Homeदुनियाजानिए अफ़्रीकी देश गैबॉन में कैसे हो गया तख्तापलट !

जानिए अफ़्रीकी देश गैबॉन में कैसे हो गया तख्तापलट !

Published on


न्यूज़ डेस्क 

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक अफ़्रीकी देश गैबॉन के राष्ट्रपति अली बोंगों ऑडिम्बा को चुनाव में विजेता घोषित किये जाने के तुरंत बाद ही उन्हें नजर बंद कर तख्तापलट की घोषणा कर दी गई। सैन्य अधिकारियों ने बुधवार को घोषणा की कि उन्होंने राष्ट्रपति अली बोंगो ओंडिम्बा से सत्ता छीन ली है। राष्ट्रीय टेलीविजन पर सेना की वर्दी में कई लोग नजर आए और उन्होंने एलान किया कि राष्ट्रपति को नजरबंद कर दिया गया है। सैन्य कार्रवाई के बाद राजधानी लिब्रेविले में सड़कों पक जश्न मनाया जा रहा है। गोलीबारी की खबरें भी आ रही हैं। हालांकि, अंतरराष्ट्रीय समुदाय ने इस कार्रवाई की निंदा की है। इससे पहले अफ्रीकी देश नाइजर में इसी तरह का तख्तापलट देखने को मिला था।                       
                बुधवार को सरकारी टीवी पर जुंटा के एक प्रवक्ता ने कहा,’राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय समुदाय के ध्यान में लाया गया है कि अली बोंगो ओंडिम्बा को नजरबंद रखा गया है। प्रवक्ता ने आगे कहा कि अपदस्थ राष्ट्रपति अपने ‘परिवार और डॉक्टरों’ से घिरे हुए हैं। गैबॉन में रक्षा और सुरक्षा बलों का प्रतिनिधित्व करने का दावा करने वाले अधिकारियों ने समाचार चैनल गैबॉन 24 पर एक टेलीविजन संबोधन में यह एलान किया   

              एक सैन्य अधिकारी ने कहा, गैबॉनी लोगों और संस्थानों के संरक्षण के गारंटर की ओर से सीटीआरआई (संस्थानों के संक्रमण और बहाली के लिए समिति) ने शासन को समाप्त करके शांति बनाए रखने का फैसला किया है। सैन्य अधिकारी ने एक प्रसारण में कहा कि चुनाव परिणाम शून्य हो जाएंगे और देश की सीमा को बंद कर दिया जाएगा। अधिकारी ने कहा, गणतंत्र के सभी संस्थानों (विशेष रूप से सरकार, सीनेट, नेशनल असेंबली, संवैधानिक न्यायालय, आर्थिक और सामाजिक और पर्यावरण परिषद, और गैबॉन की चुनाव परिषद) को भंग कर दिया गया है।
                   खबरों के मुताबिक, फ्रांसीसी सरकार के प्रवक्ता ओलिवियर वेरन ने बुधवार को कहा कि फ्रांस ने गैबॉन में चल रहे सैन्य तख्तापलट की निंदा की है। उन्होंने आगे कहा कि फ्रांस जमीन पर बदलते घटनाक्रम पर करीब से नजर रख रहा है। उन्होंने कहा कि फ्रांस चाहता है कि चुनाव के परिणाम जब सामने आ जाएं तो उनका सम्मान किया जाना चाहिए।
                 इस हफ्ते के चुनाव में अली बोंगो के अलावा 18 उम्मीदवार दौड़ में थे, जिनमें से छह ने इस दौड़ को कम करने के प्रयास में पूर्व मंत्री और विश्वविद्यालय के प्रोफेसर ओंडो ओसा का समर्थन किया। विपक्ष में कई लोग गैबॉन में बदलाव के लिए जोर दे रहे थे। शनिवार को हुए मतदान के बाद अशांति की आशंकाओं के बीच तनाव बढ़ रहा था। अंतरराष्ट्रीय पर्यवेक्षकों ने पारदर्शिता की कमी के बारे में बात की है।

Latest articles

नीट पेपर लीक मामला : बिहार ,गुजरात के बाद अब इस मामले में महाराष्ट्र का कनेक्शन भी आया सामने 

न्यूज़ डेस्क नीट परीक्षा में पहली हुई धांधली की कहानी हालांकि कोई नयी नहीं है...

बिहार में सप्ताह भर के भीतर तीसरा पुल हुआ जमींदोज ,पूर्वी चम्पारण का निर्माणाधीन पुल हुआ ध्वस्त 

न्यूज़ डेस्क बिहार में लगातार पुलों का गिरना जारी है। सप्ताह भर के भीतर तीसरा...

अयोध्या के श्री राम मंदिर में सारे दर्शनार्थी होंगे एक समान,अब कोई दर्शनार्थी नहीं होगा वीआईपी 

न्यूज़ डेस्क अयोध्या के श्री राम मंदिर की व्यवस्था में तीन अहम बदलाव किये गए...

AFG vs AUS: अफगानिस्तान ने T20 वर्ल्डकप में किया बड़ा उलटफेर,ऑस्ट्रेलिया को सुपर 8 में दी करारी मात

न्यूज डेस्क टी20 वर्ल्डकप में अफगानिस्तान की टीम ने इतिहास रच दिया है। राशिद खान...

More like this

नीट पेपर लीक मामला : बिहार ,गुजरात के बाद अब इस मामले में महाराष्ट्र का कनेक्शन भी आया सामने 

न्यूज़ डेस्क नीट परीक्षा में पहली हुई धांधली की कहानी हालांकि कोई नयी नहीं है...

बिहार में सप्ताह भर के भीतर तीसरा पुल हुआ जमींदोज ,पूर्वी चम्पारण का निर्माणाधीन पुल हुआ ध्वस्त 

न्यूज़ डेस्क बिहार में लगातार पुलों का गिरना जारी है। सप्ताह भर के भीतर तीसरा...

अयोध्या के श्री राम मंदिर में सारे दर्शनार्थी होंगे एक समान,अब कोई दर्शनार्थी नहीं होगा वीआईपी 

न्यूज़ डेस्क अयोध्या के श्री राम मंदिर की व्यवस्था में तीन अहम बदलाव किये गए...