Homeदेशदेश के 'टॉयलेट मैन' दिवंगत विन्देश्वरी पाठक को भी मिला पद्म विभूषण सम्मान

देश के ‘टॉयलेट मैन’ दिवंगत विन्देश्वरी पाठक को भी मिला पद्म विभूषण सम्मान

Published on

 न्यूज़ डेस्क 
सुलभ इंटरनेशनल के संस्थापक और टॉयलेट मैन के रूप में दुनिय भर में चर्चित रहे बिहार के बिंदेश्वरी पाठक को भी आज पदविभूषण सम्मान से सम्मानित किया गया। पाठक आज हमारे बीच नहीं हैं लेकिन बेजोड़ कल्पना की सराहना आज पीरी दुनिया कर रही है।              

भारत देश 26 जनवरी को अपना 75वां गणतंत्र दिवस मना रहा है। इस अवसर पर भारत सरकार ने 5 पद्म विभूषण, 17 पद्म भूषण और 110 पद्म श्री सम्मान की घोषणा की है। पद्म विभूषण पाने वाले लोगों में से एक नाम है बिहार के दिवंगत डॉ. बिंदेश्वर पाठक। यह जो मूलतः बिहार के वैशाली जिले के रहने वाले हैं। सुलभ शौचालय की शुरुआत करने के लिए बिंदेश्वर पाठक को जाना जाता है। इन्हें भारत का टॉयलेट मैन नाम दिया गया है। बिंदेश्वर पाठक ने सुलभ इंटरनेशनल नामक संस्था की स्थापना की। इनके प्रयासों के कारण सुलभ शौचालय की कल्पना को साकार किया गया।
 

बिंदेश्वर पाठक का जन्म 2 अप्रैल 1943 को बिहार के एक रूढ़िवादी ब्राह्मण परिवार में हुआ था। उनके जन्म के समय समाज में छुआछूत की परंपरा थी। हाथों से मैला ढोने की परंपरा चल रही थी। एक खास समाज के लोग यह काम करते थे। लोग उस समाज को नीच दृष्टिकोण से देखते थे। समाज की ऐसी हालत देखकर बिदेश्वरी पाठक ने यह संकल्प लिया कि वो इस परंपरा को समाप्त करेंगे। इस काम को पूरा करने में उन्हें कई मुश्किलें आई, लेकिन इनके प्रयास ने इसे साकार कर दिखाया।

महज 6 वर्ष की उम्र में बिंदेश्वर पाठक को मेहतर समाज के लिए काम करने का विचार आया। उन्होंने अपने कई इंटरव्यू में बताया था कि जब वह मात्र छह साल के थे, तब उन्होंने एक महिला मेहतर को छू दिया था। उनके ऐसा करने पर उनकी दादी ने उन्हें दंडित किया था। साथ ही जिस घर में उनका जन्म हुआ था उस घर में उस दौरान शौचालय नहीं था। घर की महिलाओं को शौच के लिए बाहर जाना पड़ता था। बिंदेश्वर पाठक इन सब बातों से बड़े दुखी हुए और उन्होंने निश्चय किया कि वह स्वच्छता के क्षेत्र में कुछ अलग काम करेंगे।

 बिंदेश्वर पाठक के जीवन की दो बड़ी घटनाओं ने उन पर काफी प्रभाव डाला था। एक बार एक मल साफ करने वाले लड़के पर सांड ने हमला कर दिया। लड़का इस हादसे में बुरी तरह घायल हो गया था, लेकिन छुआछूत के कारण कोई उसे बचाने नहीं गया। अंत में उस लड़के की मौत हो गई थी। दूसरी घटना में एक नई दुल्हन को जब उसकी सास ने मल साफ करने के लिए कहा तो वह रोने लगी। इन दोनों घटनाओं से उन्होंने इस समाज को बदलने के लिए काम करने का संकल्प लिया था। उन्होंने कड़ी मेहनत से ये कर दिखाया।

Latest articles

लोकसभा चुनाव : सीईसी ने कहा ईवीएम की पारदर्शिता हर कीमत पर बरकरार रखी जाएगी

न्यूज़ डेस्क  मुख्य चुनाव आयुक्त राजीव कुमार ने कहा कि निष्पक्ष लोकसभा चुनाव सुनिश्चित कराने...

पंजाब के खनौरी बॉर्डर पर गोलीबारी , दो किसान की मौत !

न्यूज़ डेस्क किसान आंदोलन स्थल से बड़ी खबर आ रही है।पंजाब के खनौरी बॉर्डर से गोलीबारी...

ICC Rankings: यशस्वी जायसवाल का ICC टेस्ट रैंकिंग में भी धमाल, 14 पायदान की लंबी छलांग के साथ अब इस नंबर पर

ICC Rankings:टीम इंडिया के उभरते युवा सलामी बल्लेबाज यशस्वी जायसवाल ने इंग्लैंड के खिलाफ...

RRB Recruitment 2024: रेलवे में टेक्नीशियन के पदों बंपर भर्ती, इस दिन से शुरू होंगे आवेदन

RRB Recruitment 2024: रेलवे भर्ती का इंतजार कर रहे योग्य युवाओं को लिए खुशखबरी...

More like this

लोकसभा चुनाव : सीईसी ने कहा ईवीएम की पारदर्शिता हर कीमत पर बरकरार रखी जाएगी

न्यूज़ डेस्क  मुख्य चुनाव आयुक्त राजीव कुमार ने कहा कि निष्पक्ष लोकसभा चुनाव सुनिश्चित कराने...

पंजाब के खनौरी बॉर्डर पर गोलीबारी , दो किसान की मौत !

न्यूज़ डेस्क किसान आंदोलन स्थल से बड़ी खबर आ रही है।पंजाब के खनौरी बॉर्डर से गोलीबारी...

ICC Rankings: यशस्वी जायसवाल का ICC टेस्ट रैंकिंग में भी धमाल, 14 पायदान की लंबी छलांग के साथ अब इस नंबर पर

ICC Rankings:टीम इंडिया के उभरते युवा सलामी बल्लेबाज यशस्वी जायसवाल ने इंग्लैंड के खिलाफ...