Homeदेशअंतिम चरण के चुनाव में टीएमसी और बीजेपी में कांटे की टक्कर...

अंतिम चरण के चुनाव में टीएमसी और बीजेपी में कांटे की टक्कर ,चार सीटों पर टीएमसी की अग्निपरीक्षा 

Published on

न्यूज़ डेस्क 
अंतिम चरण के चुनाव में आज सबसे ज्यादा टीएमसी की अग्नि परीक्षा है। पिछले चुनाव में इन सीटों पर शिकस्त खा चुकी भाजपा इस बार तृणमूल कांग्रेस को कड़ी टक्कर देने जा रही है। नौ सीटों में से चार सीटें कड़े मुकाबले में फंसती दिख रही हैं जिनमें से तीन सीट पर भाजपा से कड़ा मुकाबला है। दो सीटों पर टीएमसी का किला सुरक्षित माना जा रहा है।

पश्चिम बंगाल की दमदम, बारासात, बशीरहाट, जयनगर, मथुरापुर, डायमंड हार्बर, जादवपुर, कोलकाता दक्षिण और कोलकाता उत्तर लोकसभा सीटों पर आज मतदान होगा। इन सीटों पर महिला मतदाताओं में संदेशखाली का असर दिख रहा है। दोनों प्रमुख दलों के बीच दमदम, बारासात, बशीरहाट और जादवपुर सीटों पर मुकाबला फंस गया लगता है। आखिरी वक्त में मतदाताओं का मिजाज ही हार-जीत तय करेगा।

पहली बार तीन लोकसभा सीटों जयनगर, मथुरापुर और कोलकाता उत्तर में गढ़ बचाने के लिए तृणमूल को पसीना बहाना पड़ रहा है। उधर, डायमंड हार्बर और कोलकाता दक्षिण में स्थिति टीएमसी के लिए ज्यादा सहज दिख रही है। हालांकि कई लोग दावा कर रहे हैं कि कोलकाता दक्षिण से भी परिणाम चौंकाने वाले आ सकते हैं।

मथुरापुर सीट में भाजपा प्रत्याशी अशोक पुरकायथ मैदान में हैं। उनके सामने उन्हीं के नामराशि दो निर्दलीय प्रत्याशी भी ताल ठोक रहे हैं। इनमें एक अशोके पुरकायथ और दूसरे अशोके सरदार हैं। 
उधर, टीएमसी के बापी हलदार के साथ ही उनके नामराशि बापी हलदार भी निर्दलीय चुनाव लड़ रहे हैं। बैलेट लिस्ट के क्रम में एआईएसएफ और भाजपा का नंबर ऊपर-नीचे है। ऐसे में मतदाताओं की गलती से एक के पक्ष का मत दूसरे के खाते में जाने की आशंका बढ़ गई है। इसका सीधा नुकसान भाजपा को उठाना पड़ सकता है।

बारासात, बशीरहाट, जयनगर और मथुरापुर में तृणमूल का खेल बिगाड़ने में एआईएसएफ की भी अहम भूमिका हो सकती है। जयनगर में तो एआईएसएफ के साथ ही एसयूसीआई और माकपा भी तृणमूल कांग्रेस की परेशानी बढ़ा सकते हैं।

सातवें चरण में शामिल बशीरहाट लोकसभा सीट के सात विधानसभा क्षेत्रों में से एक है संदेशखाली, जहां इस साल की शुरुआत में महिलाओं पर अत्याचार और स्थानीय किसानों की जबरन जमीन हड़पने का विवाद सामने आया। आरोपों के बाद हुई जांच ने इस मुद्दे को और गर्मा दिया।

संदेशखाली में महिलाओं पर अत्याचार का मुद्दा बशीरहाट के दूसरे सभी मुद्दों पर हावी है। यहां हुए कांड की गूंज दिल्ली तक पहुंची है, इसी का नतीजा था कि मुखर होकर प्रदर्शन करने वाली स्थानीय महिला रेखा पात्रा को भाजपा ने अपना उम्मीदवार बनाया। बशीरहाट लोकसभा सीट यों तो कुल 15 उम्मीदवार मैदान में हैं, पर मुख्य मुकाबला भाजपा और टीएमसी के बीच ही है।

Latest articles

क्या अध्यक्ष पद के बहाने टीडीपी और जेडीयू को भड़काकर कांग्रेस गिरा देगी मोदी सरकार

18वीं लोकसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी को भले ही बहुमत से 32 सीटें...

संजय राउत: एनडीए का स्पीकर नहीं बना तो जदयू और टीडीपी को तोड़ देगी बीजेपी !

न्यूज़ डेस्क मोदी की तीसरी बार सरकार तो बन गई लेकिन लोकसभा में स्पीकर को...

गंगा दशहरा के दिन पटना के बाढ़ में पलटी नाव, लापता लोगों को खोज रही एसडीआरएफ की टीम

बिहार में अक्सर हर पर्व के अवसर पर कहीं न कहीं नदी में लोगों...

बनारस में गंगा दशहरा के अवसर पर हजारो लोगों ने लगाई आस्था की डुबकी !

न्यूज़ डेस्क कशी के पवित्र घाट पर गंगा दशहरा के अवसर पर आज हजारों लोगों...

More like this

क्या अध्यक्ष पद के बहाने टीडीपी और जेडीयू को भड़काकर कांग्रेस गिरा देगी मोदी सरकार

18वीं लोकसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी को भले ही बहुमत से 32 सीटें...

संजय राउत: एनडीए का स्पीकर नहीं बना तो जदयू और टीडीपी को तोड़ देगी बीजेपी !

न्यूज़ डेस्क मोदी की तीसरी बार सरकार तो बन गई लेकिन लोकसभा में स्पीकर को...

गंगा दशहरा के दिन पटना के बाढ़ में पलटी नाव, लापता लोगों को खोज रही एसडीआरएफ की टीम

बिहार में अक्सर हर पर्व के अवसर पर कहीं न कहीं नदी में लोगों...