Homeदेशमहागठबंधन छोड़ एनडीए खेमे से मुख्यमंत्री बने नीतीश , आरजेडी छोड़ कांग्रेस...

महागठबंधन छोड़ एनडीए खेमे से मुख्यमंत्री बने नीतीश , आरजेडी छोड़ कांग्रेस पर हैं हमलावर

Published on

बिहार में हाल में तेजी से घटे राजनीतिक घटनाक्रम में नीतीश कुमार ने महागठबंधन का साथ छोड़ कर एनडीए का हाथ थामा और फिर बिहार के 9 वें मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ग्रहण किया। इस बार एक दिलचस्प बात यह देखने में आ रही है की पिछले बार की तरह महागठबंधन को छोड़कर एनडीए खेमे में जाने को लेकर नीतीश कुमार इस बार आरजेडी पर ज्यादा हमलावर नहीं है और वह इसके लिए कांग्रेस पर लगातार हमला कर रहे हैं। आरजेडी के नेतृत्व वाले महागठबंधन को लेकर वे सिर्फ इतना ही कह रहे हैं कि वहां रहकर उनके लिए काम करना सहज नहीं था, जबकि जबकि में कांग्रेस को बार-बार इस बात के लिए दोषी बता रहे हैं की कांग्रेस की लापरवाही वाली नीति की वजह से उन्हें एनडीए खेमे में जाना पड़ा।

आरजेडी पर ज्यादा मुखर क्यों नहीं हैं नीतीश कुमार

नीतीश कुमार के महागठबंधन छोड़कर एनडीए में जाने के पीछे की एक बड़ी वजह या मानी जा रही थी कि उन पर लालू प्रसाद और राजद के अन्य नेताओं के द्वारा बिहार के मुख्यमंत्री की कुर्सी को तेजस्वी यादव को सौंपने के लिए जबरदस्त दबाव पड़ रहा था। ऐसे में उन्होंने अपने मुख्यमंत्री की कुर्सी सुरक्षित रहने के लिए एक बार फिर से एनडीए से हाथ मिला लिया और बिहार के मुख्यमंत्री बन गए। अब उनकी मुख्यमंत्री की कुर्सी कम से कम 2025 में होने वाले अगले विधानसभा चुनाव तक सुरक्षित है, लेकिन इसके बावजूद वे इस बार आरजेडी पर पिछली बार की तरह गंभीर आरोप नहीं लगा रहे हैं। दरअसल इसके पीछे का एक बड़ा कारण यह है कि इससे आगामी चुनाव में नीतीश कुमार और एनडीए दोनों को खतरा हो सकता है, क्योंकि आरजेडी की विफलता को दिखाने के लिए जंगलराज , भ्रष्टाचार जैसे जो उदहारण देंगे वह उनके ही प्रतिकूल चले जाएंगे क्योंकि गृह मंत्रालय समेत कई मुख्य विभाग तत्कालीन सरकार में खुद इनके ही पास था।

कांग्रेस पर हमलावर हैं नीतीश

इस बार एनडीए खेमा से मुख्यमंत्री बनने के बाद नीतीश कुमार मुख्य रूप से कांग्रेस पर ज्यादा हमलावर बने हुए हैं।इसके पीछे सबसे बड़ी वजह यह है कि एक तो ऐसा करने से इनके ऊपर उस इंडिया गठबंधन को बीच मझधार में छोड़ने जैसा बड़ा आरोप नहीं लगेगा, जिसका गठन इन्होंने ही पटना में किया था। कांग्रेस पर लापरवाही करने का आरोप लगाकर ये अपने ऊपर लगने वाले संभावित आरोप को कांग्रेस पर शिफ्ट कर देंगे। वहीं दूसरी तरफ इंडिया गठबंधन की विफलता के लिए को कांग्रेस को जिम्मेवार ठहराकर आगामी लोकसभा चुनाव में एनडीए का हाथ भी मजबूत कर सकेंगे।

राहुल की बातों से भड़क गए थे नीतीश कुमार

सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार नीतीश कुमार ने महागठबंधन और इंडिया एलायंस से नाता तोड़ने का मन 13 जनवरी को ही बना लिया था, जब इंडिया एलायंस को लेकर की गई वर्चुअल मीटिंग में ये राहुल गांधी की कही बातों से भड़क गए थे। माना जाता है कि इस बैठक में राहुल गांधी ने कथित तौर पर कहा था कि विपक्षी ब्लॉक के संयोजक के रूप में नियुक्ति की घोषणा के लिए नीतीश कुमार को अभी थोड़ा और इंतजार करना होगा। दरअसल राहुल गांधी चाहते थे संयोजित पद पर नीतीश कुमार के नाम की घोषणा से पहले टीएमसी प्रमुख ममता बनर्जी की मंजूरी ले ली जाए जो उस वर्चुअल मीटिंग में मौजूद नहीं थीं।सूत्रों का कहना है इसके बाद नीतीश कुमार राहुल गांधी की कही इस बात से काफी नाराज हो गए थे। राहुल गांधी की यह टिप्पणी नीतीश कुमार को काफी अपमानजनक लगी थी और तभी उन्होंने इंडिया एलायंस से नाता तोड़ने का मन बना लिया था। हालांकि इसी मीटिंग में कुछ देर बाद ही सदस्यों ने संयोजक के तौर पर नीतीश कुमार का नाम लिया था लेकिन राहुल गांधी की बातों से आहत नीतीश कुमार ने यह पद अस्वीकार कर दिया था।यहां तक कि वे इस मीटिंग की समाप्ति से 10 मिनट पहले ही इस कार्यक्रम से क्विट कर गए थे।

Latest articles

लोकसभा चुनाव : सीईसी ने कहा ईवीएम की पारदर्शिता हर कीमत पर बरकरार रखी जाएगी

न्यूज़ डेस्क  मुख्य चुनाव आयुक्त राजीव कुमार ने कहा कि निष्पक्ष लोकसभा चुनाव सुनिश्चित कराने...

पंजाब के खनौरी बॉर्डर पर गोलीबारी , दो किसान की मौत !

न्यूज़ डेस्क किसान आंदोलन स्थल से बड़ी खबर आ रही है।पंजाब के खनौरी बॉर्डर से गोलीबारी...

ICC Rankings: यशस्वी जायसवाल का ICC टेस्ट रैंकिंग में भी धमाल, 14 पायदान की लंबी छलांग के साथ अब इस नंबर पर

ICC Rankings:टीम इंडिया के उभरते युवा सलामी बल्लेबाज यशस्वी जायसवाल ने इंग्लैंड के खिलाफ...

RRB Recruitment 2024: रेलवे में टेक्नीशियन के पदों बंपर भर्ती, इस दिन से शुरू होंगे आवेदन

RRB Recruitment 2024: रेलवे भर्ती का इंतजार कर रहे योग्य युवाओं को लिए खुशखबरी...

More like this

लोकसभा चुनाव : सीईसी ने कहा ईवीएम की पारदर्शिता हर कीमत पर बरकरार रखी जाएगी

न्यूज़ डेस्क  मुख्य चुनाव आयुक्त राजीव कुमार ने कहा कि निष्पक्ष लोकसभा चुनाव सुनिश्चित कराने...

पंजाब के खनौरी बॉर्डर पर गोलीबारी , दो किसान की मौत !

न्यूज़ डेस्क किसान आंदोलन स्थल से बड़ी खबर आ रही है।पंजाब के खनौरी बॉर्डर से गोलीबारी...

ICC Rankings: यशस्वी जायसवाल का ICC टेस्ट रैंकिंग में भी धमाल, 14 पायदान की लंबी छलांग के साथ अब इस नंबर पर

ICC Rankings:टीम इंडिया के उभरते युवा सलामी बल्लेबाज यशस्वी जायसवाल ने इंग्लैंड के खिलाफ...