Homeदेशईडी ने कमीशनखोरी के नये सबूत कोर्ट में किए पेश,मनीष के बाद...

ईडी ने कमीशनखोरी के नये सबूत कोर्ट में किए पेश,मनीष के बाद दूसरे शख्स की तलाश

Published on

ईडी द्वारा गिरफ्तारी के बाद हेमंत और चंपई सरकार में मंत्री रहे आलमगीर आलम के विरुद्ध जिस प्रकार से ईडी को सबूत दर सबूत मिलता जा रहा है,उससे न सिर्फ़ आलमगीर आलम और अन्य अधिकारियों पर गाज गिरेगी,बल्कि इसकी आंच हेमंत सोरेन को भी झुलसा सकती है।प्रवर्तन निदेशालय (इडी) ने पीएमएलए के विशेष न्यायाधीश की अदालत में ग्रामीण विकास विभाग में हुई कमीशनखोरी से जुड़े मामले में नये सबूत पेश किये।इसमें मंत्री आलमगीर आलम व मनीष को दिये गये रुपयों के अलावा आलमगीर के घर तक रुपये पहुंचाने वाले शख्स का नाम भी शामिल हैं। इसी दस्तावेज में रुपये लानेवालों के नाम के साथ यह भी लिखा है कि रुपये किस रंग की थैली में लाये गये। इससे संबंधित ब्योरा मंत्री आलमगीर आलम की रिमांड अवधि बढ़ाने के लिए दायर पिटीशन में पेश किया गया है। इडी ने अब मनीष के बाद किसी ‘गुप्ता’ नामक व्यक्ति की तलाश शुरू कर दी है।

ईडी ने कोर्ट में पेश किया नया एक्सेल सीट

ईडी ने कमीशन और उसमें मंत्री की हिस्सेदारी को लेकर एक नया एक्सेल शीट कोर्ट में पेश किया।इसमें रांची, सिमडेगा, पाकुड़, जामताड़ा, गोड्डा, गिरिडीह, देवघर सहित अन्य जिलों की योजनाओं का ब्योरा दर्ज है। इसी एक्सेल शीट के एक कॉलम में टेंडर की राशि, कुल कमीशन और मंत्री के कमीशन का ब्योरा लिखा है।एक्सेल शीट में दूसरे नंबर पर बोकारो के मानपुर से भोजुडीह गवईं पुल तक सड़क निर्माण योजना का उल्लेख है। योजना की लागत 8.91 करोड़ रुपये है। इसमें कुल कमीशन की राशि 20.50 लाख रुपये हैं।इसमें मंत्री का हिस्सा 9.22 लाख रुपये होने का उल्लेख किया गया है। इसी पूरे एक्सेल शीट में योजना और कमीशन का ब्योरा दर्ज है।इस पेज में मंत्री को कुल 1.30 करोड़ रुपये बतौर कमीशन देने का उल्लेख है।

डायरी के एक पन्ने पर सबसे ऊपर लिखा है ‘साहब’ को देने हैं 2.50

ईडी ने कोर्ट में हाथ से लिखी गयी डायरी का एक पन्ना भी पेश किया।इस पन्ने पर सबसे ऊपर पहले भी ‘साहब’ को 2.50 देने का उल्लेख है। इडी ने जांच में पाया है कि इस पन्ने में ‘साहब’ कोड वर्ड मंत्री आलमगीर के लिए इस्तेमाल किया गया है।इसी पन्ने पर इसके बाद पहले भी एम-1 अलग से देने का उल्लेख किया गया है।जांच में यह किसी मनीष को अलग से पैसा देने का मामला पाया गया है।इसी पेज में 30 अंक लिखने के बाद ‘गुप्ता’ के नाम का उल्लेख किया गया है। 100 लिखने के बाद ‘मुन्ना’ के नाम का उल्लेख किया गया है।इडी ने जांच में पाया कि डायरी में लिखे ‘मुन्ना’ वास्तव में मुन्ना सिंह बिल्डर है।

डायरी के पन्ने में रुपयों से भरे बैग का रंग और उसे लानेवाले का है विवरण

डायरी के इसी पन्ने में किस रंग के बैग में कौन रुपये लाये गये, इसका भी उल्लेख है। डायरी में 35 लिखने के बाद ‘रेड’ और ‘विकास’ शब्द का इस्तेमाल किया गया है।जांच में पाया गया है कि विकास वाला व्यक्ति लाल रंग की थैली में पैसा लेकर आया वही था। इसी तरह पर्पल, ग्रे, ब्लैक रंग की थैलियों में रुपये लाकर जहांगीर के घर देनेवालों के नाम लिखे हैं।डायरी के इसी पन्ने में कुल 2868.45 में से 16.98 ‘साहब’ यानी मंत्री को देने का जिक्र है।इस पेज में लिखे दूसरे कोड वर्ड के सिलसिले में जांच जारी है।

Latest articles

बीजेपी से हितों की उम्मीद – दिवास्वप्न!

ऐसा देखा गया है कि भाजपा ने लगातार अन्य राजनीतिक दलों को विभाजित करने,...

आईएनएस सुनयना का एमसीजी डोर्नियर और मॉरीशस पुलिस बल ने किया जोरदार स्वागत !

न्यूज़ डेस्क भारत का आईएनएस सुनयना इन दिनों मॉरीशस पहुंचा हुआ है। समुद्र में लम्बी...

केन्द्रीय बजट 2024-25 के लिए सुझाव लेने हेतु वित्त मंत्रियों के साथ सीतारमण ने की बैठक 

न्यूज़ डेस्क केन्द्रीय वित्त एवं कॉरपोरेट कार्य मंत्री निर्मला सीतारमण ने आज नई दिल्ली में...

जोधपुर में साम्प्रदायिक हिंसा ,हिरासत में लिए गए 40 लोग 

न्यूज़ डेस्क राजस्थान का जोधपुर अचानक हिंसाग्रस्त हो गया। दो समुदायों के बीच हिंसक झड़पे...

More like this

बीजेपी से हितों की उम्मीद – दिवास्वप्न!

ऐसा देखा गया है कि भाजपा ने लगातार अन्य राजनीतिक दलों को विभाजित करने,...

आईएनएस सुनयना का एमसीजी डोर्नियर और मॉरीशस पुलिस बल ने किया जोरदार स्वागत !

न्यूज़ डेस्क भारत का आईएनएस सुनयना इन दिनों मॉरीशस पहुंचा हुआ है। समुद्र में लम्बी...

केन्द्रीय बजट 2024-25 के लिए सुझाव लेने हेतु वित्त मंत्रियों के साथ सीतारमण ने की बैठक 

न्यूज़ डेस्क केन्द्रीय वित्त एवं कॉरपोरेट कार्य मंत्री निर्मला सीतारमण ने आज नई दिल्ली में...