Homeदेशबीजेपी को मात देने के लिए 25 अपील को नीतीश की ममता...

बीजेपी को मात देने के लिए 25 अपील को नीतीश की ममता और अखिलेश से होगी अहम बैठक

Published on



अखिलेश अखिल

सब कुछ तय रणनीति के तहत किया जा रहा है। पहले ममता बनर्जी से नीतीश कुमार की बात हुई और अब मुलाकात होगी। दोनों पुराने साथी हैं और एक साथ ही एनडीए में भी रह चुके हैं। अब दोनों एनडीए से अलग हैं और अपने अपने राज्यों में मुख्यमंत्री भी। दोनों की छवि की सेक्युलर हैं और दोनों की सादगी और ईमानदारी की चर्चा खूब होती है। सत्ता पक्ष और विपक्ष की राजनीति के तहत हर पार्टी एक दूसरे पर हमला करती है लेकिन नीतीश कुमार ने कभी ममता पर हमला नहीं किया और न ही ममता ने कभी नीतीश पर हमला किया। अब दोनों के रडार पर बीजेपी है। अगले लोक सभा चुनाव में बीजेपी को मात देने की चुनौती है। ऐसे में सबकी निगाहें 25 तारीख की वार्ता पर टिकी हैं जो कोलकाता में ममता और नीतीश के बीच संभावित है।
सूत्रों ने कहा कि नीतीश कुमार मंगलवार सुबह कोलकाता आने वाले हैं और उसी शाम दक्षिण कोलकाता में ममता बनर्जी के साथ उनके कालीघाट स्थित आवास पर मुलाकात की पूरी संभावना है। पश्चिम बंगाल कैबिनेट के एक सदस्य ने कहा कि बैठक में 2024 के लोकसभा चुनाव में विपक्षी एकता पर बात होगी। पिछले कुछ महीनों में, ममता बनर्जी ने 2024 के चुनाव में भाजपा के खिलाफ विपक्षी एकता के मुद्दे पर कई गैर-भाजपा और गैर-कांग्रेसी नेताओं के साथ कई बैठकें की हैं।
पिछले महीने समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव ने कालीघाट में उनसे मुलाकात की थी। बैठक में, दोनों नेताओं ने कांग्रेस से दूरी बनाए रखने और 2024 के चुनावों में भाजपा के खिलाफ क्षेत्रीय ताकतों की एकता पर फोकस करने पर सहमति व्यक्त की। अखिलेश से मिलने के तुरंत बाद, ममता बनर्जी ओडिशा गईं और मुख्यमंत्री नवीन पटनायक के साथ बैठक की। इसके बाद जनता दल (सेक्युलर) के नेता एच.डी. कुमारस्वामी ने बनर्जी से मुलाकात की थी। पिछले हफ्ते उन्होंने तमिलनाडु में अपने समकक्ष एम.के. स्टालिन और देश में विपक्ष शासित राज्य में राज्यपालों की भूमिका के खिलाफ विपक्षी ताकतों की एकता पर चर्चा की। हाल के दिनों में, ममता बनर्जी ने अपनी सभी जनसभाओं में इस बात पर जोर दिया है कि अगर विपक्ष 2024 के लोकसभा चुनाव से पहले एकजुट हो जाता है, तो भाजपा को हराना संभव है।हालांकि, वह हमेशा इस मुद्दे से बचती रही हैं कि क्या कांग्रेस भी विपक्ष के इस ब्लूप्रिंट का हिस्सा है।
नीतीश कुमार की अखिलेश यादव से भी बात और मुलाकात होनी है। खबर के मुताबिक कोलकाता से लौटने के बाद उसी दिन नीतीश कुमार और अखिलेश यादव की बैठक लखनऊ में होने वाली है। इस बैठक को भी काफी अहम माना जा रहा है। आगामी लोक सभा चुनाव को लेकर यूपी में अखिलेश यादव की बड़ी भूमिका होने वाली है। उम्मीद की जा रही है कि नीतीश और अखिलेश की यह वार्ता भी काफी सफल होगी। जानकारी के मुताबिक नीतीश आँख अखिलेश की इस मुलाकात में तेजस्वी यादव भी शामिल हो सकते हैं।

Latest articles

पूर्वी दिल्ली के सांसद गौतम गंभीर  ने किया ठगिनी राजनीति से तौबा ,क्रिकेट में लौटेंगे 

न्यूज़ डेस्क  ठगिनी राजनीति से किसे मोहभंग नहीं होता ! जो लोग झूठ और ठगी...

बंगलुरु रामेश्वरम कैफे में विस्फोट ,कई लोग घायल 

न्यूज़ डेस्क बंगलुरु रामेश्वरम कैफे आईईडी विस्फोट मामले में बड़ी बात सामने आ रही है।...

चुनाव आयोग ने स्टार प्रचारकों और उम्मीदवारों की जारी की एडवाइजरी!

न्यूज़ डेस्क  भारतीय निर्वाचन आयोग ने लोकसभा चुनावों से पहले स्टार प्रचारकों और उम्मीदवारों को...

More like this

पूर्वी दिल्ली के सांसद गौतम गंभीर  ने किया ठगिनी राजनीति से तौबा ,क्रिकेट में लौटेंगे 

न्यूज़ डेस्क  ठगिनी राजनीति से किसे मोहभंग नहीं होता ! जो लोग झूठ और ठगी...

बंगलुरु रामेश्वरम कैफे में विस्फोट ,कई लोग घायल 

न्यूज़ डेस्क बंगलुरु रामेश्वरम कैफे आईईडी विस्फोट मामले में बड़ी बात सामने आ रही है।...

चुनाव आयोग ने स्टार प्रचारकों और उम्मीदवारों की जारी की एडवाइजरी!

न्यूज़ डेस्क  भारतीय निर्वाचन आयोग ने लोकसभा चुनावों से पहले स्टार प्रचारकों और उम्मीदवारों को...