Homeदेशभारतीय नौसेना की मैत्री यात्रा : आईएनएस त्रिकंद पहुंचा ईरान तो आईएनएस...

भारतीय नौसेना की मैत्री यात्रा : आईएनएस त्रिकंद पहुंचा ईरान तो आईएनएस विशाखापत्तनम कुवैत !

Published on


न्यूज़ डेस्क 

भारतीय नौ सेना के दो पोत ईरान और कुवैत की मैत्री यात्रा पर रविवार को पहुँच गए हैं। आईएनएस त्रिकंद का  ईरान के बंदरगाह शहर बंदर अब्बास पहुंचने पर गर्मजोशी से स्वागत किया गया। नौसेना के प्रवक्ता ने कहा कि यह जहाज क्षेत्रीय देशों के साथ सहयोगात्मक समुद्री जुड़ाव की दिशा में भारतीय नौसेना की परिचालन तैनाती के हिस्से के रूप में ईरान की यात्रा पर है।           
    उधर, भारतीय नौसेना का जहाज आईएनएस विशाखापत्तनम कुवैत में तीन दिवसीय प्रवास के तहत रविवार को अल-शुवैख बंदरगाह पर रुका। आईएनएस विशाखापत्तनम की यात्रा कुवैत में भारतीय समुदाय के लिए नई संभावनाओं के दरवाजे खोलेगी।
                कुवैत में भारतीय दूतावास ने सोशल मीडिया पर पोस्ट में लिखा कि शुवैख बंदरगाह पर आईएनएस विशाखापत्तनम के तीन दिवसीय प्रवास के दौरान जहाज के दौरे और चालक दल की बातचीत सकारात्मकता फैलाएगी। भारतीय दूतावास द्वारा जारी एक प्रेस विज्ञप्ति में कहा गया है कि यह यात्रा भारत और कुवैत के बीच द्विपक्षीय नौसेना-से-नौसेना सहयोग में एक नया अध्याय जोड़ती है।  
            आईएनएस त्रिकंद क्षेत्रों देशों के साथ सहयोगात्मक समुद्री जुड़ाव की दिशा में भारतीय नौसेना की परिचालन तैनाती के हिस्से के रूप में  बंदर अंब्बास, ईरान की यात्रा पर है। जहाज का गर्मजोशी से स्वागत किया। यह भारत और ईरान के बीच दोस्ती का पुल है।विदेश मंत्रालय के मुताबिक, भारत-ईरान संबंध सदियों से सार्थक बातचीत पर आधारित हैं। भारत और ईरान ने 15 मार्च, 1950 को राजनयिक संबंध स्थापित किए। तेहरान के अलावा भारत के ईरान में दो दूतावास हैं-एक बंदर अब्बास में और दूसरा जाहेदान में।
                इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को कहा कि उन्होंने ईरान के राष्ट्रपति सैयद इब्राहिम रईसी से बात की और चाबहार बंदरगाह की पूरी क्षमता को साकार करने पर चर्चा की। मोदी ने ट्वीट किया,’ईरान के राष्ट्रपति डॉ. सैयद इब्राहिम रईसी से कल बात करके खुशी हुई। हमने चाबहार बंदरगाह की पूरी क्षमता को साकार करने सहित द्विपक्षीय और क्षेत्रीय सहयोग को मजबूत करने पर चर्चा की। ब्रिक्स शिखर सम्मेलन से इतर दक्षिण अफ्रीका में राष्ट्रपति रईसी से मुलाकात को लेकर आशान्वित हूं।’
             फोन पर बातचीत के दौरान, पीएम मोदी ने कहा कि ईरान और भारत के बीच संबंध घनिष्ठ ऐतिहासिक और सभ्यतागत संबंधों पर आधारित हैं। प्रधानमंत्री कार्यालय ने एक प्रेस विज्ञप्ति में कहा,’प्रधानमंत्री ने इस बात पर जोर दिया कि भारत-ईरान संबंध ऐतिहासिक और सभ्यतागत संबंधों पर आधारित हैं, जिसमें लोगों के बीच मजबूत संपर्क भी शामिल है।’

Latest articles

मुफ्त की योजनाएं या ‘जीवंत’ जीवन…!

पिछले सप्ताह यानी 14 जुलाई 2024 को मैंने इसी 'प्रहार' कॉलम में ये -...

महबूबा मुफ़्ती ने क्यों कहा कि बीजेपी सरकार उड़ा रही है संविधान की धज्जियां ?

न्यूज़ डेस्क यूपी की योगी सरकार की तरफ से जैसे ही कावड़ यात्रा के...

जम्मू कश्मीर में पांच सौ पैरा कमांडो तैनात ,पाक आतंकियों का अब होगा खात्मा !

न्यूज़ डेस्क जम्मू कश्मीर में जिस तरह फिर से आतंकवाद सिर उठा रहा है...

बांग्लादेश की हालत ख़राब ,अब तक 900 भारतीय लौटे भारत

न्यूज़ डेस्क बांग्लादेश में लगातार हो रही हिंसा के बीच पूरे देश में कर्फ्यू लगा...

More like this

मुफ्त की योजनाएं या ‘जीवंत’ जीवन…!

पिछले सप्ताह यानी 14 जुलाई 2024 को मैंने इसी 'प्रहार' कॉलम में ये -...

महबूबा मुफ़्ती ने क्यों कहा कि बीजेपी सरकार उड़ा रही है संविधान की धज्जियां ?

न्यूज़ डेस्क यूपी की योगी सरकार की तरफ से जैसे ही कावड़ यात्रा के...

जम्मू कश्मीर में पांच सौ पैरा कमांडो तैनात ,पाक आतंकियों का अब होगा खात्मा !

न्यूज़ डेस्क जम्मू कश्मीर में जिस तरह फिर से आतंकवाद सिर उठा रहा है...