Homeदेशउत्तराखंड सरकार ने चारो धामों में वीआईपी दर्शन और फोटोग्राफी/बीडियोग्राफ पर लगाई...

उत्तराखंड सरकार ने चारो धामों में वीआईपी दर्शन और फोटोग्राफी/बीडियोग्राफ पर लगाई रोक

Published on

उत्तराखंड के पवित्र चार धाम यमुनोत्री,गंगोत्री,केदार नाथ और बद्रीनाथ यात्रा का हिंदू धर्म में बहुत ही महत्वपूर्ण स्थान प्राप्त है।पुराने जमाने में अतिदुर्गम इन चारोधाम यात्रा के लिए जब श्रद्धालु निकलते थे,तब वे अपने सगा संबंधियों से अंतिम विदाई लेकर चलते थे,लेकिन अब इसके आवागमन में सुगमता आ जाने से अब बड़ी संख्या में श्रद्धालु यहां आने लगे हैं।अब तो देश ही नहीं विदेशों तक से श्रद्धालु चारो धाम यात्रा पर आने लगे हैं। साल दर साल चारो धाम यात्रा पर आने वाले श्रद्धालुओं की संख्या तेजी से बढ़ते जा रही है।इस साल चारो धाम यात्रा पर आ रहे श्रद्धालुओं की भारी भीड़ को देखते हुए उत्तराखंड सरकार ने दो बड़ा अहम फैसला लिया है।एक तो मंदिर परिसर में फोटोग्राफी/वीडियोग्राफी पर मनाही होगी और दूसरे वीआईपी पूजा पर 31 मई तक रोक रहेगी।

मंदिर परिसर और इसके आस – पास फोटोग्राफी /वीडियोग्राफी पर रहेगी मनाही

पूर्व में मंदिरों में फोटोग्राफी/ वीडियोग्राफी की वजह से हुई दुर्घटनाओं को देखते हुए उत्तराखंड की मुख्य सचिव राधा रतूड़ी ने चारों धामों में मंदिर परिसर के 50 मीटर के दायरे में वीडियोग्राफी/सोशल मीडिया के लिए रील बनाने पर बैन लगाने का आदेश जारी कर दिया है। उन्होंने यह आदेश सचिव पर्यटन, आयुक्त गढ़वाल मंडल और संबंधित जिलों के डीएम और एसपी को क्रियान्वयन के लिए भेज दिया है।

पिछले साल की तुलना में चारो धाम आने वाले श्रद्धालुओं की संख्या में बड़ा इजाफा

उत्तराखण्ड के चारो धाम दर्शन के लिए आने वाले श्रद्धालुओं की संख्या में इस वर्ष काफी बढ़ोत्तरी देखी जा रही है। पिछले साल की तुलना में देखा जाए तो इस साल यहां आने वाले श्रद्धालुओं की भीड़ में करीब 61 प्रतिशत वृद्धि हुई है।साल 2023 में पहले तीन दिनों में 95,000 तीर्थयात्री धार्मिक शहरों में पहुंचे थे। वहीं इस साल यहां आने वाले श्रद्धालुओं की भीड़ को देखते हुए विशेषज्ञ अनुमान लगा रहे हैं कि यदि यहां आने वाले श्रद्धालुओं का यही सिलसिला रहा तो इस साल 80 लाख से अधिक तीर्थयात्री चार धाम यात्रा के लिए पहुंच सकते हैं।

वीआईपी दर्शन 31 मई के बाद

चारों धामों में श्रद्धालुओं उमड़ रही भारी भीड़ को देखते हुए उत्तराखंड सरकार ने 31 मई तक वीआईपी दर्शन की व्यवस्था न करने तथा हरिद्वार और ऋषिकेश में ऑफलाइन पंजीकरण 19 मई तक बंद रखने का निर्णय लिया है।गौर तलब है कि चार धाम यात्रा 10 मई को शुरू हुई थी और अधिकारिक आंकड़ों के अनुसार, पहले छह दिन में ही देश-विदेश के 3,34,732 श्रद्धालु यहां पहुंचे चुके दे ।25 अप्रैल से चारधामों के लिए पंजीकरण शुरू हुआ था और गुरुवार शाम तक 27 लाख से ज्यादा श्रद्धालुओं के पंजीकरण किए जा चुके हैं।

सभी राज्य के सचिवों को पत्र लिखकर दी वीआईपी दर्शन पर रोक की जानकारी

उत्तराखंड की मुख्य सचिव राधा रतूड़ी ने सभी राज्यों एवं केंद्र शासित प्रदेशों के मुख्य सचिवों को पत्र भेजा गया है। इस पत्र में कहा गया है कि शुरूआती दिनों में ही पवित्र धामों में श्रद्धालुओं की अप्रत्याशित संख्या को देखते हुए भीड़ के बेहतर प्रबंधन के लिए 31 मई तक वीआईपी दर्शन की व्यवस्था नहीं की जा सकती है। उल्लेखनीय है कि इससे पहले 30 अप्रैल को राज्यों के मुख्य सचिवों को पत्र लिखकर 25 मई तक चारधामों में वीआईपी दर्शन की व्यवस्था पर रोक की बात कही गयी थी

 

Latest articles

क्या अध्यक्ष पद के बहाने टीडीपी और जेडीयू को भड़काकर कांग्रेस गिरा देगी मोदी सरकार

18वीं लोकसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी को भले ही बहुमत से 32 सीटें...

संजय राउत: एनडीए का स्पीकर नहीं बना तो जदयू और टीडीपी को तोड़ देगी बीजेपी !

न्यूज़ डेस्क मोदी की तीसरी बार सरकार तो बन गई लेकिन लोकसभा में स्पीकर को...

गंगा दशहरा के दिन पटना के बाढ़ में पलटी नाव, लापता लोगों को खोज रही एसडीआरएफ की टीम

बिहार में अक्सर हर पर्व के अवसर पर कहीं न कहीं नदी में लोगों...

बनारस में गंगा दशहरा के अवसर पर हजारो लोगों ने लगाई आस्था की डुबकी !

न्यूज़ डेस्क कशी के पवित्र घाट पर गंगा दशहरा के अवसर पर आज हजारों लोगों...

More like this

क्या अध्यक्ष पद के बहाने टीडीपी और जेडीयू को भड़काकर कांग्रेस गिरा देगी मोदी सरकार

18वीं लोकसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी को भले ही बहुमत से 32 सीटें...

संजय राउत: एनडीए का स्पीकर नहीं बना तो जदयू और टीडीपी को तोड़ देगी बीजेपी !

न्यूज़ डेस्क मोदी की तीसरी बार सरकार तो बन गई लेकिन लोकसभा में स्पीकर को...

गंगा दशहरा के दिन पटना के बाढ़ में पलटी नाव, लापता लोगों को खोज रही एसडीआरएफ की टीम

बिहार में अक्सर हर पर्व के अवसर पर कहीं न कहीं नदी में लोगों...