Homeदेश2019 का लोकसभा चुनाव सैनिकों की लाशों पर लड़ा गया: सत्यपाल मलिक

2019 का लोकसभा चुनाव सैनिकों की लाशों पर लड़ा गया: सत्यपाल मलिक

Published on

बीरेंद्र कुमार झा

जम्मू कश्मीर के पूर्व राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने पुलवामा हमले को लेकर केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार पर एक बार फिर से बड़ा हमला किया है।इस हमले में उन्होंने कहा कि 2019 का लोकसभा चुनाव सैनिकों की लाशों पर लड़ा गया और अगर इस मामले में जांच होती तो तत्कालीन गृह मंत्री को इस्तीफा देना पड़ता।मलिक ने दावा किया कि उन्होंने घटना के तुरंत बाद प्रधानमंत्री को सूचित किया था, लेकिन प्रधानमंत्री ने उन्हें चुप रहने के लिए कहा ।

जम्मू कश्मीर के पूर्व राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने अलवर जिला के बानसूर में एक कार्यक्रम में कहा कि 2019 का लोकसभा चुनाव हमारे सैनिकों की लासों लड़ा गया और कोई जांच नहीं हुई। अगर जांच होती तो तत्कालीन गृह मंत्री राजनाथ सिंह को इस्तीफा देना पड़ता और कई अधिकारी जेल में होते। इससे एक बड़ा विवाद पैदा हो जाता इसलिए सरकार में शामिल लोगों ने इस मामले की जांच ही नहीं कराई।

पुलवामा हमले का जिक्र

राज्यपाल सत्यपाल मलिक जम्मू कश्मीर से संबंधित मुद्दों को लेकर मुखर और बीजेपी पर हमलावर रहे हैं।इन्होंने केंद्र के तीन कृषि कानूनों जो कि अब निरस्त हो चुका है के विरोध के दौरान किसानों का समर्थन किया था। उल्लेखनीय है कि जम्मू कश्मीर के पुलवामा में 14 जनवरी 2019 को केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (CRPF) के काफिले पर हुए आतंकी हमले में 40 जवान शहीद हो गए थे। जम्मू कश्मीर के पूर्व राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने आगे कहा कि प्रधानमंत्री उस समय जिम कार्बेट राष्ट्रीय उद्यान में अपनी शूटिंग कर रहे थे। जब वे वहां से बाहर आए तो मुझे फोन आया। मैंने उनसे कहा कि हमारे सैनिक मारे गए हैं और वह हमारी गलती से मारे गए हैं। इसके बाद उन्होंने मुझे चुप रहने और इस विषय पर बात नहीं करने के लिए कहा ।

बी आई जांच का सामना कर रहे हैं सत्यपाल मलिक

गौरतलब है कि जम्मू कश्मीर के राज्यपाल रहने के दौरान दो फाइल को मंजूरी देने के लिए रिश्वत के रूप में ₹300 करोड़ रुपए की पेशकश के अपने दावे के संबंध में सत्यपाल मलिक को हाल में केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (CBI) की जांच का सामना करना पड़ रहा है। उन्होंने उद्योगपति गौतम अडानी के मुद्दे को लेकर भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा ।उन्होंने आरोप लगाया कि उनके साथ के खास लोगों में गौतम अडानी हैं।इसलिए उन्होंने 3 साल में इतनी राशि जमा कर ली देश के सबसे अमीर व्यक्ति हो गए।

मैंने मुख्यमंत्री के भ्रष्टाचार की शिकायत प्रधानमंत्री से की

सत्यपाल मलिक ने दावा किया कि जब मैं गोवा का राज्यपाल था तो मैंने मुख्यमंत्री के भ्रष्टाचार की शिकायत प्रधानमंत्री से की। इसका नतीजा यह निकला कि मुझे हटा दिया गया लेकिन गोवा के मुख्यमंत्री को वैसे ही रहने दिया गया, उन्हें नहीं हटाया गया। इसलिए मैं आश्वस्त हूं कि ये अपनी नाक के नीचे भ्रष्टाचार कराते हैं और उसमें इनकी हिस्सेदारी होती है। पूरी रकम अडानी को जाती है।उन्होंने लोगों से सरकार बदलने की अपील की। उन्होंने कहा कि जनता इस सरकार को हटा सकती है। मैं आपसे अनुरोध करूंगा कि इस बार चुके तो इसके बाद आप को वोट देने का मौका नहीं मिलेगा।

Latest articles

ईवीएम वीवीपीएटी वोट वेरिफिकेशन मामले पर सुप्रीम कोर्ट ने फिर फैसला रखा सुरक्षित

कुछ प्रश्नों पर चुनाव आयोग के अधिकारी से स्पष्टीकरण मांगने के बाद, सुप्रीम कोर्ट...

हेमंत सोरेन ने अपनी गिरफ्तारी और ईडी की कार्रवाई के खिलाफ शीर्ष अदालत में दाखिल की एसएलपी

न्यूज़ डेस्क अपनी गिरफ्तारी के खिलाफ झारखंड के पूर्व सीएम हेमंत सोरेन ने सुप्रीम...

पीएम मोदी का वज्र प्रहार,कांग्रेस का पंजा आपसे आरक्षण और मेहनत की कमाई छीन लेगा

देश में प्रथम चरण के मतदान के बाद इंडिया गंठबंधन के नेताओं खासकर कांग्रेस...

बिहार के गोपालगंज में मतदान का बहिष्कार सुनकर हरकत में आया निर्वाचन विभाग !

न्यूज़ डेस्कबिहार के गोपालगंज के लोग अब मतदान का बहिष्कार करने की तैयारी में...

More like this

ईवीएम वीवीपीएटी वोट वेरिफिकेशन मामले पर सुप्रीम कोर्ट ने फिर फैसला रखा सुरक्षित

कुछ प्रश्नों पर चुनाव आयोग के अधिकारी से स्पष्टीकरण मांगने के बाद, सुप्रीम कोर्ट...

हेमंत सोरेन ने अपनी गिरफ्तारी और ईडी की कार्रवाई के खिलाफ शीर्ष अदालत में दाखिल की एसएलपी

न्यूज़ डेस्क अपनी गिरफ्तारी के खिलाफ झारखंड के पूर्व सीएम हेमंत सोरेन ने सुप्रीम...

पीएम मोदी का वज्र प्रहार,कांग्रेस का पंजा आपसे आरक्षण और मेहनत की कमाई छीन लेगा

देश में प्रथम चरण के मतदान के बाद इंडिया गंठबंधन के नेताओं खासकर कांग्रेस...