Homeदेशइंडिया गठबंधन के नागपुर बैठक को लेकर राहुल,खरगे व पवार ने ममता...

इंडिया गठबंधन के नागपुर बैठक को लेकर राहुल,खरगे व पवार ने ममता से की फोन पर बातचीत

Published on

बीरेंद्र कुमार झा

एनडीए सरकार के खिलाफ विपक्षी पार्टियों को लेकर बनी इंडिया गठबंधन की अगली बैठक नवंबर को शुरुआत में होने की संभावना है।इस संबंध में कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष व सांसद राहुल गांधी, कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे,और एनसीपी नेता शरद पवार ने मुख्यमंत्री व तृणमूल कांग्रेस सुप्रीमो ममता बनर्जी के साथ फोन पर चर्चा की। सूत्रों के मुताबिक हाल में विदेश दौरे में चोट लगने के कारण डॉक्टरों की सलाह पर फिलहाल कालीघाट स्थित अपने आवास पर स्वास्थ्य लाभ कर रही ममता बनर्जी से तीनों विपक्षी नेताओं ने उनके स्वास्थ्य के बारे में भी हाल-चाल।

तृणमूल कांग्रेस सुप्रीमो मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने दिया प्रस्ताव

तृणमूल नेताओं के अनुसार इसके बाद इंडिया गठबंध की अगली बैठक पर चर्चा की गई। इसमें कांग्रेस और एनसीपी नेता इस महीने के अंत में नागपुर में बैठक के पक्ष में है।। इस पर ममता बनर्जी ने कहा कि उस समय लक्ष्मी पूजा के कारण उनका जाना संभव नहीं होगा। ममता ने सुझाव दिया कि अगर चार- पांच नवंबर तक बैठक होती है तो वह जा सकती है। जानकारी के अनुसार ममता बनर्जी के सुझाव पर तीनों नेताओं ने सहमति व्यक्त की। ऐसे में माना जा रहा है कि अगर सब कुछ ठीक रहा तो इंडिया गठबंधन की अगली बैठक चार-पांच नवंबर को नागपुर में होगी और ममता बनर्जी उसमें शामिल होंगी।

इंडिया गठबंधन की पहले की तीनों मीटिंग में पहुंची ममता बनर्जी

नागपुर के अलावा लखनऊ कोलकाता और दिल्ली में भी अगली बैठक को लेकर चर्चा है। हालांकि पिछले महीने 13 सितंबर को विपक्षी दलों के समन्वय समिति की बैठक में जिन पांच शहरों को शॉर्टलिस्टेड किया गया था उसमें नागपुर फाइनल हुआ था ।विपक्षी गठबंधन इंडिया की इससे पहले तीन बैठक हो चुकी हैं। पटना मुंबई व बेंगलुरु में हुई तीनों बैठकों में ममता बनर्जी हिस्सा ले चुकी है। हालांकि विपक्षी गठबंधन में सीट समझौते को लेकर अभी भी पेंच फंसा हुआ है।

विभिन्न राज्यों में सीट समझौते में बंगाल एक बड़ा कांटा

विपक्षी गठबंधन इंडिया के सहयोगी दलों को एहसास हो रहा है कि विभिन्न राज्यों में सीट समझौते में बंगाल एक बड़ा कांटा है।हाल में एनसीपी नेता शरद शरद पवार ने खुलेआम कहा था कि विधानसभा चुनाव में बंगाल में कांग्रेस तृणमूल और वामदल भले एक दूसरे के खिलाफ लड़े थे लेकिन लेकिन 2024 के लोकसभा चुनाव में उन्हें साथ मिलकर लड़ना चाहिए। हालांकि पवार के बयान पर बंगाल कांग्रेस के अध्यक्ष व वरिष्ठ सांसद अधीर रंजन चौधरी और सीपीएम नेताओं ने आपत्ति जताई थी। दरअसल ममता के घुर विरोधी माने जाने वाले अधीर रंजन राष्ट्रीय स्तर पर गठबंधन के बावजूद बंगाल में ममता के साथ मिलकर किसी हाल में लड़ने को तैयार नहीं है। ऐसे में यहां सीट समझौते की राह आसान नहीं दिख रही है। इसके अलावा कांग्रेस राष्ट्रीय स्तर पर जाति गणना के मुद्दे पर मनाने के लिए ममता बनर्जी एसडी बात करना चाहती है। हालांकि तृणमूल कांग्रेस नेतृत्व ने इस पर अभी चुप्पी साथ रखी है।

 

Latest articles

चरित्रहीन राजनीति में सब कुछ जायज ,अब बीजेपी के साथ हाथ मिलाने को बेकरार केसीआर !

अखिलेश अखिल नेताओं और राजनीति पर वैसे भी कोई यकीन नहीं करता क्योंकि राजनीति तो...

मोदी सरकार का बड़ा ऐलान, पूर्व अग्निवीरों को सीआईएसएफ और बीएसएफ में छूट मिलेगी

18 वीं लोकसभा चुनाव में जिस आधार पर कांग्रेस और इंडिया गठबंधन के अन्य...

बहुत कहता है समुद्री पारिस्थितिकी पर चीन का श्वेत पत्र !

न्यूज़ डेस्क चीनी राज्य परिषद के सूचना कार्यालय ने संवाददाता सम्मेलन आयोजित कर चीनी समुद्री...

केजरीवाल की याचिका पर आज सुप्रीम कोर्ट सुनाएगा फैसला !

न्यूज़ डेस्क दिल्ली में कथित आबकारी नीति घोटाले से जुड़े धनशोधन मामले में प्रवर्तन निदेशालय...

More like this

चरित्रहीन राजनीति में सब कुछ जायज ,अब बीजेपी के साथ हाथ मिलाने को बेकरार केसीआर !

अखिलेश अखिल नेताओं और राजनीति पर वैसे भी कोई यकीन नहीं करता क्योंकि राजनीति तो...

मोदी सरकार का बड़ा ऐलान, पूर्व अग्निवीरों को सीआईएसएफ और बीएसएफ में छूट मिलेगी

18 वीं लोकसभा चुनाव में जिस आधार पर कांग्रेस और इंडिया गठबंधन के अन्य...

बहुत कहता है समुद्री पारिस्थितिकी पर चीन का श्वेत पत्र !

न्यूज़ डेस्क चीनी राज्य परिषद के सूचना कार्यालय ने संवाददाता सम्मेलन आयोजित कर चीनी समुद्री...