Homeदुनियाचीन ने अमेरिकी कंपनी एप्पल को दिया बड़ा झटका ,लगाया प्रतिबन्ध ,...

चीन ने अमेरिकी कंपनी एप्पल को दिया बड़ा झटका ,लगाया प्रतिबन्ध , दो दिन में बीस हजार करोड़ का नुकसान !

Published on


न्यूज़ डेस्क 

इधर भारत में अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन जी 20 की बैठक में हिस्सा ले रहे हैं और भारत के कई डिफेंस डील कर रहे हैं और उधर चीन ने मोबाइल बनाने वाली अमेरिकी कंपनी को बड़ा झटका देते हुए उस पर प्रतिबन्ध  .अप्पाल का चीन में बड़ा बाजार है। चीन के अधिकतर कर्मचारी अप्पाल मोबाइल का ही इस्तेमाल करते रहे हैं। लेकिन अब चीन ने अपने कर्मचारियों को यह फ़ोन रखने से मन कर दिया है। चीन के इस खेल से एप्पल को बड़ा झटका लगा है और मात्र दो दिनों में इसे 20 हजार करोड़ का नुकसान हो गया है। एप्पल का शेयर बाजार लगातार गोते खा रहा है।                
      दरअसल चीन ने आईफोन के इस्तेमाल को रेगुलेट करने का निर्णय लिया है। इसके तहत आईफोन के इस्तेमाल पर पाबंदियां लगाई गई हैं। चीन ने अपने सरकारी अधिकारियों को एप्पल आईफोन का इस्तेमाल करने से मना किया है। खबरों की मानें तो चीन की योजना एप्पल के आईफोन पर लगाई गई पाबंदियों को और कड़ा करने की है। चीन की सरकार अपनी कंपनियों के कर्मचारियों को भी आईफोन के इस्तेमाल से प्रतिबंधित करना चाह रही है। 
                    एप्पल का शेयर अभी 178 डॉलर के आस-पास आया हुआ है। पिछले कुछ दिनों में एप्पल के शेयरों में 6 फीसदी से ज्यादा की गिरावट आई है। यह अभी अपने ऑल टाइम हाई लेवल से काफी नीचे कारोबार कर रहा है।  एप्पल के शेयर का ऑल टाइम हाई लेवल 198.23 डॉलर है। शेयरों में आई इस गिरावट का नुकसान एप्पल को एमकैप के रूप में हुआ है। 2 दिन पहले तक एप्पल 3 ट्रिलियन डॉलर यानी 3 लाख करोड़ डॉलर से ज्यादा वैल्यू वाली कंपनी थी।  अभी कंपनी का एमकैप कम होकर 2.79 लाख करोड़ रुपये रह गया है। इस तरह से देखें तो कंपनी ने सिर्फ 2 ही दिन में 20 हजार करोड़ डॉलर से ज्यादा का नुकसान उठाया है। 
                चीन के इस कदम ने एप्पल के शेयरों पर सीधा असर डाला है। यह असर अस्वाभाविक भी नहीं है. दरअसल एप्पल के लिए चीन कई मायनों में बहुत महत्वपूर्ण है। चीन एप्पल के लिए अमेरिका के बाद दूसरा सबसे बड़ा बाजार और सबसे बड़ा विदेशी बाजार है। एप्पल खासकर आईफोन की ग्रोथ में चीन की खपत का बहुत बड़ा योगदान है। 
                दूसरी ओर आईफोन समेत एप्पल के कई प्रोडक्ट की मैन्यूफैक्चरिंग का सबसे बड़ा बेस भी चीन ही है। एप्पल फॉक्सकॉन और उसके जैसी अन्य कॉन्ट्रैक्ट मैन्युफैक्चरिंग फर्म से अपने डिवाइस बनवाती है।  अभी फॉक्सकॉन ही एप्पल की सबसे बड़ी सप्लायर है, जिसका मैन्युफैक्चरिंग बेस लंबे समय से चीन बना हुआ है। एप्पल और उसकी सप्लायर कंपनियां चीन से मैन्युफैक्चरिंग को शिफ्ट करने का प्रयास कर रही हैं। इसमें भारत एक बेहतर विकल्प बनकर उभरा है, लेकिन अभी भी कुल मैन्युफैक्चरिंग में चीन का हिस्सा बहुत बड़ा है। 

Latest articles

मुफ्त की योजनाएं या ‘जीवंत’ जीवन…!

पिछले सप्ताह यानी 14 जुलाई 2024 को मैंने इसी 'प्रहार' कॉलम में ये -...

महबूबा मुफ़्ती ने क्यों कहा कि बीजेपी सरकार उड़ा रही है संविधान की धज्जियां ?

न्यूज़ डेस्क यूपी की योगी सरकार की तरफ से जैसे ही कावड़ यात्रा के...

जम्मू कश्मीर में पांच सौ पैरा कमांडो तैनात ,पाक आतंकियों का अब होगा खात्मा !

न्यूज़ डेस्क जम्मू कश्मीर में जिस तरह फिर से आतंकवाद सिर उठा रहा है...

बांग्लादेश की हालत ख़राब ,अब तक 900 भारतीय लौटे भारत

न्यूज़ डेस्क बांग्लादेश में लगातार हो रही हिंसा के बीच पूरे देश में कर्फ्यू लगा...

More like this

मुफ्त की योजनाएं या ‘जीवंत’ जीवन…!

पिछले सप्ताह यानी 14 जुलाई 2024 को मैंने इसी 'प्रहार' कॉलम में ये -...

महबूबा मुफ़्ती ने क्यों कहा कि बीजेपी सरकार उड़ा रही है संविधान की धज्जियां ?

न्यूज़ डेस्क यूपी की योगी सरकार की तरफ से जैसे ही कावड़ यात्रा के...

जम्मू कश्मीर में पांच सौ पैरा कमांडो तैनात ,पाक आतंकियों का अब होगा खात्मा !

न्यूज़ डेस्क जम्मू कश्मीर में जिस तरह फिर से आतंकवाद सिर उठा रहा है...