Homeदेशसाल 2023 में दुनिया भर में 120 पत्रकारों की मौत !

साल 2023 में दुनिया भर में 120 पत्रकारों की मौत !

Published on

न्यूज़ डेस्क
 साल 2023 में दुनिया भर में 120 पत्रकारों  चली गई। इनमे से 68 फीसदी पत्रकार सिर्फ गाज़ा  में मारे गए हैं। ये जानकारी इंटरनेशनल फेडरेशन ऑफ़ जर्नलिस्ट ने दी है। आईएफजे की रविवार को जारी एक विज्ञप्ति के मुताबिक वर्ष 2023 में 11 महिलाओं सहित एक सौ बीस पत्रकार और मीडियाकर्मी मारे गए हैं।आईएफजे ने आठ दिसंबर को संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार दिवस से पहले मारे गए पत्रकारों की प्रारंभिक सूची प्रकाशित की थी जिसमें 94 हत्याओं का दस्तावेजीकरण किया गया था। आईएफजे का कहना है कि नवीनतम वृद्धि गाजा युद्ध में अतिरिक्त मौतों के साथ-साथ महासंघ को अन्य हत्याओं के बारे में बताए जाने का परिणाम है।

आईएफजे के महासचिव एंथनी बेलांगर ने कहा,आज हमारी संवेदनाएं पत्रकारों के परिवारों और विश्व समाचार कक्षों में हमारे सहयोगियों के साथ हैं जो केवल अपना काम करने के कारण मारे गए सहकर्मियों की मौत पर शोक मना रहे हैं। हम हमेशा पत्रकारों को याद दिलाते हैं कि कोई भी कहानी उनके जीवन के लायक नहीं है, ऐसी कई स्थितियां हैं जहां उन्हें जानबूझकर कहानियों को कवर करने और जनता के जानने के अधिकार को प्रतिबंधित करने के लिए लक्षित किया जाता है। 

 एंथनी बेलांगर ने आगे कहा कि विधिवत सूचित होना नागरिकों का लोकतांत्रिक अधिकार है। यह सुनिश्चित करना सरकारों की ज़िम्मेदारी है कि पत्रकारों को स्वतंत्र रूप से रिपोर्ट करने के लिए सुरक्षा प्रदान की जाए। इस साल के घातक आंकड़े बताते हैं कि हमें पत्रकारों की सुरक्षा और स्वतंत्रता की रक्षा के लिए राज्यों को प्रमुख तंत्र अपनाने के लिए मजबूर करने वाले एक अंतरराष्ट्रीय बाध्यकारी उपकरण की कितनी सख्त जरूरत है।

फेडरेशन के रिकॉर्ड के मुताबिक, इस साल दुनिया भर में मारे गए पत्रकारों और मीडियाकर्मियों में से 68 प्रतिशत गाजा संघर्ष में मारे गए हैं। गाजा में युद्ध के परिणामस्वरूप 75 फिलिस्तीनी, चार इजरायली व तीन लेबनानी पत्रकार मारे गए जबकि सीरिया में तीन मीडियाकर्मी मारे गए।

एशिया-प्रशांत क्षेत्र में, 12 पत्रकार मारे गए हैं, जिसमें भारत (3), अफगानिस्तान (2), फिलीपींस (2), बांग्लादेश (2), पाकिस्तान (2) और चीन (1) में एक मीडियाकर्मी शामिल हैं।उत्तर और दक्षिण अमेरिका में 2023 में दस पत्रकार मारे गए जिसमें तीन मैक्सिकन, एक परागुआयन, तीन ग्वाटेमाला, एक कोलंबियाई, एक होंडुरास और एक अमेरिकी शामिल हैं।अफ्रीका में कैमरून (2), सूडान (1), लेसोथो (1), माली (1), सोमालिया (1), मोजाम्बिक (1), नाइजीरिया (1) तथा रवांडा में एक यानी कुल आठ पत्रकारों की हत्याओं की आईएफजे निंदा करता है जिनकी पूरी तरह से जांच नहीं हो पाई है।

यूरोप में, तीन पत्रकार और मीडियाकर्मी – यूक्रेनी (1), रूसी (1) और फ्रांसीसी (1) – यूक्रेनी युद्ध में मारे गए हैं जबकि अल्बानिया में एक मीडियाकर्मी मारे गए हैं।आईएफजे विश्व भर के सरकारों से पत्रकारों की सुरक्षा और स्वतंत्रता की रक्षा के लिए एक अंतरराष्ट्रीय बाध्यकारी कन्वेंशन को तेजी से अपनाने का आह्वान करता है।

Latest articles

मरियम नवाज बनी पाकिस्तान पंजाब प्रान्त की पहली महिला मुख्यमंत्री 

न्यूज़ डेस्क पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री  नवाज शरीफ की बेटी मरयम नवाज पाकिस्तान के पंजाब...

तमिलनाडु के दो दिवसीय दौरे पर पीएम मोदी , इसरो के दूसरे स्पेसपोर्ट की रखेंगे आधारशिला

न्यूज़ डेस्क पीएम मोदी मंगलवार से तमिलनाडु के दो दिवसीय दौरे पर रहेंगे। जानकारी के...

झारखंड में कांग्रेस को  बड़ा झटका ,सांसद गीता कोड़ा बीजेपी में हुई शामिल 

न्यूज़ डेस्क झारखंड में आज कांग्रेस को बड़ा झटका लगा है। कांग्रेस की सांसद गीता...

आखिर जयंत चौधरी ने क्यों कहा कि अभी एनडीए में शामिल होने की औपचारिक घोषणा नहीं !

न्यूज़ डेस्क रालोद अध्यक्ष जयंत चौधरी क बयान आया है कि अभी एनडीए के...

More like this

मरियम नवाज बनी पाकिस्तान पंजाब प्रान्त की पहली महिला मुख्यमंत्री 

न्यूज़ डेस्क पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री  नवाज शरीफ की बेटी मरयम नवाज पाकिस्तान के पंजाब...

तमिलनाडु के दो दिवसीय दौरे पर पीएम मोदी , इसरो के दूसरे स्पेसपोर्ट की रखेंगे आधारशिला

न्यूज़ डेस्क पीएम मोदी मंगलवार से तमिलनाडु के दो दिवसीय दौरे पर रहेंगे। जानकारी के...

झारखंड में कांग्रेस को  बड़ा झटका ,सांसद गीता कोड़ा बीजेपी में हुई शामिल 

न्यूज़ डेस्क झारखंड में आज कांग्रेस को बड़ा झटका लगा है। कांग्रेस की सांसद गीता...