Homeदुनियाखंडहर में बदला गाजा पट्टी ,फिलिस्तीनियों को मानवीय सहायता की दरकार !

खंडहर में बदला गाजा पट्टी ,फिलिस्तीनियों को मानवीय सहायता की दरकार !

Published on


न्यूज़ डेस्क 

हमास और इजरायल की लड़ाई में गाजापट्टी खंडहर बनता जा रहा है। अब वहां कोई भी बड़ी ईमारत साबुत नहीं बची हुई है। अधिकतर मकान जमींदोज हो गए है यह आग से जल गए हैं। चारो तरफ लाशे बीछी हुई है। सबसे बुरी हालत बच्चों और महिलाओं के हैं। मारे गए अधिकतर लोग निर्दोष हैं। जो बचे हैं उन्हें न खाने का ठिकाना है और रहने के। कोई कही भी भाग भी नहीं सकता। गाजापट्टी अन्धकार में डूबा हुआ है। वहां के सभी अस्पतालों में लाइट नहीं है। घायलों की स्थिति और भी भयावह है। गाजापट्टी में जो कुछ भी हो रहा है उसमे अब फिलिस्तीनियों को बड़े स्तर पर मानवीय सहायता की जरूरत है। मानवीय सहायता भेजी भी गई है, लेकिन जितनी उम्मीद सहायता पहुंचने की थी, उतनी पहुंच नहीं पा रही है। संयुक्त राष्ट्र के मानव वादियों के अनुसार, 24 अक्टूबर को मिस्र से गाजा में मानवीय आपूर्ति ले जाने वाले 20 ट्रक दाखिल हुए, जो पर्याप्त नहीं हैं।       
           समाचार एजेंसी शिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, मानवीय मामलों के समन्वय के लिए संयुक्त राष्ट्र कार्यालय (ओसीएचए) ने कहा कि 20 ट्रक सोमवार को राफा सीमा पार कर गाजा पहुंचे और उनमें से आधे पानी, भोजन और दवा ले जा रहे थे। 21 और 22 अक्टूबर को 34 ट्रक जीवन रक्षक आपूर्ति के साथ गाजा में प्रवेश किए। ओसीएचए ने कहा, यह इस नवीनतम संकट से पहले गाजा में प्रवेश करने वाली वस्तुओं की दैनिक औसत मात्रा के 4 प्रतिशत से अधिक के बराबर नहीं है।
                    21 अक्टूबर को 20 ट्रकों का एक काफिला राफा के रास्ते गाजा में दाखिल हुआ, जो 7 अक्टूबर को हमास-इज़राइल संघर्ष शुरू होने के बाद दो सप्ताह में पहली बार था। गाजा में प्रवेश करने वाली सहायता डिलीवरी में ईंधन शामिल नहीं है। ओसीएचए ने कहा, संयुक्त राष्ट्र राहत कार्य एजेंसी (यूएनआरडब्ल्यूए), जो गाजा में अब तक की सबसे बड़ी मानवीय सहायता प्रदाता है, अगले दो दिनों के भीतर अपने ईंधन भंडार को समाप्त कर देगी।
                   इसमें कहा गया है, “ईंधन नहीं होने का मतलब पानी का अलवणीकरण नहीं होना है। ईंधन नहीं होने का मतलब यह भी है कि मानवतावादी साझेदारों को अपने पूरे सहायता वितरण अभियान को जल परिवहन पर केंद्रित करना होगा।”
                   गाजा में आंतरिक रूप से विस्थापित लोगों की संख्या लगभग 1.4 मिलियन होने का अनुमान है। मानवतावादियों ने भीड़भाड़ के बारे में चेतावनी दी है, क्योंकि प्रति आश्रय लोगों की औसत संख्या क्षमता से 2.5 गुना से अधिक हो गई है। बिजली, दवा, उपकरण और विशेषज्ञ कर्मियों की कमी को देखते हुए अस्पतालों में स्थिति गंभीर बनी हुई है।
                 गाजा शहर का शिफा अस्पताल, जो इस पट्टी का सबसे बड़ा अस्पताल है, वर्तमान में लगभग 5,000 मरीजों का इलाज कर रहा है, जो कि इसकी 700 मरीजों की क्षमता से काफी अधिक है। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कहा गया है कि गाजा शहर और उत्तरी गाजा में सात अस्पतालों को नुकसान, बिजली और आपूर्ति की कमी और निकासी आदेशों के कारण बंद करने के लिए मजबूर होना पड़ा। ओसीएचए ने कहा कि गाजा में पूरी तरह बिजली गुल है।

Latest articles

मुफ्त की योजनाएं या ‘जीवंत’ जीवन…!

पिछले सप्ताह यानी 14 जुलाई 2024 को मैंने इसी 'प्रहार' कॉलम में ये -...

महबूबा मुफ़्ती ने क्यों कहा कि बीजेपी सरकार उड़ा रही है संविधान की धज्जियां ?

न्यूज़ डेस्क यूपी की योगी सरकार की तरफ से जैसे ही कावड़ यात्रा के...

जम्मू कश्मीर में पांच सौ पैरा कमांडो तैनात ,पाक आतंकियों का अब होगा खात्मा !

न्यूज़ डेस्क जम्मू कश्मीर में जिस तरह फिर से आतंकवाद सिर उठा रहा है...

बांग्लादेश की हालत ख़राब ,अब तक 900 भारतीय लौटे भारत

न्यूज़ डेस्क बांग्लादेश में लगातार हो रही हिंसा के बीच पूरे देश में कर्फ्यू लगा...

More like this

मुफ्त की योजनाएं या ‘जीवंत’ जीवन…!

पिछले सप्ताह यानी 14 जुलाई 2024 को मैंने इसी 'प्रहार' कॉलम में ये -...

महबूबा मुफ़्ती ने क्यों कहा कि बीजेपी सरकार उड़ा रही है संविधान की धज्जियां ?

न्यूज़ डेस्क यूपी की योगी सरकार की तरफ से जैसे ही कावड़ यात्रा के...

जम्मू कश्मीर में पांच सौ पैरा कमांडो तैनात ,पाक आतंकियों का अब होगा खात्मा !

न्यूज़ डेस्क जम्मू कश्मीर में जिस तरह फिर से आतंकवाद सिर उठा रहा है...