के मुताबिक, एक रक्षा प्रवक्ता ने कहा, “कुल 13,000 लोगों को बचाकर उन्हें सुरक्षित स्थानों पर ले जाया गया है। चूंकि सेना ने चुराचांदपुर, मोरेह, काकचिंग और कांगपोकपी जिलों में नियंत्रण स्थापित किया है, इसीलिए कई लोगों को सेना के शिविरों में भी भेजा गया है। बता दें कि गोली लगने से घायल कई लोगों का इलाज रिम्स और जवाहरलाल नेहरू आयुर्विज्ञान संस्थान में भी चल रहा है।

रक्षा प्रवक्ता का कहना है, “प्रभावित क्षेत्रों में सुरक्षा बलों द्वारा त्वरित कार्रवाई कर सभी समुदायों के नागरिकों को बचाया गया है। इसके बाद अब चुराचांदपुर, कांगपोकपी, मोरेह और काकचिंग अब पूरी तरह से नियंत्रण में हैं और कल रात से किसी बड़ी हिंसा की सूचना नहीं है।” गौरतलब है कि, सेना और असम राइफल्स के लगभग 10,000 सैनिकों को राज्य में तैनात किया गया है।

बता दें कि केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने भी शुक्रवार को मुख्यमंत्री एन बीरेन सिंह और शीर्ष अधिकारियों के साथ मणिपुर में स्थिति की समीक्षा की थी। ज्ञात हो कि ऑल ट्राइबल स्टूडेंट यूनियन मणिपुर द्वारा अनुसूचित जनजाति के दर्जे की मांग के विरोध में बुधवार को आयोजित ‘आदिवासी एकजुटता मार्च’ के दौरान चुराचांदपुर जिले के तोरबुंग क्षेत्र में हिंसा का पहला मामला सामने आया था। मैतेई आबादी का लगभग 53 प्रतिशत हिस्सा है और आदिवासी नागा और कुकी आबादी का 40 प्रतिशत हिस्सा हैं। हाई कोर्ट द्वारा अभी हाल में मैतेई समुदाय को आदिवासी जनजाति का दर्जा मिलने के बाद नागा और कुकी समाज को लग रहा है कि अब मैतेई समाज के लोग उनके अधिकार पर कब्जा कर सकते हैं ।बता दें कि मैतेई समाज के लोग हिंदू हैं जबकि नागा और कुकी समाज के अधिकतर लोग ईसाई धर्म का पालन करते हैं।

Latest articles

नीट पेपर लीक मामला : बिहार ,गुजरात के बाद अब इस मामले में महाराष्ट्र का कनेक्शन भी आया सामने 

न्यूज़ डेस्क नीट परीक्षा में पहली हुई धांधली की कहानी हालांकि कोई नयी नहीं है...

बिहार में सप्ताह भर के भीतर तीसरा पुल हुआ जमींदोज ,पूर्वी चम्पारण का निर्माणाधीन पुल हुआ ध्वस्त 

न्यूज़ डेस्क बिहार में लगातार पुलों का गिरना जारी है। सप्ताह भर के भीतर तीसरा...

अयोध्या के श्री राम मंदिर में सारे दर्शनार्थी होंगे एक समान,अब कोई दर्शनार्थी नहीं होगा वीआईपी 

न्यूज़ डेस्क अयोध्या के श्री राम मंदिर की व्यवस्था में तीन अहम बदलाव किये गए...

AFG vs AUS: अफगानिस्तान ने T20 वर्ल्डकप में किया बड़ा उलटफेर,ऑस्ट्रेलिया को सुपर 8 में दी करारी मात

न्यूज डेस्क टी20 वर्ल्डकप में अफगानिस्तान की टीम ने इतिहास रच दिया है। राशिद खान...

More like this

नीट पेपर लीक मामला : बिहार ,गुजरात के बाद अब इस मामले में महाराष्ट्र का कनेक्शन भी आया सामने 

न्यूज़ डेस्क नीट परीक्षा में पहली हुई धांधली की कहानी हालांकि कोई नयी नहीं है...

बिहार में सप्ताह भर के भीतर तीसरा पुल हुआ जमींदोज ,पूर्वी चम्पारण का निर्माणाधीन पुल हुआ ध्वस्त 

न्यूज़ डेस्क बिहार में लगातार पुलों का गिरना जारी है। सप्ताह भर के भीतर तीसरा...

अयोध्या के श्री राम मंदिर में सारे दर्शनार्थी होंगे एक समान,अब कोई दर्शनार्थी नहीं होगा वीआईपी 

न्यूज़ डेस्क अयोध्या के श्री राम मंदिर की व्यवस्था में तीन अहम बदलाव किये गए...