Homeप्रहारमानव निर्मित 'हीटर' के कारण ही 'ग्लोबल वार्मिंग'!

मानव निर्मित ‘हीटर’ के कारण ही ‘ग्लोबल वार्मिंग’!

Published on

प्रकाश पोहरे (प्रधान संपादक- मराठी दैनिक देशोन्नति, हिंदी दैनिक राष्ट्रप्रकाश, साप्ताहिक कृषकोन्नति)

 ग्लोबल वार्मिंग का असर अब दिखने लगा है। वैश्विक तापमान में वृद्धि अथवा ग्लोबल वार्मिंग वास्तव में क्या है?

2005 से अंतरराष्ट्रीय मीडिया में यह चर्चा शुरू हो गई थी कि ‘जलवायु परिवर्तन’ के कारण वर्षा की मात्रा और अवधि में भारी बदलाव हो सकता है। हालाँकि ये संभावनाएँ और चेतावनियाँ अंतर्राष्ट्रीय मीडिया में दी गई थीं, लेकिन 2012 की शुरुआत तक ये संभावनाएँ दुनिया भर में साकार होने लगीं। खासकर अगर हम भारत में गर्मी के बारे में सोचें तो 2014 के बाद बुनियादी ढांचे के नाम पर चार लेन, छह लेन की सड़कें बनाई जाने लगीं, चार लेन के सीमेंट राज्य राजमार्ग बनाए गए, समृद्धि राजमार्ग बनाए गए, जिसके लिए अनगिनत पेड़ काट दिए गए। आश्चर्य की बात है कि अंग्रेजों ने भारत में मजबूत पुल, रेलवे और कई अन्य संरचनाएँ बनाईं; लेकिन जंगल नष्ट नहीं हुए। उस समय रेल पटरियां बहुत घने जंगलों के बीच बिछाई जाती थी, लेकिन इस बात का ध्यान रखा जाता था कि पेड़ों को कम से कम काटा जाए। हालाँकि, हाल के दिनों में बुनियादी ढांचे के विकास के नाम पर हजारों साल पुराने पेड़ों को काट दिया गया है।

सार्वजनिक परिवहन की कमी के परिणामस्वरूप, लोगों ने बड़ी संख्या में दोपहिया और चार पहिया वाहन खरीदे और जलवायु परिवर्तन की गति को दोगुना करने के लिए सड़कों का एक विस्तृत नेटवर्क बनाया, वह भी सीमेंट सड़कों के साथ। कुछ स्थानों पर औसतन अधिकतम तापमान में 4 से 6 डिग्री सेल्सियस की वृद्धि हुई है, कुछ स्थानों पर इसमें 2 डिग्री सेल्सियस की वृद्धि हुई है और पृथ्वी के समग्र औसत तापमान में भी 1 डिग्री सेल्सियस की नई ऊंचाई दर्ज की गई है।

दुनिया भर में हाल के राजनीतिक परिवर्तनों से एक नए राजनीतिक गुट का उदय हुआ है, जो सीधे तौर पर ‘ग्लोबल वार्मिंग’ को खारिज करता है और उद्योग और लोगों को जितना चाहें उतना प्रदूषण करने की अनुमति देता है। पर्यावरणीय मुद्दे जल्द ही पीआर कंपनियों की रणनीति का हिस्सा बन गए, जिसने दुनिया को यह विश्वास दिलाना शुरू कर दिया कि पहले की तुलना में दोगुना प्रदूषण फैलाने के बावजूद वे पर्यावरण के प्रति कितने अनुकूल हैं। दरअसल, हाल के दशकों में भारत ने बुनियादी ढांचे की इस चकाचौंध में प्रकृति को नष्ट करना शुरू कर दिया है।

जब जलवायु परिवर्तन का दूसरा बड़ा चरण शुरू हुआ, भले ही वह हमारे सामने था, लेकिन पर्यावरण के प्रति जागरूक कई लोगों के हाथ बंधे हुए थे। कुछ स्थानों पर उन्हें जेल में डाल दिया गया। कहीं आर्थिक रूप से फंसाया गया, तो कहीं सीधे जोड़ा गया। पर्यावरण संबंधी खबरें मुख्यधारा से गायब होने के कारण, लोग इन मुद्दों को भूल गए और कौन निश्चित रूप से कह सकता है कि आज दुनिया ‘ग्लोबल वार्मिंग’ के संकट का सामना कर रही है, फिर भी हम इस समस्या के प्रति अपना दृष्टिकोण बदल रहे हैं!

हममें से अधिकांश लोग किसी न किसी प्रकार के पार्क में गए हैं। अधिकांश बड़े वनस्पति उद्यानों और कृषि महाविद्यालयों के साथ-साथ विश्वविद्यालयों के वनस्पति विज्ञान विभागों में, हमें ग्रीनहाउस या ग्लासहाउस मिलते हैं। इसकी छत हरे शीशे से बनी होती है। इस घर में कई अनोखे पौधे तेजी से उगते हैं। सूर्य की किरणें सीधे प्रवेश के बिना अपनी तीव्रता को कम करके ही ग्रीनहाउस में प्रवेश कर सकती हैं। इसलिए, इस ग्रीनहाउस में हवा गर्म होती है; लेकिन इस गर्म हवा की गर्मी इस ग्लास से बाहर नहीं निकल सकती। इसका लाभ उठाकर ठंडे क्षेत्रों में भी दुर्लभ भूमध्यरेखीय पौधों को उगाना आसान है। आप सोच रहे होंगे कि इस ग्रीनहाउस और ग्लोबल वार्मिंग के बीच क्या संबंध है!

हम कार्बन ईंधन जलाते हैं। पेट्रोल और डीजल ईंधन तेलों के उपयोग से कार्बन मोनोऑक्साइड और कार्बन डाइऑक्साइड गैसें निकलती हैं। वे हवा से गर्म और हल्के होते हैं। इसलिए वे वायुमंडल में ऊपर जाते रहते हैं। साथ ही कोयला आधारित बिजली संयंत्र यानी थर्मल पावर प्लांट मानवीय गतिविधियों (यानी न केवल उद्योग बल्कि अन्य गतिविधियों) के परिणामस्वरूप वायुमंडल में जल वाष्प, मीथेन, नाइट्रस ऑक्साइड और सीएफसी (क्लोरोफ्लोरोकार्बन) जोड़ना जारी रखते हैं। ये सीएफसी स्वाभाविक रूप से नहीं होते हैं। वे 100 प्रतिशत मानव निर्मित हैं। वायुमंडल में इसकी कुल मात्रा न्यूनतम है। ये मिलकर वायुमंडल के अन्य तत्वों की तुलना में नगण्य हैं। उनका योग एक प्रतिशत का कुछ सौवां हिस्सा भी नहीं है लेकिन जैसे जहर की एक बूंद घातक हो सकती है, या नमक की एक गांठ दूध को खराब कर सकती है, ये गैसें, जो कुल वायुमंडल के एक प्रतिशत के सौवें हिस्से से भी कम बनाती हैं, पृथ्वी के वायुमंडल की रोशनी को बदल देती हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि ये गैसें गर्मी को अवशोषित कर सकती हैं और इसे संग्रहीत कर सकती हैं। दिन के समय सूर्य का प्रकाश पृथ्वी पर पड़ता है। यह पृथ्वी को गर्म करता है।

प्रकाश की किरणें ग्रीनहाउस गैसों यानी ग्रीन हाउस गैसों से होकर गुजर सकती हैं। वैज्ञानिक भाषा में कहा जाता है कि ग्रीनहाउस गैसें प्रकाश के प्रति पारदर्शी होती हैं। इस प्रकाश के परिणामस्वरूप पृथ्वी गर्म होती है। अर्थात् प्रकाश ऊर्जा ऊष्मा में परिवर्तित हो जाती है। रात के समय पृथ्वी का यह भाग ठंडा होने लगता है। इसका मतलब यह है कि यह गर्मी जमीन से निकलकर अंतरिक्ष में लौटने की कोशिश करती है। उस समय, वायुमंडल में ये गैस अणु इस गर्मी को संग्रहीत करते हैं। यह ऊष्मा उन अणुओं को अंतरिक्ष में पार नहीं कर सकती। इससे अंतरिक्ष का औसत तापमान बढ़ जाता है। यह तापमान उनके आसपास के अणुओं को भी प्रदान किया जाता है। जैसे-जैसे वायुमंडल में इन ग्रीनहाउस गैसों की मात्रा बढ़ती है, वायुमंडल का औसत तापमान भी बढ़ता जाता है।

19वीं शताब्दी में औद्योगिक क्रांति के बाद, प्राचीन काल में दबे हुए जंगलों का उपयोग व्यापक रूप से मनुष्यों द्वारा ईंधन के रूप में किया जाता था। जब जंगल दफ़न किये गये, तो कुछ सूक्ष्म जीव भी दफ़नाये गये। ऐसी अनेक घटनाएँ पृथ्वी पर निरन्तर घटती रहती हैं, इसलिए हमारी पृथ्वी एक गतिशील प्रणाली मानी जाती है। यदि हम यह बताने जायें कि ये घटनाएँ क्यों और कैसे घटती हैं, जैसा कि पोथियों में लिखा जाता है, उससे ग्रन्थ का विस्तार तो होगा, लेकिन इन घटनाओं के दौरान भारी दबाव पैदा होता है, गर्मी पैदा होती है।

ग्लोबल वार्मिंग क्यों बढ़ रही है? इसके कुछ सरल उदाहरण मनुष्य की विलासितापूर्ण जीवनशैली से संबंधित हैं। वर्तमान समय में पूरे विश्व में तापमान बढ़ने लगा है, इसे ग्लोबल वार्मिंग कहा जाता है तो फिर तापमान में बढ़ोतरी क्यों हो रही है? और इसकी वजह से कहीं भारी बारिश हो रही है, तो कहीं ओलावृष्टि हो रही है। पर्यावरण का संतुलन बिगड़ गया है। यह पारिस्थितिक संतुलन क्यों गड़बड़ा गया है? तो इसका कारण हम स्वयं हैं। लोगों को पता ही नहीं चलता कि हमने खुद ही अपने ऊपर ‘हीटर’ लगा रखा है तो यह किस प्रकार का ‘हीटर’ है? एयर कंडीशनर एक हीटर है! आज दुनिया में एयर कंडीशनिंग जिस विशाल तरीके से बढ़ रही है, उसकी कोई कल्पना भी नहीं कर सकता। एयर कंडीशनिंग कमरे को अंदर से ठंडा करने के लिए है, लेकिन एयर कंडीशनर जो हवा बाहर फेंकता है वही हीटर है। वहीं, आप कारों में पेट्रोल यानी कारों के एग्जॉस्ट से निकलने वाला धुआं जलाते हैं, यानी आपने हर कार के लिए एक हीटर लगाया है और ऐसे अरबों हीटर लगाने के बाद आखिर में क्या होगा?

गैसों के क्लोरोफ्लोरोकार्बन (सीएफसी) परिवार का उल्लेख पहले ही ग्रीनहाउस गैसों के रूप में किया जा चुका है। ये गैसें मानव निर्मित हैं और 1940 के आसपास उपयोग में आईं। इन कृत्रिम गैसों का उपयोग मुख्य रूप से हमारे फ्रिज, एयरोसोल डिब्बे और इलेक्ट्रॉनिक उद्योग में ठंडा करने के लिए किया जाता है। ये गैसें वर्तमान ग्रीनहाउस प्रभाव का 25 प्रतिशत हिस्सा हैं। ये गैसें पृथ्वी के करीब होने पर ज्यादा नुकसान नहीं पहुंचाती हैं। जैसे ही वे ऊपरी वायुमंडल में जाते हैं, उनके अपघटन उत्पाद ओजोन, ऑक्सीजन का एक रूप (ओ3) को ऑक्सीजन के सामान्य रूप (ओ2) में बदल देते हैं। यह ओजोन गैस की परत है, जो हमें सूर्य से आने वाली पराबैंगनी विकिरण से बचाती हैं ये टेंड्रिल न केवल वातावरण को गर्म करते हैं, लेकिन इनके कारण हमें त्वचा कैंसर समेत अन्य बीमारियों का सामना करना पड़ता है।

पृथ्वी के औसत तापमान में वृद्धि, एक निश्चित सीमा तक बढ़ना, फिर तेजी से घटने और उसके बाद हिमयुग बनने का चक्र कई अरब वर्षों तक जारी रहा होगा। हम कह सकते हैं कि यह निश्चित रूप से पिछले कुछ मिलियन वर्षों से चल रहा है। ऐसा इसलिए है, क्योंकि प्रकृति ने हमारे लिए पिछले कुछ मिलियन वर्षों में पर्यावरण में हुए बदलावों के सबूत सुरक्षित रखे हैं। इससे यह पता चला है कि तापमान में इतनी तेजी से वृद्धि हुई है, जो पिछले सौ वर्षों में पहले कभी नहीं हुई थी।

अब देखते हैं कि वार्मिंग का क्या असर होगा! जैसे ही ग्रीनलैंड और आर्कटिक की बर्फ पिघलेगी, वह पानी अटलांटिक महासागर में मिल जाएगा। इससे गल्फ स्ट्रीम ठंडी हो जाएगी। ठंडा पानी समुद्र तल में चला जाता है। तदनुसार, गल्फ स्ट्रीम भी ठंडी होकर समुद्र तल में चली जायेगी और इसी प्रकार यह यूरोप की ओर जाकर दक्षिण की ओर मुड़ जायेगी। इससे यूरोप जम जायेगा। दूसरे, इतना ताज़ा पानी समुद्र में मिलने से समुद्र का खारापन कम हो जाएगा। इसलिए, गल्फ स्ट्रीम बहुत गहराई तक नहीं डूबेगी, क्योंकि इसका घनत्व कम हो गया होगा। इसके परिणामस्वरूप ऊष्मा चालन प्रवाह धीमा हो जाएगा और धीरे-धीरे बंद हो जाएगा।

जो गल्फ स्ट्रीम का होगा, वही अल नीनो का भी होगा! यह दक्षिण ध्रुवीय ठंडे पानी के साथ मिल जायेगा। जिस वर्ष अल नीनो प्रबल होता है, उस वर्ष भारत में सूखा पड़ता है। इसके कारण भारत के कुछ भागों में वर्षा बढ़ जाती है। इसका ज्वलंत उदाहरण हाल के दिनों में बादल फटने का बढ़ा हुआ प्रभाव है। अन्य जगहों पर अल नीनो की ठंडी बारिश होगी। राजस्थान में सूखा, बिहार में बाढ़, बिहार में बारिश, राजस्थान में बाढ़ की सामान्य खबर पलटते रहने की संभावना है। हाल ही में दुबई में बारिश के कारण जो हाहाकार मचा, उस पर ध्यान दें। योजना के संदर्भ में आपकी समग्र चीख को देखते हुए, यह कल्पना करना अच्छा है। यह भी याद रखना चाहिए कि जब भी दुनिया में कहीं भी लगातार भारी बारिश होती है या लगातार सूखा पड़ता है, तो बड़े पैमाने पर पलायन होता है। जब वैश्विक तापमान बढ़ता है, तो कुछ स्थानों पर सूखा पड़ता है, और कुछ स्थानों पर भारी वर्षा शुरू हो जाती है। जहाँ अकाल पड़ता है, वहाँ कुपोषण की बीमारियाँ बढ़ती हैं, अपराध भी बढ़ता है। दूसरी ओर, जहाँ भारी वर्षा होती है, वहाँ जल-जनित बीमारियाँ जैसे हैजा, नारू और विभिन्न मच्छर जनित बीमारियाँ बढ़ जाती हैं। जो स्थान पहले शुष्क थे, वहाँ जब इतनी भारी वर्षा होने लगती है, तो वहाँ के लोग शीघ्र ही ऐसी बीमारियों की चपेट में आ जाते हैं। ऐसा इसलिए है, क्योंकि इस क्षेत्र में जल-जनित बीमारियों की संख्या कम है और वहां के लोगों की प्राकृतिक प्रतिरोधक क्षमता कम है। यदि ग्लोबल वार्मिंग को रोकना है, तो वातावरण में कार्बन डाइऑक्साइड गैस को कम करने के उपाय करने होंगे। इसका एकमात्र उपाय पेड़ उगाना है। यदि हम वायुमंडल में कार्बन डाइऑक्साइड की वर्तमान मात्रा को रोकना चाहते हैं, तो हमें इसका उत्पादन कम करना होगा, लेकिन वनों के अंतर्गत भूमि को वर्तमान से बीस से तीस गुना बढ़ाया जाना चाहिए। ये योजनाएं अभी तक कागजों पर भी नहीं हैं। तो सवाल यह है कि ये कब प्रभाव में आएंगे और कब कार्बन डाइऑक्साइड को नष्ट करेंगे!

पिछले कुछ सालों में अमेरिका और ऑस्ट्रेलिया के जंगलों में लगी आग ने काफी भीषण रूप ले लिया था। लेकिन वहाँ गेहूँ उत्पादक क्षेत्र में सूखा पड़ा। इन दोनों चीजों से ऑस्ट्रेलिया काफी प्रभावित है। भारत की जनसंख्या बहुत अधिक है। इसके अलावा यहां गरीबी और असमानता भी व्यापक है। अत: ग्लोबल वार्मिंग के बड़े परिणाम भारत को भुगतने पड़ेंगे। हालाँकि, उपरोक्त उदाहरणों से हमें यह एहसास होगा कि इंसानों ने अपनी जरूरतों को पूरा करने के लिए प्राकृतिक चक्र में हस्तक्षेप किया है और अपने लिए खुद ही ‘हीटर’ स्थापित किया है। अगर समय रहते नहीं संभले तो यही ‘हीटर’ तुम्हें जलाए बिना नहीं रहेगा, ये काले पत्थर पर बनी लकीर है!

गौर कीजिए कोरोना काल में जब गाड़ियां ही बंद थीं, तो माहौल कितना साफ था। वातानुकूलित घर, मॉल, होटल, अस्पताल पर्यावरण-अनुकूल तरीके से नहीं बनाए जाने चाहिए, जागरूक नागरिक वातानुकूलन का विरोध करते हैं, तापीय ऊर्जा के स्थान पर जल विद्युत या सौर ऊर्जा संयंत्र स्थापित करते हैं, विशाल वृक्ष लगाते हैं, जलाशय बनाते हैं, रसायन बनाते हैं नई सड़कों का निर्माण करते समय मुक्त कृषि, पेड़ों को काटे बिना मौजूदा सड़क के दोनों किनारों पर ट्रिपल बांध जैसे कई उपायों को तत्काल लागू करना समय की मांग है।

0000000000000000000000000

लेखक- प्रकाश पोहरे
प्रतिक्रियाओं के लिए:
प्रकाश पोहरे को सीधे 9822593921 पर कॉल करें या इस व्हाट्सएप पर अपनी प्रतिक्रिया भेजें।
(कृपया फीडबैक देते समय अपना नाम, पता लिखना न भूलें)

000000000000000000000000

Latest articles

क्या अध्यक्ष पद के बहाने टीडीपी और जेडीयू को भड़काकर कांग्रेस गिरा देगी मोदी सरकार

18वीं लोकसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी को भले ही बहुमत से 32 सीटें...

संजय राउत: एनडीए का स्पीकर नहीं बना तो जदयू और टीडीपी को तोड़ देगी बीजेपी !

न्यूज़ डेस्क मोदी की तीसरी बार सरकार तो बन गई लेकिन लोकसभा में स्पीकर को...

गंगा दशहरा के दिन पटना के बाढ़ में पलटी नाव, लापता लोगों को खोज रही एसडीआरएफ की टीम

बिहार में अक्सर हर पर्व के अवसर पर कहीं न कहीं नदी में लोगों...

बनारस में गंगा दशहरा के अवसर पर हजारो लोगों ने लगाई आस्था की डुबकी !

न्यूज़ डेस्क कशी के पवित्र घाट पर गंगा दशहरा के अवसर पर आज हजारों लोगों...

More like this

क्या अध्यक्ष पद के बहाने टीडीपी और जेडीयू को भड़काकर कांग्रेस गिरा देगी मोदी सरकार

18वीं लोकसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी को भले ही बहुमत से 32 सीटें...

संजय राउत: एनडीए का स्पीकर नहीं बना तो जदयू और टीडीपी को तोड़ देगी बीजेपी !

न्यूज़ डेस्क मोदी की तीसरी बार सरकार तो बन गई लेकिन लोकसभा में स्पीकर को...

गंगा दशहरा के दिन पटना के बाढ़ में पलटी नाव, लापता लोगों को खोज रही एसडीआरएफ की टीम

बिहार में अक्सर हर पर्व के अवसर पर कहीं न कहीं नदी में लोगों...