Homeप्रहारदेश की प्रगति की ओर या...

देश की प्रगति की ओर या…

Published on

प्रकाश पोहरे (प्रधान संपादक- मराठी दैनिक देशोन्नति, हिंदी दैनिक राष्ट्रप्रकाश, साप्ताहिक कृषकोन्नति)

2024 के लोकसभा चुनाव से पहले श्रीराममूर्ति की प्राणप्रतिष्ठा का कार्यक्रम एक तरह से आपात स्थिति में अयोध्या में आयोजित किया गया था। इस मौके पर पूरे देश में रामभक्ति का माहौल बनाने की कोशिश की गई। प्राणप्रतिष्ठा के धार्मिक कार्यक्रम का समापन खुद देश के प्रधानमंत्री ने किया। लोगों को ऐसा महसूस कराने की कोशिश की गई, जैसे देश के सामने यही एकमात्र कार्यक्रम है।

दूसरी बात संविधान के अनुच्छेद 370 के बारे में है। भाजपा सरकार इसे हटाकर कश्मीर और लद्दाख को अलग कर केंद्रशासित दर्जा देने में जरूर सफल रही है। इसमें कोई संदेह नहीं कि भाजपा की इस सफलता ने लोगों के बीच एक विशेष प्रभाव पैदा किया। इससे लोगों के बीच ‘मोदी हैं तो मुमकिन हैं’ की भावना को मजबूत करने में मदद मिली। देखा गया कि यह सब हासिल करने के लिए भाजपा सरकार की कानूनी टीम पूरी ताकत से सक्रिय है।

भले ही उच्च वर्ग के गरीब लोगों की ओर से आरक्षण की कोई मजबूत मांग नहीं थी, लेकिन भाजपा सरकार ने संविधान में संशोधन करके उन्हें यह आरक्षण देने में उत्साह दिखाया। इतना ही नहीं, इस फैसले को सुप्रीम कोर्ट ने भी संवैधानिक रूप से वैध करार दिया था। इस प्रावधान की एक महत्वपूर्ण विशेषता यह है कि इस आरक्षण में आरक्षित वर्ग के गरीब लोग शामिल नहीं हैं। इसका मतलब यह है कि यह स्पष्ट है कि इस आरक्षण को लागू करने के लिए किस वर्ग के हितों को आगे रखा गया था।

एक और महत्वपूर्ण बात यह है कि चूंकि यह आरक्षण प्रकृति में ‘ऊर्ध्वाधर’ है, इसलिए इस आरक्षण के कारण आरक्षण की 50 प्रतिशत सीमा पार हो गई है। हालाँकि, अदालत ने इस संवैधानिक संशोधन को वैध घोषित कर दिया, यह विशेष है। फिर भी सुप्रीम कोर्ट आरक्षण की 50 फीसदी सीमा बरकरार रखने पर जोर दे रहा है।

इसके अलावा भी मोदी ने कई योजनाओं को जोर-शोर से लागू किया है। इसमें ‘स्वच्छ भारत’, ‘जन धन योजना’, ‘मेक इन इंडिया’, ‘उज्वला योजना’, ‘गरीब कल्याण योजना’ जैसी कई योजनाएं शामिल हैं। लेकिन इस बात पर भी विचार करना जरूरी है कि जिन उद्देश्यों के लिए ये योजनाएं लागू की गई हैं, क्या वे हासिल हो पाए हैं? इस बात पर विचार किया जाना चाहिए कि क्या ‘मेक इन इंडिया’, ‘स्टार्टअप इंडिया’ के कारण देश की जीडीपी में विनिर्माण क्षेत्र की हिस्सेदारी बढ़ी है? आंकड़ों का अध्ययन करें, तो पता चलता है कि इस योजना से कोई खास फायदा नहीं हुआ है।

वर्ष 2013-14 में जीडीपी में विनिर्माण क्षेत्र की हिस्सेदारी 14.9 फीसदी थी। 2024 में यह हिस्सेदारी 10 फीसदी से भी नीचे चली गई। यही वह समय है जब बेरोजगारी की वृद्धि दर सबसे अधिक है। सीएमआईई (सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकोनॉमी) के आंकड़ों के मुताबिक, 2014 में बेरोजगारी वृद्धि दर 5.44 फीसदी थी। वित्त वर्ष 2023-24 तक यह दर 9.3 फीसदी तक पहुंच गई है। सरकार की उपरोक्त योजनाओं से उद्योग बढ़ता तो रोजगार में भी बढ़ोतरी होती। हमने यह भी देखा है कि सरकार की इन योजनाओं के कारण आयात और निर्यात के बीच घाटा कम नहीं हुआ है।

उज्ज्वला योजना के तहत गैस कनेक्शन तो दिया गया, लेकिन सिलेंडर के दाम आम आदमी की पहुंच से दूर रखे गये। इसलिए स्वाभाविक है कि ‘उज्वला योजना’ सफल नहीं होगी।

मोदी सरकार ने सबसे पहले भूमि अधिग्रहण कानून पारित कराने की कोशिश की। बीजेपी सरकार इस कानून के जरिए उद्योगों के लिए जमीन अधिग्रहण को आसान बनाने की कोशिश कर रही थी। लेकिन इस कानून का पुरजोर विरोध किया गया, क्योंकि यह किसानों के भूमि स्वामित्व अधिकार पर अतिक्रमण करता था। इसलिए भाजपा सरकार के लिए इस कानून को पारित कराना संभव नहीं था। लेकिन इस बिल से भाजपा सरकार का उद्योगपतियों की मदद करने का उद्देश्य स्पष्ट है।

तीन कृषि कानूनों को पारित कराने की एक और जोरदार कोशिश की गई। कहा गया कि इन कानूनों को बनाने के पीछे का मकसद किसानों के हितों को हासिल करना है। लेकिन सरकार को उन लोगों से चर्चा करने की जरूरत महसूस नहीं हुई, जिनके फायदे के लिए ये कानून बनाए जाने थे। इसलिए किसानों ने इस कानून का मरते दम तक विरोध किया। सरकार न केवल किसानों से बातचीत कर उनकी शंकाओं को दूर करने में सफल नहीं हुई, बल्कि इस संघर्ष में सरकार ने सैकड़ों किसानों की जान ले ली। यह साबित हो गया है कि एक केंद्रीय मंत्री के बेटे ने अपनी कार से किसानों को कुचल दिया, इसलिए ये तीनों कानून काले ही थे।

यदि ये कानून पारित हो जाते तो यह धारणा बनती कि पहले कुछ वर्षों तक तो किसान को अपना माल बेचने की आजादी मिल गई, लेकिन उसके बाद उनकी यह आजादी गुलामी में तब्दील हो सकती थी। क्योंकि सामान की कीमत तय करने का पूरा अधिकार धीरे-धीरे उद्योगपतियों के पास चला जाएगा। क्योंकि जिसका बाजार और स्टॉक पर नियंत्रण है, स्वाभाविक रूप से उसे कीमत निर्धारित करने का अधिकार है। यह भारतीय कृषि की वास्तविकता है कि किसान सक्षम नहीं है और उसमें उपज को रोककर रखने की क्षमता नहीं है। ऐसी स्थिति में, इस बात की बहुत अधिक संभावना थी कि कृषि अधिनियम के परिणाम किसानों के लिए लाभकारी नहीं होंगे, इसलिए पंजाब के उग्रवादी किसानों ने सरकार की अत्याचारी और क्रूर मनमर्जी के सामने आत्मसमर्पण नहीं किया।

तीसरी कोशिश थी ‘एनआरसी’ और ‘सीएए’ लागू करना। जब मोदी सरकार को पता चला कि ‘एनआरसी’ लागू करते समय यह योजना उसके दायरे में आ जाएगी, तो उसने इस योजना को निलंबित कर दिया। सीएए का देश के बुद्धिजीवियों ने कड़ा विरोध किया था। संविधान विशेषज्ञों की राय है कि उक्त कानून भारतीय धर्मनिरपेक्षता के सिद्धांत के खिलाफ हैं। एक आम आदमी को भी यह अहसास होगा कि धर्म के आधार पर नागरिकता देने का विचार किसी भी सूरत में धर्मनिरपेक्षता के अनुकूल नहीं हो सकता।

‘समान नागरिक संहिता’ बीजेपी सरकार के एजेंडे में एक और बड़ा मुद्दा बना हुआ है। संवैधानिक दिशानिर्देशों में भारत में ‘समान नागरिक कानून’ पारित करने का उल्लेख है, लेकिन इस विषय पर मतभेद के कारण इस सिद्धांत का कार्यान्वयन संभव नहीं हो सका है। प्रत्येक जाति और धर्म के साथ-साथ आदिवासी समाज में विवाह, विरासत, तलाक आदि उनके रीति-रिवाजों, परंपराओं, रीति-रिवाजों और सांस्कृतिक-धार्मिक विचारों पर आधारित होते हैं। इसलिए ये समाज अपने रीति-रिवाजों, परंपराओं, धार्मिक रीति-रिवाजों को छोड़ने के लिए तैयार नहीं हैं। भाजपा सरकार ने देखा है कि देश में आदिवासियों की भूमिका अधिक आक्रामक और आग्रहपूर्ण है। इसलिए, ऐसा प्रतीत होता है कि उन्होंने आदिवासियों को इस अधिनियम से बाहर करने के लिए अपने रुख की घोषणा कर दी है। फिर यह स्पष्ट है कि इस अधिनियम के अनुसार मुख्य रूप से मुसलमानों को निशाना बनाकर हिंदू-मुस्लिम मतों का ध्रुवीकरण करने का प्रयास किया गया था। यह देखा जा सकता है कि मोदी सरकार ने इस मुद्दे पर हिंदू जनमत को अपने पक्ष में करने के लिए जबरदस्त प्रयास किए हैं।

उपरोक्त विश्लेषण से हम मोदी सरकार के कुछ गुप्त उद्देश्यों को समझ सकते हैं। भाजपा को सत्ता चाहिए, मानव केन्द्रित विकास नहीं! यदि ऐसा होता, तो उनकी पूरी क्षमता मानव विकास को प्राप्त करने के उद्देश्य से विभिन्न विकास योजनाओं के कार्यान्वयन में लगी होती। उनका मुख्य कार्य ऐसी कई परियोजनाओं की योजना बनाना और उन्हें क्रियान्वित करना रहा होगा। लेकिन इस सरकार के काम की दिशा और विशिष्ट कार्यक्रमों पर जोर हमें बताता है कि इस सरकार का मुख्य उद्देश्य कुछ अलग होना चाहिए।

इससे इनकार करने का कोई मतलब नहीं है कि पूर्व जनसंघ और वर्तमान भाजपा हिंदुत्ववादी आरएसएस की राजनीतिक शाखाएं हैं। ‘आरएसएस’ का संपूर्ण दर्शन गोलवलकर की पुस्तक ‘बंच ऑफ थॉट्स’ में व्यक्त हुआ है. यदि आप भाजपा और उसके लक्ष्यों को समझना चाहते हैं, तो ‘विचारों के समूह’ को समझने का कोई विकल्प नहीं है। आज की भाजपा को इन विचारों और लक्ष्यों को ज्यों का त्यों या खुले तौर पर स्वीकार करना कठिन लगता है। लेकिन यह समझना होगा कि उनकी गुप्त बैठकों में या निजी बातचीत में इन विचारों की कई पुनरावृत्तियों ने अपने विशिष्ट उद्देश्यों को दोहराया।

भाजपा जानती है कि ‘हिन्दूराष्ट्र’ कहने पर हिन्दू जनमानस मुस्लिम घृणा के आधार पर भाजपा के 100 अपराध स्वीकार करने को तैयार हो जाता है। तीन तलाक कानून भले ही मुसलमानों से जुड़ा है, लेकिन हिंदू इसका ज्यादा लुत्फ उठाते हैं। क्योंकि इस कानून के जरिए मोदी सरकार ने मुसलमानों के धर्म पर आधारित और उन्हीं के लिए विशेष पर्सनल लॉ के प्रावधान के खिलाफ हथियार उठा लिया। धारा 370 हटने से हिंदुओं के जीवन में कोई फर्क नहीं पड़ेगा। लेकिन बीजेपी के इस काम पर हिन्दू वर्ग गर्व महसूस किए बिना नहीं रह सकता। क्योंकि उन्हें लगता है कि मोदी सरकार का यह काम कश्मीर में मुसलमानों के विशेषाधिकारों को ख़त्म करने की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है। ये सभी बातें न केवल हिंदुओं को मोदी पर गर्व महसूस कराती हैं, बल्कि यह भावना भी पैदा करती हैं कि बीजेपी हिंदू पहचान की संरक्षक है। भले ही एनआरसी या सीएए हिंदुओं के पक्ष में हो, लेकिन आम हिंदू इस बात से खुश हैं कि मुसलमानों को इससे बाहर रखा जाएगा।

राममूर्ति प्राणप्रतिष्ठा का कार्यक्रम हिंदुओं के लिए गौरव की बात है। लेकिन बाबरी मस्जिद के विध्वंस और राम मंदिर के निर्माण से हिंदुओं को बहुत खुशी हुई। उन्होंने जानबूझकर इस तथ्य को नजरअंदाज कर दिया कि मूल मंदिर विवादित स्थल से लगभग दो किलोमीटर दूर बनाया गया था। हिंदुओं को अपने धर्म, संस्कृति और परंपरा पर गर्व होना स्वाभाविक है। लेकिन बीजेपी सरकार अच्छी तरह से जानती है कि इन बातों का मुस्लिम नफरत से जिक्र होना जरूरी है।

इन सभी तथ्यों पर गौर करने के बाद भी महंगाई, बेरोजगारी, गरीबी जैसी भीषण समस्याओं से जूझने के बाद भी लोगों को मुसलमानों को सबक सिखाने के लिए बीजेपी की जरूरत महसूस होती है। इसके परिणामस्वरूप देश में अब तक की सबसे अधिक आर्थिक असमानता है और देश के 80 करोड़ गरीबों को सरकार से मिलने वाले मुफ्त अनाज पर निर्भर रहना पड़ता है। हमारे देश की सकल घरेलू उत्पाद की वृद्धि दर में उल्लेखनीय वृद्धि हुई और यह दुनिया की पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन गई, लेकिन ‘भूख सूचकांक’ में इसकी स्थिति 125 देशों में से 111 तक गिर गई, जिससे सरकार की पोल खुल गई। 2014 में यही स्थान 76 देशों में 55वां था।

अति-अमीरों के पक्ष में नीतियों के कार्यान्वयन से अति-अमीरों से पार्टी फंड में भारी मात्रा में धन आता है, और उच्च-मध्यम वर्ग को पार्टी के अभियान के लिए नेता और कार्यकर्ता मिलते हैं। किसान सम्मान योजना, मुफ्त खाद्यान्न आपूर्ति जैसे तरीकों से गरीबों को कुछ स्क्रैप फेंककर भी गरीबों का वोट प्राप्त किया जा सकता है।

संक्षेप में, भाजपा की रणनीति गरीबों की आजीविका की समस्याओं का फायदा उठाकर और उनकी धार्मिक भावनाओं को भड़काकर उनके वोट हासिल करना है। ऐसा करने से इन गरीबों के सतत विकास की कठिन जिम्मेदारी से बचा जा सकता है। इन सबके बावजूद यदि चुनाव में अपेक्षित सफलता नहीं मिलती है, तो अन्य दलों के माध्यम से चुने गए उम्मीदवारों को अति अमीरों के पैसे से खरीदने का विकल्प इस्तेमाल किया जा सकता है। साथ ही जांच एजेंसियों को डरा-धमका कर भी यह मकसद हासिल किया जा सकता है।

सामाजिक-आर्थिक-राजनीतिक इतिहास का थोड़ा भी अध्ययन करने वाला कोई भी व्यक्ति आसानी से यह महसूस कर सकता है कि भाजपा का वैदिक और पूंजीवादी मूल्यों पर आधारित ‘हिंदूराष्ट्र’ स्थापित करने का लक्ष्य कभी पूरा नहीं होगा। लेकिन जिन चर्चों का किसी भी प्रकार के अध्ययन से कोई संबंध नहीं है, उन्हें यह तब तक पता चलने की संभावना नहीं है जब तक कि उन्हें पूरी तरह से उखाड़ न फेंका जाए। हालाँकि, देश की प्रगति या… अवनति की दिशा में इस विषय को समझने के लिए ही यह लेख प्रस्तुत किया जा रहा है।

0000000000000000000000000
लेखक : प्रकाश पोहरे

प्रतिक्रिया देने के लिए प्रकाश पोहरे को सीधे 9822593921 पर कॉल करें या इस व्हाट्सएप पर अपनी प्रतिक्रिया भेजें।
कृपया फीडबैक देते समय अपना नाम-पता लिखना न भूलें।

Latest articles

कांग्रेस संगठन में होगा बड़ा उलटफेर, कई राज्यों में प्रदेश अध्यक्ष बदलने की तैयारी

लोकसभा चुनाव में मिली सफलता के बाद अब कांग्रेस पार्टी इस सफलता को और...

अखिलेश यादव ने दिया ‘मॉनसून ऑफर’, बीजेपी ने ऑफर का दिया जवाब

लोकसभा चुनाव में उत्तर प्रदेश में सबसे अधिक सीट जीतने के बाद अब समाजवादी...

यूपी में सियासी हलचल तेज,पीएम मोदी से मिले भूपेंद्र चौधरी,राज्यपाल आनंदीबेन से सीएम योगी ने की मुलाकात

      लोकसभा चुनाव में बीजेपी को यूपी में उम्मीद से काफी कम सीटें मिलने से...

ऐश्वर्या राय संग तलाक की अफवाहों के बीच अभिषेक बच्चन ने सोशल मीडिया पर किया ये काम, उठने लगे सवाल

अनंत अंबानी और राधिका मर्चेंट की शादी में देश और दुनियाभर से कई बड़े...

More like this

कांग्रेस संगठन में होगा बड़ा उलटफेर, कई राज्यों में प्रदेश अध्यक्ष बदलने की तैयारी

लोकसभा चुनाव में मिली सफलता के बाद अब कांग्रेस पार्टी इस सफलता को और...

अखिलेश यादव ने दिया ‘मॉनसून ऑफर’, बीजेपी ने ऑफर का दिया जवाब

लोकसभा चुनाव में उत्तर प्रदेश में सबसे अधिक सीट जीतने के बाद अब समाजवादी...

यूपी में सियासी हलचल तेज,पीएम मोदी से मिले भूपेंद्र चौधरी,राज्यपाल आनंदीबेन से सीएम योगी ने की मुलाकात

      लोकसभा चुनाव में बीजेपी को यूपी में उम्मीद से काफी कम सीटें मिलने से...