Homeदेशब्रिटेन के सांसद बने मुजफ्फरपुर के कनिष्क नारायण !

ब्रिटेन के सांसद बने मुजफ्फरपुर के कनिष्क नारायण !

Published on

न्यूज़ डेस्क 
बिहार मुजफ्फरपुर के  कनिष्क नारायण वेल्स यूके से लेबर पार्टी के उम्मीदवार के रूप में जीत दर्ज कर सांसद बने हैं. कनिष्क पहले सिविल सर्विस में थे लेकिन  बाद वो ब्रिटेन में जा कर बस गए। चुनाव की घोषणा के बाद नौकरी से इस्तीफा देकर वे मैदान में उतरे।

कनिष्क के सांसद बनने की सूचना मिलने पर शहर के दामुचक स्थित सांधो अपार्टमेंट के लोगों में काफी खुशी है।  साथ ही लोगों ने इस खुशी का इजहार जश्न मनाकर किया। 

कनिष्क मूल रूप से वैशाली के गोरौल थाना क्षेत्र के सौंधो गांव के रहने वाले हैं। उनके दादा स्व. कृष्ण कुमार व वीणा देवी बहुत साल पहले मुजफ्फरपुर के दामुचक में आ कर बस गए थे। कृष्ण कुमार मुजफ्फरपुर डिस्ट्रिक्ट बोर्ड के चेयरमैन थे। जिनके तीन बेटे थे।  जिसमें सबसे छोटे बेटे संतोष कुमार के पुत्र कनिष्क नारायण यूके में सांसद के रूप में चुने गए हैं।

कनिष्क की तीसरी क्लास तक की पढ़ाई मुजफ्फरपुर में ही हुई है। कनिष्क के माता-पिता दोनों ने ही एलएस कॉलेज से अपनी पढ़ाई पूरी की। जिसके बाद वो लोग दिल्ली जाकर बस गए। इसके बाद कनिष्क की आगे की पढ़ाई दिल्ली से ही हुई।  जिसके बाद वो अपने माता-पिता के साथ ब्रिटेन चले गए। 

कनिष्क के मुजफ्फरपुर के घर पर उनके सांसद बनने के बाद खुशी की लहर छाई हुई है।  कनिष्क के चाचा एसकेजे लॉ कॉलेज के निदेशक जयंत कुमार के अनुसार भतीजे ने मुजफ्फरपुर सहित पूरे देश का नाम का बढ़ाया है।

उन्होंने बताया कि ब्रिटेन उनका थर्ड होम है। भाई के परिवार के साथ ही बेटी-दामाद भी वहां पर रहते हैं। पारिवारिक कार्यक्रमों में उन लोगों का आना-जाना लगा रहता है। कनिष्क के पिता संतोष कुमार व माता चेतना सिन्हा कार्डिफ वेल्स में सॉलिसिटर हैं। वो लोग डेविड कैमरॉन के साथ काम कर चुके हैं। 

वहीं, कनिष्क ने ब्रिटेन में रहने वाले एशियाई मूल के अल्पसंख्यक पृष्ठभूमि छात्रवृत्ति के साथ इटेन ऑक्सफोर्ड व स्टैनफोर्ड अमेरिका से उच्च शिक्षा प्राप्त की है। साथ ही लोक सेवक के रूप में तत्कालीन ब्रिटिश प्रधानमंत्री डेविड कैमरॉन के साथ पर्यावरण विभाग में भी काम किया था। 

Latest articles

यूनिवर्सल हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन (UHO)— न्यूज़लेटर 19 जुलाई,2024

यह साप्ताहिक समाचार पत्र दुनिया भर में महामारी के दौरान पस्त और चोटिल विज्ञान...

यूपीएससी चेयरमैन मनोज सोनी ने कार्यकाल खत्म होने से पांच साल पहले दे दिया इस्तीफा

यूनियन पब्लिक सर्विस कमीशन के अध्यक्ष मनोज सोनी के इस्तीफे की खबर सामने आ...

बंगाल बीजेपी में सुवेंदु अधिकारी और अल्पसंख्यक मोर्चा अध्यक्ष के बीच वार – पलटवार

बंगाल विधानसभा में विपक्ष के नेता सुवेंदु अधिकारी की 'सबका साथ, सबका विकास' की...

बांग्लादेश के युवा आखिर किस तरह के आरक्षण का हिंसक विरोध कर रहे हैं ?

न्यूज़ डेस्कबांग्लादेश अचानक हिंसा की चपेट में आ गया है। इस बारे बांग्लादेश के...

More like this

यूनिवर्सल हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन (UHO)— न्यूज़लेटर 19 जुलाई,2024

यह साप्ताहिक समाचार पत्र दुनिया भर में महामारी के दौरान पस्त और चोटिल विज्ञान...

यूपीएससी चेयरमैन मनोज सोनी ने कार्यकाल खत्म होने से पांच साल पहले दे दिया इस्तीफा

यूनियन पब्लिक सर्विस कमीशन के अध्यक्ष मनोज सोनी के इस्तीफे की खबर सामने आ...

बंगाल बीजेपी में सुवेंदु अधिकारी और अल्पसंख्यक मोर्चा अध्यक्ष के बीच वार – पलटवार

बंगाल विधानसभा में विपक्ष के नेता सुवेंदु अधिकारी की 'सबका साथ, सबका विकास' की...